Kaisi Bebasi

Kaisi Bebasi

जश्न मना है मौत का ,क्रंदन से धरती-अम्बर डोला,
लोकतंत्र की जड़े रक्त रंजित,ब्याकुल जन-मन बोला।

कब तक शांत रहोगे तुम,शान्ति की बाते बोलोगे,
जन मानस की कीमत कब तक,रेत बराबर तौलोगे,
अश्रु की सैलाब में धरती का,आँचल अब भींग गया,
हृदय विदारक चीख ने,अम्बर का भी सीना चिर गया,
सहन की सीमा पार हुयी,ललकार के सारा जग बोला,
लोकतंत्र की जड़े रक्त रंजित,ब्याकुल जन-मन बोला।

कभी दर्द देता पैरों में,कभी जिगर पर वार करे,
बाहें कोई खींच रहा है,कोई सिर पर वार करे,
तड़प रही है धरती माँ, रखवालों की कुर्बानी पे,
तड़प रही है तेरी वाद-विवाद भरी नादानी पे,
जुल्म करे संतान नहीं,रोकर धरती का मन बोला,
लोकतंत्र की जड़े रक्त रंजित,ब्याकुल जन-मन बोला।

याद करो उस युग को जब दुर्योधन मेरा भाई था,
कैसा हाल किया था मेरा कैसा बना कसाई था,
उसका अंत किया भगवन ने तुमको पाठ पढ़ाने को,
अब ना देर करो तुम गर भाई है उसे मिटाने को,
नहीं चाहिए मेडल ना राशि कोई भुगतान करो,
हे मानव सम्राट अगर ताक़त है तो इन्साफ करो,

sdfasd

आओ जिसको आना है, आ जाओ जश्न मनाने को,
रोने को हम काफी हैं, ना आना अश्क बहाने को,
बीत गया एक युग आजादी, कब तक हमें मिटाओगे,
अपनी ताकत राजभवन पर कबतक मुझे दिखाओगे,
जुल्म का अंतिम जश्न करो,अब धैर्य हमारा टूट रहा,
आँखों में चिंगारी हर जन-मन के अंदर फुट रहा,
नहीं सहेंगे जुल्म देश का हर बच्चा तनकर बोला,
लोकतंत्र की जड़े रक्त रंजित,ब्याकुल जन-मन बोला।

!!! मधुसूदन !!!

Kaisi Bebasi

Jashn mana hai maut ka, krandan se dharti-ambar dola,

Loktantra ki jade rakt-ranjit, byaakul jan-man bola,

 

Kab tak shant rahoge tum, shanty ki baaten bologe,

Jan manas ki kimat kab tak, ret baraabar tauloge,

Asru ki sailaab men dharti ka, aanchal ab bhing gaya,

Hriday bidarak chik ne ambar kaa bhi sinaa chir gaya,

Sahan ki simaa paar huyee, lalkaar ke saaraa jab bola,

Loktantra ki jade rakt-ranjit byaakul jan-man bola.

 

Kabhi dard deta pairon men, kabhi jigar par waar kare,

Baanhen koyee khinch rahaa hai, koyee sir par waar kare,

Tadap rahi hai dharti maa, rakhwaalon ki kurbaani pe,

Tadap rahi hai teri waad-wiwaad bhari naadaani pe,

Julm kare santaan nahi, rokar dharti kaa man bola,

Loktantra ki jade rakt-ranjit byaakul jan-man bola.

 

Yaad karo us yug ko, jab duryodhan jaisaa bhaayee tha,

Kaisaa haal kiyaa tha meraa kaisaa banaa kasaayee tha,

Uskaa ant kiyaa bhagwan ne tumko paath padhaane ko,

Ab naa der karo tum gar bhaayee hai use mitaane ko,

Nahi chaahiye medal naa rashi koyee bhugtaan karo,

Aao jisko  aanaa hai , aa jaao jashn manaane ko,

Rone ko ham kaafi hain, naa aanaa ashk bahaane ko,

Beet gayaa ek yug aajaadi, kab tak hamen mitaaoge,

Apni taakat raajbhawan par kab tak mujhe dikhaaoge,

Julm ka antim jashn karo, ab dharya hamaaraa tut raha,

Aankon men chingaari har jan-man ke andar phut raha,

Nahi sahenge, julm desh kaa har bachchaa tankar bola,

Loktantra ki jade rakt-ranjit byaakul jan-man bola.

 

!!! Madhusudan!!!

Advertisements

27 thoughts on “Kaisi Bebasi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s