Beti ki Kahani usi ki Jubani

Beti ki Kahani usi ki Jubani

एक ऐसी बेटी की कहानी जो शादी के बाद एक माह ससुराल का जुल्म सहन कर मायके आती है, अपने दर्द को खुद ही खुद में छिपाती है परन्तु गौना कराने दरवाजे पर आये लोभी ससुराल पक्ष को देख उसके धैर्य की सीमा टूट पड़ती है…… आगे …..

रो रो कर बेहाल हुयी है,
झील सी आँखें लाल हुयी है,
हे परमेश्वर, हे जगदीश्वर,
माँ अम्बे हे ,देव महेश्वर,
आजा जुल्म की ब्यथा सूना  दूँ,
कहाँ छुपे हो तुम्हें पुकारूँ,
थक जग हारी, रब से हारी,
कहाँ जाये अब एक बेचारी,
फूल सी बेटी दर्द बयाँ अब कुहुँक-कुहुँक कर करती है,
रोक लो बाबुल मुझको, बेटी तेरी पावं पकड़ती है,
रोक लो बाबुल मुझको………..

बाग़ की तेरी कली हूँ मैं,
तूने नाजों से पाला है,
मुझे सुलाने की खातिर तू,
जाग के रात गुजारा है,
चहक रही थी बाग़ में तेरे,
खुशियां थी संसार में मेरे,
बिन मांगे कल तक सब जाना,
आज तू बिटिया ना पहचाना,
एक दर्द था तड़प गए, सौ दर्द फफक कर कहती है,
रोक लो बाबुल मुझको, बेटी तेरी पावं पकड़ती है |
रोक लो बाबुल मुझको……………

तेरी बिटिया जान तुम्हारी,
पगड़ी की थी शान तुम्हारी,
फूल सी बिटिया तेरी मैया,
हो गयी कितनी आज बेचारी,
देख ले काजल आँखों का अब गालों पर ही रहती है,
गंगा, यमुना सी ये आँखें झर-झर बहती रहती है,
तड़प कलेजे से लग माँ के,
बिन बाती दीपक सी जाके,
एक अभागन कहती है,
रोक लो माँ तुम मुझको बेटी,तुमसे बिनती करती है |
रोक लो बाबुल मुझको……………

कितनी खुशियां जश्न मनाया,
रानी जैसा मुझे सजाया,
दुनिया भर सामान के संग में,
डोली साज के बिदा कराया,
डोली बीच मैं  तरस रही थी,
बिन जल मछली तड़प रही थी,
आँसूं थी पर आस लगी थी,
आगे स्वर्ग सी द्वार खड़ी थी
खुशियों की दहलीज़ पे अब ये,हर दिन भूखी रहती है,
रोक लो बाबुल मुझको, बेटी तेरी पावं पकड़ती है |

कितने दर्द दिए हैं हमको,
कैसे तुझे बताऊँ मैं,
एक माह के उस दुनिया का,
कैसे हाल सुनाऊँ मैं,
ताने, गाली रोज सुनाते,
सबके जूठे मुझे खिलाते,
गहने,कपडे छीनी सारी,
टूटे खाट पे मुझे सुलाते,
चली गयी तो ना आउंगी,
दूर कहीं मैं खो जाउंगी,
बाबुल सारे काम करुँगी,
पगड़ी की मैं लाज रखूंगी,
देख ले सारे दाग मार के, बदन दिखा कर कहती है,
इस अबला पर दया करो माँ तेरी पावं पकड़ती है,
रोक लो बाबुल मुझको, बेटी तेरी पावं पकड़ती है |

!!! मधुसूदन !!!

Beti Ki Dastaan

Ro ro kar behaal huyee hai,

jheel si aankhen laal huyee hai,

he parmeshwar, he jagdishwar,

maa ambe he, dev maheshwar,

aajaa julm ki byathaa sunaa dun,

kahaan chhupe ho tumhen pukarun,

jag se haari, rab se haari,

jaaye kahaan ab ek bechaari,

kuhun-kuhun kar dard bayaa ab, phul si beti karti hai,

rok lo baabul mujhko, beti teri pawn pakadti hai,

rok lo baabul mujhko…………….

baag ki teri kali hun main,

tune naajon se paala hai,

mujhe sulaane ki khaatir tu,

jaag ke raat gujaaraa hai,

chahak rahi thi baag men tere,

khushiyaan thi sansaar men mere,

bin maange kal tak sab jaanaa,

aaj tu bitiyaa naa pehchaanaa,

Ek dard thaa tadap gaye, sau dard fafak kar kahti hai,

rok lo baabul mujhko ,beti teri pawn bakadti hai,

rok lo baabul mujhko…………

teri bitiyaa jaan tumhaari,

pagadi ki thi shaan tumhaari,

phul si bitiyaa teri maiyaa,

ho gayee kitni aaj bechaari,

dekh le kaajal aankhon kaa ab,gaalon par hi rahti hai,

ganga, yamunaa si ye aankhen jhar-jhar bahti rahti hai,

tadap kaleje se la maa ke,

bin baati deepak si jaake,

ek abhaagan kahti hai,

rok lo maa tum mujhko beti, tumse binti karti hai,

rok lo baabul……….

kitni khushiyaan jashn manaayaa,

rani jaisaa mujhe sajaayaa,

duniyaan bhar saamaan ke sang men,

doli saaj ke bidaa karaayaa,

doli  bich main taras rahi thi,

bin jal machhali tadap rahi thi,

aansu thi par aas lagi thi,

aage swarg si dwaar khadi thi,

khushiyon ki dahliz pe ab ye , har din bhukhi rahti hai,

rok lo baabul mujhko beti, teri paawn pakadti hai,

rok lo baabul mujhko………….

kitne dard diye hain hamko,

kaise tujhe dikhaaun main,

ek maah ke us duniyaan kaa,

kaise haal sunaaun main,

taane gaali roj sunaate,

sabke juthe mujhe khilaate,

gahne kapde chhini saari,

tute khaat pe mujhe sulaate,

chali gayee to naa aayungi,

dur kahin main kho jaayungi,

baabul saare kaam karungi,

pagdi ki main laaj rakhungi,

dekh le saare daag maar ke, badan dikhaa ke kahti hai,

es ablaa par dayaa karo maa, teri pawn pakadti hai,

rok lo babul mujhko, beti teri pawn pakadti hai.

!!! Madhusudan !!!

 

 

Advertisements

27 thoughts on “Beti ki Kahani usi ki Jubani

    1. पसंद आया—-दिल को सुकून आया—–आपकी मौजूदगी—-प्रोत्साहन से—-पुनः उड़ान आया।🙏🙏🙏🙏

      Like

  1. लड़कियाँ शादी के बाद पराई क्यों हो जाती है ? यह मान्यता कुछ अजीब है. आपने इस भावार्थ के साथ अच्छी कविता लिखी है. —
    चली गयी तो ना आउंगी,
    दूर कहीं मैं खो जाउंगी

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s