A Wife of Army

A Wife of Army

मेरे दिल में बसते वे,उनके दिल भारत बसता है।
फौजी की पत्नी हूँ मेरे,दिल में दो दिल बसता है।

जख्मी हो भारत तो,आँखें दर्द बयाँ कर जाती है,
जख्मी हों वे शरहद पर तो,बहुत उदासी छाती है,
सबकी नींद है आँखों में मेरी आँखों में नींद कहाँ,
उनके दिल से दिल मेरा,साँसों से साँसे चलती है,
फौजी की पत्नी हूँ मेरे दिल में दो दिल रहता है।

खबर मिली आतंकी ने सैनिक पर हमला कर डाला,
उनकी ड्यूटी जहां खबर में,उस चौकी का नाम आया,
नाम नहीं संदेशे में कई घायल चार शहीद हुए,
प्राण नहीं थे तन साथ में घरवाले ग़मगीन हुए,
दिन गुजर गए उहापोह में रात भी मानो दिन हुयी,
मेरे संग,संग माँ,पापा की आँखें भी ग़मगीन रही,
रात अचानक फोन बजी उनकी आवाज सुनायी दी,
कैसे कह दें हम सब कितने रब को आज दुहाई दी,
मगर बज्र सा बना कलेजा,हंसकर बातें करता है,
फौजी की पत्नी हूँ मेरे दिल में दो दिल रहता है।

घबराते डरपोक नहीं, हम भी भारत की बेटी हैं
मगर कलेजा देश,पति संग पुत्र प्रेम भी रखती है,
काश साथ शरहद पर भेजो, जौहर हम दिखला देंगे,
हाथ में चूड़ी के बदले हम भी तलवार सजा देंगे,
दुश्मन हाहाकार करेंगे शंख ध्वनि नभ गूंजेगा,
हम भी लक्ष्मीबाई बनकर अपनी धार दिखा देंगे,
मगर मौन दिनरात खबर पर नजर हमारा रहता है,
फौजी की पत्नी हूँ मेरे दिल में दो दिल बसता है।

जब भी छूटी पर घर आते,जाने का दिन साथ में लाते,
जाने का गम भूलके हम भी अनगिनत अरमान सजाते,
छुट्टी छोटी कूप के जैसे प्रेम उमड़ता सागर जैसे,
प्रेम का सागर सिमट के फिर भी कैसे कूप में रहता है,
फौजी की पत्नी हूँ मेरे दिल में दो दिल बसता है।

दिल में स्नेह वतन से, गोद में बच्चे की परवाह मुझे,
जिनसे दिल धड़कती मेरी,उनको भी परवाह मुझे,
फिर भी जाने का दिन आता सिर पर तिलक लगाते हैं,
जात न जाने अपना हम क्षत्रिय सा धर्म निभाते हैं,
सब की आँखें नम रहती,खामोशी लब पर रहती है,
उनकी धड़कन यहीं,साथ में मेरी धड़कन चलती है,
कैसे कह दें शरहद जाने का पल कैसा रहता है,
मेरे दिल में वे बसते उनके दिल भारत बसता है।
फौजी की पत्नी हूँ मेरे दिल में दो दिल रहता है।

!!! मधुसूदन !!!

 

A wife of Fauji

 

Mere dil men we baste,unke dil bharat bhasta hai,

Fauji ki patni hun mere dil men do dil bastaa hai.

 

 

Jakhmi ho bharat to aankhe,dard bayaan kar jaati hai,

Jakhmi ho we sharhad par to,bahut udasi chhati hai,

Sabki nind hai aankhon men,meri aankhon men nind kahaan.

Unke dil se dil meraa,saanson se saase chalti hai,

Fauji ki patni hun mere dil men do dil bastaa hai.

 

Khabar mili atanki ne sainik par hamla kar daala,

Unki dyuti jahan khabar men,us chauki ka naam aayaa,

Naam nahi sandeshe men kayee ghayal chaar shahid huye,

Pran nahi they tan men sang sang gharwaale gamgin huye,

Din gujar gaye uhaapoh men raat bhi maano din huyee,

Mere sang maa,baap ki aankhen sansay se gamgin huyee,

Raat achaanak phone baji,unki awaaj sunaayee di,

Kaise kah de ham sab kitne rab ko aaj duhaayee di,

Magar bajra saa bana kalejaa,hanskar baate karta hai,

Fauji ki patni hun mere dil men do dil bastaa hai.

 

Ghabraate darpok nahin,ham bhi bharat ki beti hain,

Magar kalejaa desh,pati sang putra prem bhi rakhti hai,

Kaash saath sharhad par bhejo,jauhar ham dikhlaa denge,

Haath men chudi ke badle ham bhi talawaar sajaa denge,

Dushman hahakaar karegaa,shankh dhwani nabh gunjegaa,

Ham bhi laxmibaayee banker apni dhaar dikhaa denge,

Magar maun din raat khabar par najar hamari rahti hai,

Fauji ki patni hun mere dil men do dil bastaa hai.

 

 

Jab bhi chhutti par ghar aate,jaane ka din saath men laate,

Jaane kaa gam bhul ke ham bhi anginat armaan sajaate,

Chhutti chhoti kup ke jaise, prem umadtaa sagar jaise,

Prem ke saagar simat ke phir bhi kaise kup men rahta hai,

Fauji ki patni hun mere dil men do dil bastaa hai.

 

 

Dil men sneh watan se,god men, bachche ki parwaah mujhe,

Jinse dil dhadakti meri,unko bhi parwaah mujhe,

Phir bhi jaane kaa din aataa,sir par tilak lagaate hain,

Jaat naa jaane apnaa ham kshatriya saa dharm nibhaate hain,

Sabki aankhen nam rahti,khamoshi lab par rahti hai,

Unki dhadkan yahin saath men, meri dhadkan chalti hai,

Kaise kah de sharhad jaane kaa pal kaisaa hotaa hai,

Fauji ki patni hun mere dil men do dil bastaa hai.

Fauji ki patni hun mere dil men do dil bastaa hai.

 

!!! Madhusudan !!!

Advertisements

35 thoughts on “A Wife of Army

  1. फ़ौजी की पत्नी हु मेरे दिल मे दो दिल रहते है ।
    पाठक को अंत तक रोकने में सक्षम कविता ।
    Keep it up sir

    Liked by 2 people

  2. क्या गजब लिखा है …
    दिल को छू गया …
    इसे शेयर कर रही हूँ एक ग्रूप में

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s