MILAN

Image Credit :Google
आता सावन साल में जैसे वैसे प्रियतम आते,
सावन रहता एक माह वे एक प्रहर में जाते।
पल आने की आज चहकती,
दरवाजे को खोल खड़े,
खिड़की,परदे,उपवन,मौसम,
साथ-साथ हैं झूम पड़े,
आ जल्दी अब देर करो ना,
जाने का पल निश्चित है,
सजी हुई फुलवारी बिचलित,
क़दमों में आ अर्पित है,
बिरह साल का मिलन प्रहर का,
कितनी ख्वाब संजोती है,
हर एक पल को प्रहर बनाती,
संगम जब भी होती है,
मखमल सेज लदी फूलों से
खुद एक फूल सी होती,
पंखुड़ियों सी खिली,महकती,
इत्र से सेज भिगोती,
मगर मिलन का संगम पल में,
बिरहन जैसी होती,
पानी के बुलबुलों के जैसे,
मिलन हमारी होती,
जलती फिर मैं दीपक जैसे,छोड़ मुझे वे जाते,
सावन रहता एक माह वे एक प्रहर में जाते,
कल तक बारिश मुझे जलाती,
मगर आज मन हर्षित है,
मन ब्याकुल चंचल तितली सी,
शांत आज मन पुलकित है,
बाहर बारिश गर्म हवा-
कानों में शोर मचाती,
बिजली कड़के,बरसे बादल,
मुझे होश ना आती,
तन भीगा,मन शांत झमाझम-
सावन झड़ी लगाई,
छूट गयी गाड़ी जाने की
बारिश खेल दिखाई,
चार प्रहर फिर बाद सफर,
प्रियतम हैं संग हमारे,
मैं जलती जिस बारिश से,
उसको हम आज निहारे,
ऐ सावन तू बड़ी दयालु,आज अगर ना आते,
तू रहते संग एक माह वे एक प्रहर में जाते।
!!! मधुसूदन !!!

aata saavan saal mein jaise vaise priyatam aate,
saavan rahata ek maah ve ek prahar mein jaate.
pal aane ka aaj chahakatee,
daravaaje ko khol khade,
khidakee,parade,upavan,mausam,
saath hamaare jhoom pade,
aa jaldee ab der karo na,
jaane ka pal nishchit hai,
sajee huee phulavaaree bichalit,
qadamon mein aa arpit hai,
birah saal ka milan prahar ka,
kitanee khvaab sanjotee,
har ek pal ko prahar banaatee,
sangam jab bhee hotee,
makhamal sej ladee phoolon se
khud ek phool see hotee,
pankhudiyon see khilee,mahakatee,
itr se sej bhigotee,
magar milan ka sangam pal mein,
birah mein sej dubotee,
paanee ke bulabulon ke jaise,
milan hamaaree hotee,
jalatee phir main deepak jaise,chhod mujhe ve jaate,
saavan rahata ek maah ve ek prahar mein jaate,
kal tak baarish mujhe jalaatee,
magar aaj man harshit hai,
man byaakul chanchal titalee see,
shaant aaj man pulakit hai,
baahar baarish garm hava-
kaanon mein shor machaatee,
bijalee kadake,barase baadal,
mujhe hosh na aatee,
tan bheega,man shaant jhamaajham-
saavan jhadee lagaee,
chhoot gayee gaadee jaane kee
baarish khel dikhaee,
chaar prahar phir baad saphar,
priyatam hain sang hamaare,
main jalatee jis baarish se,
usako ham aaj nihaare,
ai saavan too badee dayaalu,aaj agar na aate,
too rahate sang ek maah ve ek prahar mein jaate.
!!! madhusudan !!!

Advertisements

41 thoughts on “MILAN

  1. वाह वाह क्या बात है मधुसूदन जी आपने तो नायिका के संयोगा और वियोग दोनों चित्रण एक ही कविता में कर दिया है। मेरे हिसाब से तो जायसी को भी आपने पीछे छोड़ दिया है। मेरे नजर में आप की इस कविता को 100%मिलता। लाइक कमेंट तो फारमेल्टी है ब्लॉग का।

    Like

    1. बहुत बड़ी बात कह दी आपने—-बहुत बहुत बहुत छोटा हूँ मैं सिर्फ जोड़ तोड़ जानता हूँ।आपका कोटि कोटि आभार आपने मेरी कविता को इतना सराहा।

      Like

      1. कविता में जो तुकबंदी करना जान जाय। और सही शब्दों का जोड़ना जाय मेरी भाषा में उसी को सरस्वती की कृपा समझी जाती है।

        Like

      2. सही कहा आपने—/बिना सरस्वती माँ के कृपा के कुछ भी लिखना मुश्किल।धन्यवाद आपका आपके बहुमूल्य विचार देने के लिए—/–/

        Liked by 1 person

    1. SUKRIYA DANISH JI ……BILKUL……JINDAGI KAA NAAM HI MILNA AUR BICHHADNAA HAI. PARANTU KISI KISI KE JEEVAN MEN MILAN KAM BICHHADNAA HI JYAADAA HOTAA HAI JISE DIKHAANE KAA PRAYAAS KIYAA HUN SUKRIYAA.

      Liked by 1 person

      1. बहुत दिनों से कुछ व्यस्तता के कारण कोई ब्लॉग नहीँ पढ़ा पर आज आपके सारे पोएम और ब्लॉग पढ़ लिए सभी बहुत ही सुन्दर तरीके से लिखे है।

        Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s