Tarangini/Nadi/तरंगिनि/नदी

Tarangini/Nadi/तरंगिनि/नदी

पर्वत से मैं चली ऐंठकर, इठलाती बलखाती,
निर्मल जल की रानी मैं ,जन-जन की प्यास बुझाती,
निर्मल जल की रानी मैं ,जन-जन की प्यास बुझाती ||
जात-पात और धर्म ना जानू,
किसका क्या है कर्म ना जानू,
मानव कौन ,कौन है दानव,
पशु-पक्षी सब एक सा मानु,
भू-नभ के सब जीव-जंतु को, अपने गले लगाती,
निर्मल जल की रानी मैं ,जन-जन की प्यास बुझाती ||
खेतों में हरियाली लाती,
जीव-जंतु का भोजन दाती,
चंचल,शोख ना बंधन मेरा,
कौन हूँ मैं क्या नाम है मेरा,
सरिता,नद,जलमाता मैं ही, मैं ही नदी कहाती,
निर्मल जल की रानी मैं जन-जन की प्यास बुझाती ||
पर धरती पर आकर जाना,
मानव को मैंने पहचाना,
कहता माँ और बांध दिया है,
शहर के सारे कचरे और,
नाली भी मुझमें डाल दिया है,

कहीं कहीं तो मानव ने ,

नाली ही मुझको मान लिया है
कैसे कहता माँ मुझको फिर, मौन पड़ी रह जाती,
निर्मल जल की रानी मैं ,जन-जन की प्यास बुझाती ||
सारे जग को मैंने देखा,
मानव जैसा कहीं ना देखा,
कितना प्रेम किया इस नर से,
फिर भी इसने छलना सीखा,
छलते छलते थक जाओगे,
मानव मुझ बिन मर जाओगे,
सम्हल सको तो सम्हलो, मैं फिर बारम्बार चेताती,
निर्मल जल की रानी मैं ,जन-जन की प्यास बुझाती ||
सरिता,नद, अभागन मैं ही, मैं ही नदी कहाती,

!!! मधुसूदन !!!

 Tarangani/Nadi


Parwat se main chali aithkar ithlaati, balkhaati,
Nirmal jal ki raani main jan-jan ki pyaas bujhaati,
Nirmal jal ki raani main jan-jan ki pyaas bujhaati |

Jaat-paat aur dharm naa jaanu,
Kiska kyaa hai karm naa jaanu,
maanav kaun Kaun hai daanav,
Pashu-pakshi ek saa maanu,
Bhumandal ke jeev-jantu sabko main gale lagaati,
Nirmal jal ki raani main jan-jan ki pyaas bujhaati.


Kheton men hariyaali laati,
Nirmal jal se tujhe lobhaati,
Chanchal shokh naa bandhan mera,
Kaun hun main kyaa naam hai mera,
Sarita, nad, jalmaata main hi main hi nadi kahaati,
Nirmal jal ki raani main jan-jan ki pyaas bujhaati.


Par dharti par aakar jaana,
Maanav ko maine pehchaana,
Kahta Maa aur bandh diyaa hai,
Shahar ke saare kachre aur,
Naali bhi mujhmen daal diyaa hai,
Kaise kahta Maa phir mujhko maun padi rah jaati
Nirmal jal ki raani main jan-jan ki pyaas bujhaati.


Saare jag ko maine dekha,
Maanav jaisa kahin naa dekhaa,
Kitna prem kiya es nar se,
Phir bhi esne chhalna sikhaa,
Chhalte chalte thak jaaoge,
mujh bin ek din mar jaaoge,
samhal sako to samlo main barambaar chetaati,
Nirmal jal ki raani main jan-jan ki pyaas bujhaati.
Sarita, nad, jalmaata main hi main hi nadi kahaati.


!!! Madhusudan !!!

 

 

Advertisements

13 thoughts on “Tarangini/Nadi/तरंगिनि/नदी

    1. धन्यवाद, वैसे सोंचने से पूरे दिन में भी कोई शब्द नहीं आता परंतु किसी के बोल पढ़ने से अनायास ही शब्द निकल पड़ते हैं। पुनः धन्यवाद आपको आपके लेख के लिए।

      Liked by 1 person

      1. जी आभार आपका भी की आपने मुझसे श्रेष्ठ सोचा और मुझे एक नई कविता पढ़ने को मिली

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s