Democracy

 Democracy

सज के सवंर के दुल्हन सा बनके,
जनतंत्र आया दुनिया में हँसके,
सोंचा था उसने गगन में उड़ेंगे,
राजसी हुकूमत से ऊपर उठेंगे,
मगर तख़्त को छोड़ कुछ भी ना बदला,
मजहब और जाति में इंसान अटका।
कहीं है लाचारी कही पर ग़रीबी,
कहीं मौज मस्ती की छाई अमीरी,
कहने को जनतंत्र जनता का शासन,
मगर राजशाही पड़ी आज फीकी,
सिसकती है जनतंत्र जनता बिना अब,
बनी आज कुछ जातियों की है कैदी।
कैदी बनी कैसे जनतंत्र रहती,
सुनले कोई अब रोकर के कहती,
पता था हमें तुम हमारे नहीं हो,
धरती पर सच में सितारे नहीं है,
कैसे मिलन हो गया इस जहां से,
जहाँ सच के कोई ठिकाने नहीं हैं |
जहां पल में मिटती है माथे की सिंदूर,
कही पल में कोई दुलारा मिटा है,
धर्मों तले दैत्य करता है तांडव,
हरएक बार जनतंत्र बेदी चढ़ा है |
यहां खून पानी से सस्ता हुआ है,
हरएक बात पर एक दंगा हुआ है,
तड़पता है जनतंत्र किस्मत पर अपने,
मानवता यहां पर नंगा हुआ है |
यहां झूठे का बोलबाला हुआ है,
मनी माफिया का ठिकाना हुआ है,
मिला संग जाकर के सौदागरों से,
रखवाला जो हम सब का हुआ है |
गरीबों की बातें करतें हैं सब पर,
गरीबों की कोई सुनता कहाँ है,
मतलब है बदला गरीबी का जग में,
कुछ जाति का इस पर कब्ज़ा हुआ है,
कहने को जनता का शासन है लेकिन,
शासन भी कुछ जातियों का हुआ है |
टुकड़ो में दो पहले बांटा फिरंगी,
खुद जातियों में हम बँट गएँ हैं,
कभी एक भारत की करते थे बातें,
अब क्षेत्र की बात करने लगे हैं |
सम्हल जा ये जनतंत्र समझा रहा है,
सिसक कर के हर बात कहने लगा है,
मगर हम कभी भी सम्हलना न सीखा,
एक दूजे से सिर्फ लड़ना है सीखा |
मिला था कभी राजगद्दी रियासत,
जिसके लिए सबको टुकड़ों में बांटा,
मिला है अभी राजगद्दी आरक्षण,
जिसके लिए हम कुछ भी करेंगे,
भले टूट जाए जनतंत्र मेरा,
राजा के जैसे हम ना हटेंगे,
जनतंत्र मिटेगा, तूुुम भी मिटोगे,
क्यों कैदी बनाकर रखा है मुझको,
सिसककर के जनतंत्र कहता सभी से,
क्यों अपना बना फिर छलता है मुझको ।
क्यों अपना बना फिर छलता है मुझको ।।

Democracy is the people,for the people & by the people.

Now

Democracy is the caste,for the cast & by the cast.

!!! मधुसूदन !!!

Advertisements

6 thoughts on “ Democracy

  1. गणतंत्र की यह हालत हर जगह नहीं है, विविधताओं को समाहित करना गणतंत्र की सबसे बड़ी चुनौती है! अच्छा लिखा आपने

    Like

    1. जितनी मेरी समझ है जनतंत्र से बढ़िया कोई शासनतंत्र नहीं ।सच में हमारा जनतंत्र बहुत ही बढ़िया है एक आध अपवाद को छोड़कर परंतु जो कमी है वो नासूर बनते जा रहा है जिसे समय रहते दूर नहीं किया गया तो हम सब ये लिखने के काबिल भी नहीं बचेंगे। धन्यवाद जो आपने पसंद किया।

      Liked by 1 person

  2. अच्छी कविता .जनतंत्र यानि जनता क जनता के लिये जनता के द्वारा . पर काश भ्रष्टलोगो क प्रभाव कम हो .

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s