Titliyon si Jindgi

Image Credit : Google
ना गम कोई होता
ना बन्धन ही होती
मेरी भी जीवन तितलियों सी होती,
चंचलता के संग में संजीदगी भी होती,मेरी भी जीवन तितलियों सी होती।।
फिर हम जहाँ में सबको लुभाते,
रंगीन जहाँ को हम फिर बनाते,
निगाहें शराबी अदाओं के संग-संग,
थोड़ी सी हम मे शराफत भी होती,मेरी भी जीवन तितलियों सी होती।।
फूलों की खुशबु में हम फिर नहाते,
गुलशन में हम भी सबको लुभाते,
घृणा,छल,कपट,द्वेष,नफरत के बदले,
तब सिर्फ केवल दया हममे होती,मेरी भी जीवन तितलियों सी होती।।

मेरी ये सोच काश लंबी ना होती,
तितलियों सी दुनियाँ अगर मेरी होती,
नहीं जात होता नहीं धर्म होती,
कहीं भी जमाने में सरहद ना होती,
ये नेता ना होते ये संसद ना होती,
सारा जहाँ एक गुलशन सी होती,मेरी भी जीवन तितलियों सी होती।।
सूरज जमाने में फिर ना धधकता,
जहर भी हवाओं में मिलकर ना बहता,
नदियों का पानी विषैली ना होती,
सपनों की दुनियाँ मरघट ना होती,
ये जंगल भी होते,सभी जीव होते,
कृत्रिम ये पौधे जमीं पर ना होते,
हवाओं,बहारों में खुशबू फिर होती,
मेरी भी जीवन तितलियों सी होती,चंचलता के संग-संग संजीदगी भी होती,मेरी भी जीवन तितलियों सी होती।
!!! मधुसूदन !!!

Na gam koee hota
na bandhan hee hotee
meree bhee jeevan titaliyon see hotee,
chanchalata ke sang me sanjeedagee bhee hotee,meree bhee jeevan titaliyon see hotee..
phir ham jahaan mein sabako lubhaate,
rangeen jahaan ko ham phir banaate,
nigaahen sharaabee adaon ke sang-sang,
thodee see ham me sharaafat bhee hotee,meree bhee jeevan titaliyon see hotee..
phoolon kee khushabu mein ham phir nahaate,
gulashan mein ham bhee sabako lubhaate,
ghrina, chhal,kapat,dvesh,nafrat ke badle,
tab sirf keval daya hamame hotee,meree bhee jeevan titaliyon see hotee..
meree bhee soch kaash lambee na hotee,
titaliyon see duniyaan hamaaree bhee hotee,
nahin jaat hota nahin dharm hotee,
kaheen bhee jamaane mein sarahad na hota,
ye neta na hote ye sansad na hotee,
saara jahaan ek gulashan see hotee,meree bhee jeevan titaliyon see hotee..
sooraj jamaane mein phir na dhadhakata,
jahar bhee havaon mein milakar na bahata,
nadiyon ka paanee vishailee na hotee,
sapanon kee duniyaan maraghat na hotee,
ye jangal bhee hote,sabhee jeev hote,
krtrim ye paudhe jameen par na hote,
havaon,bahaaron mein khushaboo phir hotee,
meree bhee jeevan titaliyon see hotee,chanchalata ke sang-sang sanjeedagee bhee hotee,meree bhee jeevan titaliyon see hotee.
!!! Madhusudan !!!

Advertisements

42 thoughts on “Titliyon si Jindgi

  1. काश ऐसा हो पाता….👌
    सूरज जमाने में फिर ना धधकता,
    हवाओं में ऐसे जहर भी ना रहता,
    नदियों का पानी विषैला ना होता,
    सपनों की दुनियां मरघट ना होता,
    जंगल भी होता, सभी जीव होते,
    कृत्रिम के पौधे जमीं पर ना होते,
    हवाओं में खुशबू बहारों में होती,
    मेरी भी जीवन तितलियों सी होती।
    चंचलता के संग में संजीदगी भी होती।
    अद्धभुत पंक्तियों की जुगलबंदी…………..💐

    Liked by 1 person

  2. आज फिर से पढ़ कर वही एहसास जनित हुआ जो पहले मर्तबा हुआ था!

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s