Bibastaa

Bibastaa

लोकतंत्र है बिबस सिसकता देख तड़पता मानव पर,
देख प्रतिभा झुलस रही है, जातिवाद के पावक पर।

भूखी नंगी रोड पे जनता, नोट उड़ रहे ठुमको पर,
छत को तरस रहे हम कैसे,नेता सोये मखमल पर,
राशन कार्ड और सब्सिडी को लूट लिए महलोंवाले,
दूध की नदियाँ सुख चुकी हर मोड़ खड़े मदिरावाले,
कैसा विकसित देश बना जनतंत्र सिसकता मानव पर,
देख प्रतिभा झुलस रही है, जातिवाद के पावक पर।

गांव में शिक्षा छोड़ के सबकुछ मिलता है विद्यालय में,
अंतर्द्वंद्व की आग लग रही, लोकतंत्र के दामन में,
भाई हैं हम साथ मगर नफरत की आग में जलते हैं,
पढ़ते दोनों साथ ,एक बेड़ी में जकड़े रहते है,
रेस ये कैसी देख ज़रा एक फूल पे दूजा काँटों पर,
देख प्रतिभा झुलस रही है, जातिवाद के पावक पर।

गांव हुआ बेहाल शहर में फ़ैल रही है उजियाली,
मरघट पर है कृषक गांव में फ़ैल रही है अंधियारी,
गांव छोड़ सब भाग रहे हैं,शहर में अंधी दौड़ लगी,
भीड़ देख अब शहर की सड़कें आह-आह है बोल उठी,
गांव,शहर बेहाल कभी खुशहाल थे अपने चौखट पर,
देख प्रतिभा झुलस रही है, जातिवाद के पावक पर।

mqdefault

गांव,शहर की हालत देखो,श्रमिक,कृषक का हाल बुरा है,
भूख से मरते आज भी लाखों,हॉस्पिटल का हाल बुरा है,
महलों की अम्बार लगी है ,झुग्गी मिटती शहरों में,
भिखमंगो की फ़ौज खड़ी है,आंसू बहते घर-घर में,
देख कोलाहल शोर जगत की तुझे जगाया करती है,
शहर की सड़कें,गांव की गालियां,दर्द बयाँ सब करती है,
दर्द के कितने तार को छेड़ें,जुल्म बढ़ा ना मानव पर,
देख प्रतिभा झुलस रही है, जातिवाद के पावक पर।
लोकतंत्र है बिबस सिसकता देख तड़पता मानव पर ।

!!! मधुसूदन !!!

 

Advertisements

19 thoughts on “Bibastaa

    1. जी अभय जी —मन में जो आया लिख दिया—-सभी हमारे ही भाई हैं— दर्द साफ़ दिखता है—भविष्य ठीक नहीं देश का—-परिवर्तन जरुरी है—-आपको अच्छा लगा बहुत बहुत धन्यवाद

      Liked by 1 person

  1. इसमें कोई शक नहीं—-भविष्य हम जरूर बदलेंगे——बहुत कुछ बदला भी है—– वैसे बर्तमान देखकर ही भविष्य का आकलन होता है—-सुक्रिया।

    Like

  2. जातिवाद के ऊपर जबरदस्त प्रहार है ये कविता
    शायद जातिवाद के रखवालो के लिए ऐसी कविता ही हिलोरें लेंगी तभी कुछ संभव है

    Like

    1. हम किसी से नफरत नहीं करते—-हम आधुनिक भारत के नागरिक है-जातिवाद करने की सोच भी नहीं सकते फिर जातिबाद का समर्थन कैसे करें। तारीफ़ करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद आपका।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s