Manav Trishnaa

Manav Trishnaa

कैसा अपना हाल किया है,

संकट जग पर डाल दिया है,
आँखें खोल जगत को देखो, ऐ पागल नादान,
बच्चा तरसे दूध को जग में पानी को इंसान,
बच्चा तरसे दूध को देखो पानी को इंसान ||
देखो मोर, पपीहा गाये,
कोयल मीठी तान सुनाये,
रंग बिरंगी पंछी के संग,
मानो स्वागत गान सुनाये,
मन भावन फूलों से सजकर,
धरती को हरियाली भरकर,
वारिस के बूंदों के संग में,
सृस्टि तुम पर प्रेम दिखाए,
देख प्रकृति जगा रही क्यों बहरा बना जहान,
बच्चा तरसे दूध को देखो पानी को इंसान ||
जिस डाली से फल पाया ,
उस डाली को क्यों काट रहा है,
जिस जंगल से जीवन है,
उस जंगल को भी काट रहा है,
नदियाँ चंचल बहनेवाली,
उसको भी तुम तुम बाँध रहा है,
पत्थर के संसार का मालिक,
पर्वत भी क्यों काट रहा है,
बहरा है या मृत पड़ा है कैसा है इंसान,
बच्चा तरसे दूध को देखो पानी को इंसान ||
नदियाँ,
झरने, ताल-तलैया,
कूप गांव के सुख रहे हैं,
जीव-जंतु संग गौ माता भी,
तेरे कारण मिट रहें हैं,
बृक्ष के दुश्मन,मुर्ख सम्हल जा,
जल बिन प्यासे मर जाओगे,
गौ की ह्त्या करनेवालों,
दूध कहाँ से तुम लाओगे,
अपने सिर पर पत्थर खुद क्यों मार रहा इंसान,
बच्चा तरसे दूध को देखो पानी को इंसान ||

!!! मधुसूदन !!!

Manav Trishnaa

Kaisaa apnaa haal kiyaa hai,

Sankat jag par daal diyaa hai,

Aankhen khol jagat ko dekho, ai paagal, naadan,

Bachcha tarse dudh ko dekho paani ko Insaan,

Bachcha tarse dudh ko jag men paani ko Insaa.

 Dekho Mor, papihaa gaaye,

Koel mithi taan sunaaye,

Rang birange panchhi ke sang,

Maano swaagat geet sunaaye,

Man bhaawan bhulon se sajkar,

Dharti ko hariyaali bharkar,

Baris ke bundon ke sang men,

sristi Maano  prem dikhaaye,

dekh prakriti jagaa rahi kyun bahraa hai insaan

Bachcha tarse dudh ko jag men paani ko Insaan.

Jis daali ne aam diyaa,

O daali kaat rahe ho,

Jis jangal se jiwan hai,

O jangal kaat rahe ho,

Naniyaan chanchal bahnewali,

Usko baandh rahaa hai,

Patthar kaa sansaar banaa,

kyun Parwat tod rahaa hai,

Bahraa hai yaa mrit padaa hai kaisaa hai insaan,

Bachcha tarse dudh ko jag men paani ko Insaan,

Nadiyaan, jharne,Taal talaiyaa,

Kup gaon ke sukh rahen hai,

Jeev-jantu sang gau maataa bhi,

Tere kaaran mit rehe hain,

Briksh ke dushman, murkh samhal jaa,

Jal bin pyaase mar jaaoge,

Gau ki hatyaa karnewaalon,

Dudh kahaan se tum laaoge,

Apne sir par patthar khud kyun maar rahaa insaan,

Bachcha tarse dudh ko dekho paani ko Insaan.

!!!  Madhusudan !!!

Advertisements

12 thoughts on “Manav Trishnaa

    1. अच्छा लगा —–उसके लिए सुक्रिया—–वैसे मैंने आपके कविता को पढ़ने के बाद बिचार आया—–फिर आपके ही शब्दों का इस्तेमाल किया——नया वर्जन अच्छा लगा—-धन्यवाद

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s