Nothing Without Nation

Image Credit : Google
हैं कोमल-नाजुक पत्ते हम, हमसे खूबसूरती डाल की,
गर टूट गए डाली से हम,फिर कीमत क्या है जान की।
हम नाजुक हैं कमजोर नहीं,
टकरा जाते तूफानों से,
बेशक टकराकर तन अपना,
रक्त-रंजित भी हो जाते हैं,
आती है घोर बिपत्ति जब भी,
हम पर, तरु या डाली पर,
एक दूजे के तब साथ खड़े,
हर चोट को सहते छाती पर,
जो धुप जलाता है हमको,
उसका आहार बनाते हम,
सूरज बरसाता आग कभी,
उससे डटकर टकराते हम,
कुछ टूटते है कुछ सुख जाते,
कुछ डाल से दूर नहीं जाते,
टकरा कर गर्म तुफानो से,
बेशक लतपथ हम हो जाते,
पहचान हमारी है तबतक,जबतक हम संग में डाल की,
गर टूट गए डाली से हम,फिर कीमत क्या है जान की।
जिस डाली के हम पत्ते हैं,
जड़ उसका है कमजोर नहीं,
तूफ़ान भी शीश झुका जाता,
उसमे भी इतना जोर नहीं,
हैं गिरे वृक्ष वे नाजुक थे,
जड़ में उनकी थी जान नहीं,
पत्ते,डाली जिस वृक्ष के हम,
उसका हिलना आसान नहीं,
ये वृक्ष हमारा ही भारत,
हम पत्ते उसकी जान हैं,
है जाति-धर्म डाली जैसे,
है गर्व यही अभिमान है,
हम साथ अगर तो वतन हँसी,
हममें ही उसकी जान हैं,
गर डाल से डाली टकराये,
फिर दुश्मन की क्या काम है,
है वृक्ष से डाली का जीवन,डाली पत्तों की जान सी,
गर टूट गए डाली से हम,फिर कीमत क्या है जान की।
!!! मधुसूदन !!!

Hain komal-naajuk patte ham, hamase khoobasooratee daal kee,
gar toot gae daalee se ham,phir keemat kya hai jaan kee.
ham naajuk hain kamajor nahin,
takara jaate toophaanon se,
beshak takaraakar tan apana,
rakt-ranjit bhee ho jaate hain,
aatee hai ghor bipatti jab bhee,
ham par, taru ya daalee par,
ek dooje ke tab saath khade,
har chot ko sahate chhaatee par,
jo dhup jalaata hai hamako,
usaka aahaar banaate ham,
sooraj barasaata aag kabhee,
usase datakar takaraate ham,
kuchh tootate hai kuchh sukh jaate,
kuchh daal se door nahin jaate,
takara kar garm tuphaano se,
beshak latapath ham ho jaate,
pahachaan hamaaree hai tabatak,jabatak ham sang mein daal kee,
gar toot gae daalee se ham,phir keemat kya hai jaan kee.
jis daalee ke ham patte hain,
jad usaka hai kamajor nahin,
toofaan bhee sheesh jhuka jaata,
usame bhee itana jor nahin,
hain gire vrksh ve naajuk the,
jad mein unakee thee jaan nahin,
patte,daalee jis vrksh ke ham,
usaka hilana aasaan nahin,
ye vrksh hamaara hee bhaarat,
ham patte usakee jaan hain,
hai jaati-dharm daalee jaise,
hai garv yahee abhimaan hai,
ham saath agar to vatan hansee,
hamamen hee usakee jaan hain,
gar daal se daalee takaraaye,
phir dushman kee kya kaam hai,
hai vrksh se daalee ka jeevan,daalee patton kee jaan see,
gar toot gae daalee se ham,phir keemat kya hai jaan kee.
!!! Madhusudan !!!

Advertisements

39 thoughts on “Nothing Without Nation

  1. उसका हिलना आसान नहीं,
ये वृक्ष हमारा ही भारत,
हम पत्ते उसकी जान हैं,
है जाति-धर्म डाली जैसे,
है गर्व यही अभिमान है,
    हमारा भारत हमारा अभिमान है
    बहुत ही उम्दा ओजपूर्ण रचना

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s