Jindagi 

Image Credit : Google
ऐ जिंदगी कितनी छोटी,कितनी हँसीन है तूँ
फूलों से भी नाजुक और कमसिन है तूँ,
सहजता से जिया तुझे बचपन से अभी तक,
होठों की मुश्कान तूने बिखेरा है जमीं पर,
खुशियाँ बहुत है,आसमाँ क्यों दिखाते हो,
बचपन के जाते नई जहाँ क्यों दिखाते हो,
बहुत ही हँसीन है तू ऐ मेरी जिंदगी,
अपना ये दिल कहीं और क्यों लगाते हो,
प्रेम की कहानियाँ सिर्फ पन्नों में ही दिखती है,
उड़ते पतंग को किताब क्यों बनाते हो,
समझौते की जिंदगी में खाई बहुत है,
मतलब की दुनिया में हमें क्यों घुमाते हो,
दिल तो करता उसके साथ हो जाऊँ,
पतंगों सी उड़ूँ आसमाँ को छू जाऊँ,
एक स्पर्श सब कुछ भुला देता है,
ख्वाहिशें हजारों दिल में जगा देता है,
तितलियों सी जिंदगी रंगीन चाहते हैं,
लव स्टोरी सी जिंदगी हँसीन चाहते हैं,
मगर डरते हैं हम भी कहीं किताब ना बन जाएँ
ख़्वाबों की पंक्षी कही ख्वाब ना बन जाएँ,
ऐ जिंदगी कुछ ख्वाहिशें कम कर दे,
बहुत हुआ अब आजमाईशें बंद कर दे,
अगर मैं पतंग हूँ तो बिना डोर ही रहने दे,
खुले आसमान में अकेला ही उड़ने दे,
डर लगता धोखे से,बड़ी नाजुक और कमसिन है तू,
ऐ जिंदगी बहुत छोटी,फिर भी हसीन है तू,
ऐ जिंदगी,कितनी छोटी,कितनी हसीन है तू।
!!! मधुसूदन !!!

ai jindagee kitanee chhotee,kitni hanseen hai toon
phoolon se bhee naajuk aur kamasin hai toon,
sahajata se jiya tujhe bachapan se abhee tak,
hothon kee mushkaan toone bikhera hai jameen par,
khushiyaan bahut hai,aasamaan kyon dikhaate ho,
bachapan ke jaate naee jahaan kyon dikhaate ho,
bahut hee hanseen hai too ai meree jindagee,
apana ye dil kaheen aur kyon lagaate ho,
prem kee kahaaniyaan sirph pannon mein hee dikhatee hai,
udate patang ko kitaab kyon banaate ho,
samajhaute kee jindagee mein khaee bahut hai,
matalab kee duniya mein hamen kyon ghumaate ho,
dil to karata usake saath ho jaoon,
patangon see udoon aasamaan ko chhoo jaoon,
ek sparsh sab kuchh bhula deta hai,
khvaahishen hajaaron dil mein jaga deta hai,
titaliyon see jindagee rangeen chaahate hain,
lav storee see jindagee hanseen chaahate hain,
magar darate hain kaheen ham kitaab na ban jaen
khvaabon kee pankshee kahee khvaab na ban jaen,
ai jindagee kuchh khvaahishen kam kar de,
bahut hua ab aajamaeeshen band kar de,
agar main patang hoon to bina dor hee rahane de,
khule aasamaan mein akela hee udane de,
dar lagata dhokhe se,badee naajuk aur kamasin hai too,
ai jindagee bahut chhotee,phir bhee haseen hai too,
ai jindagee,kitanee chhotee,kitanee haseen hai too.
!!! madhusudan !!!

Advertisements

47 thoughts on “Jindagi 

    1. किसी का पढ़ा और अनायास बिचार आया ——लिख दिया—-कोई पहेली नहीं भाई—-अपनी जिंदगी तो समझौता एक्सप्रेस है और बहुत अच्छा है।

      Liked by 2 people

  1. ऐ जिंदगी बहुत छोटी,फिर भी हसीन है तू,
    ऐ जिंदगी,कितनी छोटी,कितनी हसीन है तू |
    ऐ कविता कितनी हँसी हैं तू..।

    Liked by 1 person

  2. जिंदगी शब्द पर आपने बहुत ही अच्छा लिखा है। जिंदगी शब्द को कि अर्थ में जोड़ सकते हैं। जिंदगी एक पहेली भी है। जिंदगी सुख दुख की सहेली भी है। इनमें सब लाइन से एक गाना याद आ गया – जिंदगी प्यार का गीत उसे हर दिल को गाना पड़ेगा।

    Liked by 1 person

  3. ऐ जिंदगी,कितनी छोटी,कितनी हसीन है तू,
    फूलों से भी नाजुक और कमसिन है तू,

    wah kya kehne bahut khub madhusudan ji

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s