Sarhad

Sarhad

सरहद

उत्तर, दक्षिण, पूरब, पश्चिम है दुश्मन के घाट-घाट,
मेरे राम – रहीमा,…………
थाम ले हमरी बांह ……रे मोरे राम रहीमा……….
थाम ले हमरी बांह ||
ये धरती है राम का जिसने रावण का सहार किया,
भूल गयी दुनियां कृष्ना ने यहीं से गीता ज्ञान दिया,2
इस पावन धरती पर अब तो दुश्मन देखे झांक-झाँक,
मेरे राम – रहीमा,…………
थाम ले हमरी बांह ………रे मोरे राम रहीमा……….
थाम ले हमरी बांह ||
यहीं हुए हैं महावीर और बुद्ध ने यहीं पर जन्म लिया,
सत्य – अहिंसा का दुनिया को यहीं से उसने मंत्र दिया 2
ऋषियों की इस धरती माँ पर दुश्मन देखे झाँक-झाँक,
मेरे राम – रहीमा,…………
थाम ले हमरी बांह ……..रे मोरे राम रहीमा……….
थाम ले हमरी बांह ||
बिना शस्त्र के पस्त किये उस गांधी को वह भूल गया,
लाल-बाल और पाल को भी लगता है दुश्मन भूल गया ||
बीरों की इस भूमि पर अब दुश्मन देखे झाँक-झाँक,
मेरे राम – रहीमा,…………
थाम ले हमरी बांह ……..रे मोरे राम रहीमा……….
थाम ले हमरी बांह ||
दुश्मन सरहद पार खड़ा एक साथ में अंदर रहता है,
तेरी धरती माँ पर दोनों छुपकर हमला करता है,
जहां भगत सिंह हर बच्चा, हर गली में है आज़ाद खड़ा,
कफ़न बांध शिर सरहद पर सेना है सीना तान खड़ा,
दे इतनी शक्ति दुश्मन का ,गर्दन दूँ मैं काट-काट,
मेरे राम – रहीमा,…………
थाम ले हमरी बांह ……..रे मोरे राम रहीमा……….
थाम ले हमरी बांह ||
उत्तर, दक्षिण, पूरब, पश्चिम है दुश्मन के घाट-घाट,
मेरे राम – रहीमा,…………
थाम ले हमरी बांह ……रे मोरे राम रहीमा……….
थाम ले हमरी बांह ||
!!! मधुसूदन !!!

Sarhad,

Uttar, Dakshin, Purab, Paschim hai dushman ke ghaat-ghaat,

More Ram, Rahimaa……..,

Thaam le hamri baanh…………re more Ram, Rahimaa

Thaam le hamri baah.

Ye dharti hai Ram ka jisne Rawan ka sanhaar kiyaa,

Bhul gayee duniyaan krishnaa ne yahin se Geeta gyaan diyaa,2

Es paawan dharti par ab to dushman dekhe jhaak- jhaak,

More Ram, Rahimaa……..,

Thaam le hamri baanh…………re more Ram, Rahimaa

Thaam le hamri baah.

Yahin  huye hain Mahaveer aur Buddh ne yahin par janm liyaa,

Satya-Ahinsaa ka duniyaan ko yahin se usne mantra diyaa,2

Rishiyon ki es dharti maa par dushman dekhe jhaak-jhaak,,

More Ram, Rahimaa……..,

Thaam le hamri baanh…………re more Ram, Rahimaa

Thaam le hamri baah.

Binaa shastra ke past kiye us Gandhi ko jag bhul gaya,

Laal-Baal aur Paal ko bhi lagta hai dushman bhul gaya,2

Biron ki es bhumi par ab dushman dekhe jhaak-jhaak,

More Ram, Rahimaa……..,

Thaam le hamri baanh…………re more Ram, Rahimaa

Thaam le hamri baah.

Dushman sarhad paar khadaa ek saath men andar rahta hai,

Teri dharti maa par dono chhupkar hamlaa karta hai,

Jahaan Bhagat singh har bachcha har gali men hai Azaad khada,

Kafan baandh sir sarhad par senaa hai seenaa taan khadaa,

De itni shakti dushman ka gardan du mai kaat-kaat,

More Ram, Rahimaa……..,

Thaam le hamri baanh…………re more Ram, Rahimaa

Thaam le hamri baah.

Uttar, Dakshin, Purab, Paschim hai dushman ke ghaat-ghaat,

More Ram, Rahimaa……..,

Thaam le hamri baanh…………re more Ram, Rahimaa

Thaam le hamri baah.

!!! Madhusudan !!!

 

 

Advertisements

11 thoughts on “Sarhad

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s