Tadap

Tadap

समझ में ना आता ये तेरी खुदाई,

ये कैसा मिलन है ये कैसी जुदाई,
मिलते हैं लोग क्यों निशान छोड़ जाते है,
तड़पने को सारा जहान छोड़ जाते हैं |
तड़पने को सारा जहान छोड़ जाते हैं ||

पलभर बिछड़कर मुश्किल था जीना,
जीवन का ये डोर किसने है छीना,
कैसे वे बीच मजधार छोड़ जाते हैं,
तड़पने को सारा जहान छोड़ जाते हैं |

सपने हज़ारों पल में बिखर गए,
आँखों का काजल आंसू में बह गए,
माथे की बिंदिया हाथों की चूड़ी,
तन पर के सारे कपडे बदल गए,
बदला हुआ क्यों जहान छोड़ जाते हैं,
कैसे वे बीच मजधार छोड़ जाते है.
तड़पने को सारा जहान छोड़ जाते हैं |

बुढापे की लाठी आंखों का तारा,
माँ-बाप का वह कहाँ है सहारा,
हिमालय ह्रदय अब पिघलने लगा है,
लहू बन के आँखों से बहने लगा है,
अजब सा सन्नाटा बिरह बेदना का,
उजड़ा हुआ क्यों जहान छोड़ जाते हैं,
कैसे वे बीच मजधार छोड़ जाते हैं,
तड़पने को सारा जहान छोड़ जाते हैं ||

कब हम रुकेंगे, कब हम झुकेंगे,
शांति भरा जग कब हम करेंगे,
कहीं धर्म-जाति कहीं पर ये सरहद,
कब तक सियासत में पिसते रहेंगे,
सदियों से देखा प्रभु ये लड़ाई,
समझ में ना आता ये तेरी खुदाई,
दुनियां में क्यों बीच राह छोड़ जाते हैं
तड़पने को सारा जहान छोड़ जाते हैं |
तड़पने को सारा जहान छोड़ जाते हैं ||
!!! मधुसूदन !!!

Tadap

Samajh men na aataa ye teri khudaayee,
Ye kaisa milan hai ye kaisi judaayee,
Milte hain log kyun nishaan chhod jaate hain,
Tadapne ka saara jahaan chhod jaate hain,
Tadapne ka saara jahaan chhod jaate hain.

Palbhar bichhadkar mushkil tha jeenaa,
Jeewan ke ye dor kisne hai chhinaa,
Kaise o beech majdhaar chhod jaate hain,
Tadapne ka saara jahaan chhod jaate hain.1

Sapne hazaaron pal men bikhar gaye,
Aankhon kaa kaajal aanshun men bah gaye,
Maathe ki bindiya,haathon ki chudi,
Tan par ke saare kapde badal gaye,
Badlaa hua kyun jahaan chhod jaate hain,
Tadapne ka saara jahaan chhod jaate hain.2

Budhaape kaa laathi, aankhon kaa taaraa,
Maa baap kaa wah kahaan hai sahaara,
Himaalay hriday ab pighalne lagaa hai,
Lahu ban ke aankhon se bahne lagaa hai,
Ajab saa sannaataa birah bednaa kaa,
Ujadaa huaa kyun jahaan chhod jaate hain,
Kaise o bheech majdhaar chhod jaate hain,
Tadapne ka saara jahaan chhod jaate hain.3

Kab ham rukenge, kam ham jhukenge,
Shaanti bharaa jag kab ham karenge,
Kahin dharm jaati kahin par ye sharhad,
Kab tak siyaasat me piste rahenge,
Sadiyon se dekhaa prabhu ye ladaayee,
Samajh men naa aataa ye teri khudaayee,
Duniyaan men kyun bich raah chhod jaate hain,
Tadapne ka saara jahaan chhod jaate hain.4
!!! Madhusudan !!!

Advertisements

4 thoughts on “Tadap

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s