Kora Kaagaj

Image Credit : Google
जीवन कोरा बिन अपनों के,
जैसे कोरा कागज,
धरती की ना प्यास बुझाये,
बिन पानी के बादल,
ख्वाब बिना पानी के बादल,
आँख खुले तड़पाते,
क्या लिखूँ मैं याद में तेरी,शब्द मुझे तरसाते।1
लिखना चाहूं,लिख ना पाऊं,
जज्बातों को मैं उकसाऊं,
पढ़कर तुमको तेरा होकर,
ख्याल हजारों आतें,
क्या लिखूँ मैं याद में तेरी,शब्द मुझे तरसाते।2
जल्दी-जल्दी शब्द सहेजूँ,
रख दूँ कोरे कागज़ पर,
खुशियां,गम,जज्बात उधेलूं,
अपने कोरे कागज पर,
वरना पल में ये खो जाते,
हमको बहुत रुलाते,
क्या लिखूँ मैं याद में तेरी,शब्द मुझे तरसाते।3
ख्वाब भी साथ निभाता है,
जब नींद से हम जग जाते,
शब्द मगर हैं तेरे जैसे,
पल में ही खो जाते,
प्रेम बिरह की भाषा ना तूँ
शब्द समझ ही पाते,
क्या लिखूँ मैं याद में तेरी,शब्द मुझे तरसाते।4
कलम हाथ में मेज पर कागज,
दुरी कितनी तुम जानो,
शब्दरहित मन खोया मेरा,
गम कितना है तू जानो,
अंतर तो बस इतना ही है,
तुममें और इन शब्दों में,
शब्द तो आते जाते हैं पर,
तुम कब आये खुद जानो,
मौसम भी हर साल बदलते,
खुद को बदल ना पाये,
क्या लिखूँ मैं याद में तेरी,शब्द मुझे तरसाते।5
!!! मधुसूदन !!!

jeevan kora bin apanon ke,
jaise kora kaagaj,
dharatee kee na pyaas bujhaaye,
bin paanee ke baadal,
khvaab bina paanee ke baadal,
aankh khule tadapaate,
kya likhoon main yaad mein teree,shabd mujhe tarasaate.1
likhana chaahoon,likh na paoon,
jajbaaton ko main ukasaoon,
padhakar tumako tera hokar,
khyaal hajaaron aaten,
kya likhoon main yaad mein teree,shabd mujhe tarasaate.2
jaldee-jaldee shabd sahejoon,
rakh doon kore kaagaz par,
khushiyaan,gam,jajbaat udheloon,
apane kore kaagaj par,
varana pal mein ye kho jaate,
hamako bahut rulaate,
kya likhoon main yaad mein teree,shabd mujhe tarasaate.3
khvaab bhee saath nibhaata hai,
jab neend se ham jag jaate,
shabd magar hain tere jaise,
pal mein hee kho jaate,
prem birah kee bhaasha na toon
shabd samajh hee paate,
kya likhoon main yaad mein teree,shabd mujhe tarasaate.4
kalam haath mein mej par kaagaj,
duree kitanee tum jaano,
shabdarahit man khoya mera,
gam kitana hai too jaano,
antar to bas itana hee hai,
tumamen aur in shabdon mein,
shabd to aate jaate hain par,
tum kab aaye khud jaano,
mausam bhee har saal badalate,
khud ko badal na paaye,
kya likhoon main yaad mein teree,shabd mujhe tarasaate.5
!!!Madhusudan!!!

Advertisements

48 thoughts on “Kora Kaagaj

    1. इतनी सुन्दर तारीफ़ के काबिल मैं नहीं —आपने मुझे काबिलेतारीफ बना दिया–बहुत बहुत धन्यवाद आपका आपने पसंद किया।

      Liked by 1 person

    1. सहेज लीजिये—–दर्द भी सबको नसीब नहीं होता—-कितने ऐसे हैं संसार में जिसका कोई करीब नहीं होता,—-और जब कोई अपना नहीं तो दर्द कैसा—और दर्द है तो पराया कैसा—-बहुत बहुत धन्यवाद आपका।

      Liked by 6 people

      1. आजकल समय नहीं मिल पा रहा है साथ ही शब्द भी और मुद्दे जो किसी की कविता पढ़कर मिलता है ।आप भी तो मुद्दे देना बंद कर दिए हैं।☺️😀☺️

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s