Dil ki bechaini

Dil ki bechaini

दिल की बेचैनी

छल से भरी इस दुनियां में ऐ दिल हम किससे प्यार करें,
डर लगता है गिर जाने का हम किस किस पर ऐतबार करें।
मुश्किल से खुद को जोड़ा है,
यादों को पीछे छोड़ा है,
मतलब से भरी इस दुनिया से,
मुश्किल से रिस्ता तोडा है,
अंजान  डगर, अंजान  शहर, क्यों  पागल तू  नादान बनें,
डर लगता है गिर जाने का हम किस किस पर ऐतबार करें।|

कितने हम खुल कर रहते हैं,
पंछी जैसे हम उड़ते हैं,
जीवन फिर तितली जैसा है,
क्यों दिल फिर जिद कर बैठा है,
ऐ मोम से कोमल दिल मेरा क्यों बहकी-बहकी बात करे,
डर लगता है गिर जाने का किस-किस पर हम ऐतवार करें ||

पलकों पर जो दिन -रात रहा,
अपना तुमको ना मान सका,
था एक मुशाफिर किस्ती का,
फिर भी ना समंदर जान सका,
अब और ना तुम मज़बूर करो, हम रोकर तुमसे बात करें,
डर लगता है गिर जाने का किस-किस पर हम ऐतवार करें ||

क्यों मोम जिगर फिर पिघल गया,
चिकनी बातों में फिसल गया,
धड़कन पर मेरा जोर नहीं,
इतना दिल तुम कमज़ोर नहीं,
क्यों पास मेरे वह आता है,
संसार सिमट सा जाता है,
जब दूर मेरे वह जाता है,
बेचैन जिगर हो जाता है,
अब चैन नहीं क्या कर डाला दिल, थककर हम इकरार करें,
डर लगता है गिर जाने का फिर भी हम उससे प्यार करें,
डर लगता है गिर जाने का कह दो उससे हम प्यार करें ||

!!!  मधुसूदन  !!!

Dil ki Bechaini

nafrat se bhari es duniyan men ai dil ham kisse pyaar karen,
dar  lagta hai  gir  jaane  ka  kis-kis par ham  aitwaar  karen ||

mushkil se khud ko joda hai,
yaadon ko peechhe chhodahai,
matlab se bhari es duniyan se,
mushkil se rista toda hai,
anjaan dagar,anjaan shahar, kyun paagal tu naadaan bane,
dar lagtaa hai gir jaane kaa ham kis-kis par aitwaar karen..

kitne ham khul kar rahten hain,
panchhi ban jag men udte hain,
jiwan phir titli jaisa hai,
kyun dil tu jid kar baitha hai,
ai mom se komal dil meraa kyun bahki bahki baat kare,
dar lagtaa hai gir jaane kaa kis-kis par ham aitwaar karen.

palkon par jo din raat raha,
apna tumko  naa  maan sakaa,
thaa ek mushaafir kisti ka,
phir bhi naa samandar jaan sakaa,
ab aur naa tum mazboor karo,ham rokar tumse baat karen,
dar lagta hai gir jaane ka  kis-kis par ham aitwaar karen.

kyun mom jigar phir pighal gaya,
chikni baaton men phisal gaya,
dhadkan par mera jor nahin,
itnaa dil tum kamjor nahin
kyun paas mere wah aataa hai,
sansaar simat saa jaataa hai,
jab dur mere wah jaataa hai,
bechain jigar ho jaataa hai,
ab chain nahi kyaa kar daalaa, dil  thak kar ham ekraar karen,
dar  lagta  hai  gir  jaane  kaa  phir  bhi ham usse pyaar  karen.
dar  lagtaa  hai  gir  jaane  kaa  phir  ham  usase  pyaar  karen .

!!! Madhusudan !!!

 

 

Advertisements

9 thoughts on “Dil ki bechaini

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s