Safar

Safar

हंस लो गा लो खुशियां मनालो,
जीवन के हर एक पल मुश्कुरालो,
क्या जाने कब रूठ जायेगा कोई,
अपना बना छोड़ जाएगा कोई,
हर पल तुझे फिर रुलाएगी दुनियां,
एक दिन तुझे फिर रुलाएगी दुनियां ।।

खुशियां जहाँ की द्वारे खड़ी है,
किस बात पर तेरी अँखियाँ भरी है,
क्या खो गया जो खोया हुआ है,
चिंता में किसकी तू सोया हुआ है,
मत सोंच तुझको मनाएगी दुनियां,
हर पल तुझे यूँ रुलाएगी दुनियां।।

जीवन सफर में जो भी मिला है,
हंसकर उसे तुम गले से लगा लो,
खुशबू भरा तुमको जीवन मिला है,
गुलशन-जहाँ खुद अपनी बना लो,
लंबी सफर बड़ी मुश्किल डगर है,
कांटो से ज्यादा फूलों से डर है,
मीठे बचन से सताएगी दुनियां,
मत सोच तुझको मनाएगी दुनिया,
हर पल तुझे यूँ रुलाएगी दुनियां।।

बना पंचतत्वों का तन है तुम्हारा,
किस बात पर इतना इतरा रहा है,
संग ना चलेगा कफ़न भी तुम्हारे ,
क्या खो गया फिर पछता रहा है,
मिले थे मुशाफिर जो जीवन सफर में,
एक एक करके बिछड़ जाएंगे सब,
अकेला चला था जीवन सफर में,
अकेला तुझे फिर बना जाएंगे सब,
क्यों रो रहा फिर खुशियां मनाले,
जीवन के हर एक पल मुश्कुराले,
क्या जाने फिर रूठ जाएगा कोई,
हर पल तुझे यूँ रुलाएगी दुनियां,
एक दिन तुझे फिर रुलाएगी दुनियां.

!!! मधुसूदन !!!

Advertisements