Madiraalay

Madiraalay

हम सब शराबी, दुनियां एक मयखाना है,
किसी को नशा किसी को,नशे का बहाना है,
वैसे तो दो घुट पीनेवाले,पीकर बहक जाते हैं,
देखते ही देखते उनके, जाम बदल जाते है,
गिरते हैं खुद वे लड़खड़ाकर मयखाने में
जश्ने संसार मय को, दोषी बना जाते है,
मंजर अजीब देखा दुनियां के मैखाने में,
कितने बेचैन हैं सब औरों को गिराने में,
बाहरवाले सोंचते होंगे बड़े मजे है,
उनका जो रहतें हैं मयखाने में,
उन्हें क्या मालूम कुछ ऐसे भी हैं,
जो प्यासे रह जाते है, मय सा जमाने में।
जो पास है वो बेहद ही ख़ास है,
मय के समंदर बीच कैसी फिर प्यास है,
आ मिल जाम ख़ुशी का,टकराएं मैखाने में,
थोड़ी सी प्यार और बढ़ाएं जमाने में,
थोड़ी सी मिठास और बढ़ाएं जमाने में।
!!!मधुसूदन!!!

बाहरवाले -–-मतलब——धरती से परे।

Madiraalay

Ham sab sharaabi,duniyaan ek maikhaanaa hai,

Kisi ko nasha, kisi ko nashaa kaa bahaana hai.

Waise to do ghut pinewaale pikar bahak jaate hain,

Dekhte hi dekhte unke jaam badal jaate hain,

Girte hai khud we ladkhadaakar maikhaane men,

Jashne sansaar mai ko, doshi banaa jaate hain,

Manjar azib dekha duniyaan ke maikhaane men,

Kitne bechain hain sab auron ko giraane men,

Baaharwaale sochte honge bade maje  hai Unka,

jo rahte hain maikhaane men,

Unhen kyaa maalum kuchh aise bhi hain,

Jo pyaase rah jaate hain mai saa jamaane men.

Paas hai wo behad hi khaash hai,

May ke samandar bich kaisi phir pyaas hai,

Aa mil jaam khushi ka takraaye maikhaane men,

Thodi si pyaar aur badhaayen jamaane men,

Thodi si mithaas aur badhaayen jamaane men.

!!! Madhusudan !!!

Advertisements

25 thoughts on “Madiraalay

      1. आपका भरोसे एवं प्रोत्साहन को बनाये रखने का प्रयास करूँगा—-वैसे मैं लिखता नहीं लिखा जाता है——सुक्रिया अभय जी

        Like

    1. क्या बात——ऐसी बात नहीं है—-उनकी कविता को भला कोई कैसे भूल सकता है——-प्रोत्साहन के लिए आपका कोटि कोटि आभार।

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s