JHANSI KI RANI

Image Credit : Google
बिजली जैसी चमक रही थी,हांथों में जिसकी तलवार,
झांसी की रानी थी सुनलो लक्ष्मीबाई की ललकार।
वीरों की धरती भारत में,वीर-धीर थी एक रानी,
मणिकर्णिका,लक्ष्मीबाई,नाम छबीली एक रानी,
भागीरथी माँ,पिता मोरोपंत की संतान अकेली थी,
शास्त्र,शस्त्र की शिक्षा,बचपन में ही उसने ले ली थी,
कानपूर की नानासाहेब की,मुँहबोली थी बहना,
बरछी,तलवारों के संग में बचपन से ही था रहना,
चूड़ी के बदले हाथों में जिसकी सजती थी तलवार,
झांसी की रानी थी सुनलो लक्ष्मीबाई की ललकार।1

बड़ी हुयी फिर हुयी सगाई,झांसी के महाराजा से,
मधुर मिलन लक्ष्मीबाई का गंगाधर महाराजा से,
मगर भाग्य में पुत्र नहीं,एक पुत्र हुआ वो रहा नहीं,
गोद लिया एक पुत्र मगर,दुर्भाग्य अभी भी टला नहीं,
ग्यारह साल हुए शादी का,पति का साया छूट गया,
झांसी के किले पर मानो,एक बिजली सा टूट पड़ा,
डलहौजी अंग्रेज ने दत्तक पुत्र को राजा ना माना,
हड़पनीति के आगे रानी का भी एक नहीं माना,
छूट गया वो महल जहाँ थी पति के यादों का संसार,
झांसी की रानी थी सुनलो लक्ष्मीबाई की ललकार।2

rani-laxmi-bai_1495185056

ईस्ट इंडिया नाम कंपनी आया बनकर व्यापारी,
हममे था मतभेद बड़ा वो बन बैठा था अधिकारी,
धूर्त बड़ा वो हम भोले थे,सबको एक समझते थे,
छल से जोड़ा हाथ फिरंगी,शासन हम पर करते थे,
ना ममता मजदूर से उनको,ना थी तरस किसानों पर,
बहनों की अस्मत लुटती थी,बीच भरी चौराहों पर,
जात-पात संग धर्म बंटा,हम कल टुकड़े रजवाड़ों में,
बंटे हुए हम लड़ते मिटते,अपने ही रखवालों में,
आपस का ये जंग फिरंगी का बन बैठा था हथियार,
झांसी की रानी थी सुनलो लक्ष्मीबाई की ललकार।3

कितने गम में झांसी थी हम कैसे उसे बखान करूँ,
झाँसी की रानी के गम,गुस्से का क्या इजहार करूँ,
बचपन में थी सुनी कहानी वीर शिवाजी की गाथा,
नस-नस में अंगार जले थे,काल बनी थी एक बाला,
महिलाओं का फ़ौज बनाया,छुप-छुपकर अंग्रेजों से,
झांसी का वो मान बढ़ाया,छुप-छुपकर अंग्रेजों से,
उत्तर से दक्षिण,पूरब से पश्चिम भारत जलता था,
भाग फिरंगी भाग के डंके आसमान में बजता था,
सन सत्तावन याद रहेगा वीरों के बलिदानो से,
झांसी की हर गालियां गूंजी इंकलाब के नारों से,
एक साथ अंग्रेजो के कई वार को खाली करती थी,
बिजली सी तलवार गरजती,विजयमार्ग पर चलती थी,
अंग्रेजों के छूटे पसीने,खाई उसने हार पर हार,
झांसी की रानी थी सुनलो लक्ष्मीबाई की ललकार।4

Rani-Lakshmibai-the-Rani-of-Jhansi

मगर एक दुर्भाग्य ने घेरा,उनका घोड़ा रूठ गया,
दौड़-दौड़ कर थका बेचारा,प्राण-पखेरू उड़ गया,
जबतक घोड़ा रहा साथ में,छूना उनको मुश्किल था,
अगर फिरंगी पास में आते,जीना उनका मुश्किल था,
मगर नया घोडा था,एक नाले पर आकर ठिठक गया,
रानी का सपनो की दुनियाँ,नाले पर ही बिखर गया,
अंग्रेजों ने घेर लिया,एक साथ में उनपर वार किया,
नारी होकर रानी ने,हर वार का उचित जवाब दिया,
पर पीछे ह्यूरोज ने घेरा,पीठ पर उसके वार किया,
अंग्रेजो के वार से थककर,उसने जीवन हार दिया,
बाईस की थी उम्र मात्र पर जीते जी ना मानी हार,
झांसी की रानी थी सुनलो लक्ष्मीबाई की ललकार।5

