Prem Lagan

Prem Lagan

धनवानों के सोने गहने,मुझ गरीब के तुम प्यारे,
महल,अटारी उनकी आशा,मेरे धन तो तुम प्यारे|

किसी को चाहत धन दौलत की,
स्वर्ण जड़ित हीरे गहने,
माणिक,मूंगा किसी की चाहत,
महल,अटारी के सपने,
लाखों हैं श्रृंगार बदन के, मेरे गहने तुम प्यारे,
फूस की कुटिया जन्नत मेरी साथ अगर हो तुम प्यारे।

बृन्दावन घनश्याम बसों,
राधा की प्यारी अखियन में,
राधाजू श्रृंगार करै,
मुरलीधर नाचे बगियन में,
उनकी होगी मथुरा,काशी,उनकी बृन्दावन प्यारे,
रास रचयिता प्रियवर मेरे,बृन्दावन भी तुम प्यारे |

मंदिर,मस्जिद और गुरुद्वारा,
मुल्ला,पंडित के तीरथ,
गंगा,यमुना,जमजम का जल,
बिन तेरे सब हैं नीरस,
उनकी खुशियां वे ही जाने,मेरा जीवन तुम प्यारे,
काबा,काशी,चारो तीरथ,मुझ निर्धन के तुम प्यारे|

जनम,मरण का चक्र ना जानु
मेरी आँख के तुम तारे,
स्वर्ग नरक का भेद ना मानु,
स्वर्ग वहीँ जँह तुम प्यारे,
आ बाहों का हार सजादो,
अमर्लता बन जाऊं मैं,
निबुड़ा का रस,दाख चखाउँ,
घूँघट में पान खिलाऊँ मैं,
आँखों में सैलाब प्रेम,
मुझमें तू तुझमें खो जाऊँ,
जग की चिंता उन्हें प्रिये,
आ फूस को जन्नत कर जाऊँ,
धरती जैसी मैं जलती,बारिश के झोंके तुम प्यारे,
धनवानों के सोने गहने,मुझ गरीब के तुम प्यारे।

मेरे रब मैं याचक तेरी,
अधरों की मैं बंशी हूँ,
ऊँगली की थिरकन होते ही,
मधुर धुन में बहती हूँ,
अधरों से आ मुझे लगा धुन प्रेम लगन तन मन हारे,
धनवानों के सोने गहने,मुझ गरीब के तुम प्यारे,
महल,अटारी उनकी आशा,मेरा धन तो तुम प्यारे|

!!! मधुसूदन !!!

Advertisements

29 thoughts on “Prem Lagan

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s