अठारह सौ पैंतीस में जन्मी,सन सत्तावन छोड़ गयी,
जून महीना अट्ठारह को,हमसे नाता तोड़ गयी,
नारी का एक फ़ौज बना,नारी को उसने सिखलाया,
अबला नहीं तू ऐ नारी,खुद लड़कर उसने दिखलाया,
पुरुषों के तुम साथ चलो,संसार के भाग्य बिधाता हो,
काली,दुर्गा,खड्गधारिणी,तुम्ही सीता-राधा हो,
सजने की जब अभिलाषा,हाथों में चूड़ी सजा लेना,
अपनों पर संकट आये तब,झट से खडग उठा लेना,
खौफ नहीं खाना दुश्मन से मन में संसय मत लाना,
घुट-घुट कर जीने से अच्छा है लड़कर के मर जाना,
धन्य थे वो माँ-बाप धन्य उस माटी ने जो जन्म दिया,
तुम्हें याद रखेंगे हरदम,देश का तुमने मान दिया,
भाग फिरंगी भाग की तेरी नारों पर जीवन दूँ वार,
झांसी की रानी थी सुनलो लक्ष्मीबाई की ललकार,
झांसी की रानी थी सुनलो लक्ष्मीबाई की ललकार।6
!!! मधुसूदन !!!

Bijalee jaisee chamak rahee thee,haanthon mein jisakee talavaar,
jhaansee kee raanee thee sunalo lakshmeebaee kee lalakaar.
veeron kee dharatee bhaarat mein,veer-dheer thee ek raanee,
manikarnika,lakshmeebaee,naam chhabeelee ek raanee,
bhaageerathee maan,pita moropant kee santaan akelee thee,
shaastr,shastr kee shiksha,bachapan mein hee usane le lee thee,
kaanapoor kee naanaasaaheb kee,munhabolee thee bahana,
barachhee,talavaaron ke sang mein bachapan se hee tha rahana,
choodee ke badale haathon mein jisakee sajatee thee talavaar,
jhaansee kee raanee thee sunalo lakshmeebaee kee lalakaar.1

custom-crop-800x600-99_2017121857

badee huyee phir huyee sagaee,jhaansee ke mahaaraaja se,
madhur milan lakshmeebaee ka gangaadhar mahaaraaja se,
magar bhaagy mein putr nahin,ek putr hua vo raha nahin,
god liya ek putr magar,durbhaagy abhee bhee tala nahin,
gyaarah saal hue shaadee ka,pati ka saaya chhoot gaya,
jhaansee ke kile par maano,ek bijalee sa toot pada,
dalahaujee angrej ne dattak putr ko raaja na maana,
hadapaneeti ke aage raanee ka bhee ek nahin maana,
chhoot gaya vo mahal jahaan thee pati ke yaadon ka sansaar,
jhaansee kee raanee thee sunalo lakshmeebaee kee lalakaar.2

eest indiya naam kampanee aaya banakar vyaapaaree,
hamame tha matabhed bada vo ban baitha tha adhikaaree,
dhoort bada vo ham bhole the,sabako ek samajhate the,
chhal se joda haath phirangee,shaasan ham par karate the,
na mamata majadoor se unako,na thee taras kisaanon par,
bahanon kee asmat lutatee thee,beech bharee chauraahon par,
jaat-paat sang dharm banta,ham kal tukade rajavaadon mein,
bante hue ham ladate mitate,apane hee rakhavaalon mein,
aapas ka ye jang phirangee ka ban baitha tha hathiyaar,
jhaansee kee raanee thee sunalo lakshmeebaee kee lalakaar.3

kitane gam mein jhaansee thee ham kaise use bakhaan karoon,
jhaansee kee raanee ke gam,gusse ka kya ijahaar karoon,
bachapan mein thee sunee kahaanee veer shivaajee kee gaatha,
nas-nas mein angaar jale the,kaal banee thee ek baala,
mahilaon ka fauj banaaya,chhup-chhupakar angrejon se,
jhaansee ka vo maan badhaaya,chhup-chhupakar angrejon se,
uttar se dakshin,poorab se pashchim bhaarat jalata tha,
bhaag phirangee bhaag ke danke aasamaan mein bajata tha,
san sattaavan yaad rahega veeron ke balidaano se,
jhaansee kee har gaaliyaan goonjee inkalaab ke naaron se,
ek saath angrejo ke kaee vaar ko khaalee karatee thee,
bijalee see talavaar garajatee,vijayamaarg par chalatee thee,
angrejon ke chhoote paseene,khaee usane haar par haar,
jhaansee kee raanee thee sunalo lakshmeebaee kee lalakaar.4

magar ek durbhaagy ne ghera,unaka ghoda rooth gaya,
daud-daud kar thaka bechaara,praan-pakheroo ud gaya,
jabatak ghoda raha saath mein,chhoona unako mushkil tha,
agar phirangee paas mein aate,jeena unaka mushkil tha,
magar naya ghoda tha,ek naale par aakar thithak gaya,
raanee ka sapano kee duniyaan,naale par hee bikhar gaya,
angrejon ne gher liya,ek saath mein unapar vaar kiya,
naaree hokar raanee ne,har vaar ka uchit javaab diya,
par peechhe hyooroj ne ghera,peeth par usake vaar kiya,
angrejo ke vaar se thakakar,usane jeevan haar diya,
baees kee thee umr maatr par jeete jee na maanee haar,
jhaansee kee raanee thee sunalo lakshmeebaee kee lalakaar.5

athaarah sau paintees mein janmee,san sattaavan chhod gayee,
joon maheena atthaarah ko,hamase naata tod gayee,
naaree ka ek fauj bana,naaree ko usane sikhalaaya,
abala nahin too ai naaree,khud ladakar usane dikhalaaya,
purushon ke tum saath chalo,sansaar ke bhaagy bidhaata ho,
kaalee,durga,khadgadhaarinee,tumhee seeta-raadha ho,
sajane kee jab abhilaasha,haathon mein choodee saja lena,
apanon par sankat aaye tab,jhat se khadag utha lena,
khauf nahi khana dushman se man men sansay mat laanaa,
ghut-ghut kar jine se achchha hai ladkar ke mar jaanaa,
dhany the vo maan-baap dhany us maatee ne jo janm diya,
tumhen yaad rakhenge haradam,desh ka tumane maan diya,
bhaag phirangee bhaag kee teree naaron par jeevan doon vaar,
jhaansee kee raanee thee sunalo lakshmeebaee kee lalakaar,
jhaansee kee raanee thee sunalo lakshmeebaee kee lalakaar.6
!!! Madhusudan !!!

Advertisements

62 thoughts on “JHANSI KI RANI

  1. कमाल कर दिया है आपने,सम्पूर्ण विस्तृत काव्यमय चित्रण!!

    Liked by 1 person

    1. हौसला बढ़ाने एवं पसंद करने के लिए बहुत बहुत सुक्रिया आपका—वैसे मैंने कल आपका लिखा पढ़ा फिर लिखने का ख़याल आया।

      Liked by 1 person

      1. आपने लिखकर मेरी भावनाओं को शाब्दिक आकार प्रदान किया है,हार्दिक आभार!!

        Like

  2. एक बार फिर वो पंक्तिया याद आ गई – खूब लड़ी मर्दानी वो तों झांसी वाली रानी थी
    बहुत सुन्दर सर वीरता और सूचनाओ का गठबंदन बहुत खूब

    Liked by 1 person

  3. सुन्दर अभिव्यक्ति लगा सच में इतिहास में खो गए।अमर इतिहास भारत का।बहुत खूब।

    Like

  4. कितना सुंदर चित्रण!आपने हमारा इतिहास याद दिला दिया। और साथ ही नारी को उसकी शक्ति की याद दिलाती है।

    Like

    1. हाँ सही कहा हमारा इतिहास और नारी दिनों सम्माननीय हैं इसे सबको समझना होगा।सुक्रिया आपको कविता पसंद आयी।

      Liked by 1 person

  5. 
नारी का एक फ़ौज बना,नारी को उसने सिखलाया,
अबला नहीं तू ऐ नारी,खुद लड़कर उसने दिखलाया,
पुरुषों के तुम साथ चलो,संसार के भाग्य बिधाता हो,
काली,दुर्गा,खड्गधारिणी,तुम्ही सीता-राधा हो,
सजने की जब अभिलाषा,हाथों में चूड़ी सजा लेना,
अपनों पर संकट आये तब,झट से खडग उठा लेना,
    बहुत ही उत्साह वर्धक लेखन
    नारी के साहस की अद्वितीय मिसाल ||

    Like

    1. धन्यवाद अभय जी।हाँ —सारे पोस्ट पढ़ पाना समयाभाव में सम्भव नही मगर आपने दूसरे प्रयास में पढ़ा और सराहा उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद आपका।☺️

      Like

  6. Reblogged this on याद शहर and commented:
    हमारे एक ब्लोगर दोस्त मधुसूदन जी है जिनकी कविता – ‘झाँसी की रानी’ पढ़ कर बहुत अच्छी लगी जो मुझे खुद के ब्लॉग से शेयर कर रहा हूँ |

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s