औरत /Women

औरत /Women

औरत तेरी यही कहानी |
प्रेम का सागर दिल है,आँखों में है दर्द का पानी,
औरत तेरी यही कहानी |

बिटिया, बहन, बहु भी तू है, आँगन की शोभा भी तू है,
वात्सल्य की अबिरल धारा,जग-जननी जगदम्बा तू है,
तुमसे काशी,काबा तुमसे, गिरिजाघर, गुरुद्वारा तुमसे,
अल्लाह,ईश्वर,गॉड का जिसने,ज्ञान दिया ओ जन्मा तुमसे,
तेरी आँचल में पलकर जग,करता क्यों मनमानी,
औरत तेरी यही कहानी |

 

तुम बिन ये संसार ना होता, होठों पर मुश्कान ना होता,
पौरुष दिखलानेवालों को, तुम बिन जग का ज्ञान न होता,
स्वाभिमान का पाठ पढ़ा तू, गलत-सही का भेद बताया,
कौन पिता है हम क्या जाने, मूढ़ को इसका ज्ञान कराया,
ज्ञान की देवी तुमको जग,अब बना दिया अज्ञानी,
औरत तेरी यही कहानी |

ममता,करुणा की देवी अब,हर दिन जलती रहती है,
बहु रूप में कैद कहीं, बन बेटी कहीं सिसकती है,
पिता,पुत्र और पति रूप में,पौरुष तांडव करता हैं,
जहाँ भी देखो हर घर में एक,रावण शासन करता है,
सृजन की देवी सिसक-सिसक,अब देती है कुर्बानी,
औरत तेरी यही कहानी |

त्याग का कोई मोल नहीं, ईश्वर नतमस्तक है तुमपर,
शक्ति स्वरूपा सदियों से,अबला बन बैठोगी कब तक,
प्रेम से तुमसे बात करे तुम,प्रेम लुटानेवाली हो,
छल,बल तेरे साथ करे तूुम,पल में बनती काली हो,
अत्याचार का अंत, बंद कर दो देना कुर्बानी,
औरत तेरी यही कहानी |

प्रेम का सागर दिल है,आँखों में है दर्द का पानी,
औरत तेरी यही कहानी |औरत तेरी यही कहानी ||

 

!!! मधुसूदन !!!

Nari/Women

Aurat Teri Yahi Kahain.
Prem ka sagar dil phir bhi, Ankhon men dard ka Pani,
Aurat teri yahi kahain.

Bitiya Bahan Bahu Bhi tu hai,
Watsalya ki abiral dhara, jag-janni jagdamba tu hai,
Tumse kashi,Kaba tumse, Girijaghar,Gurudwara tumse,
Allah,Ishwar,God ka jisne gyaan diya use jaaya tumne,
Teri anchal men palkar jag, karta kyun manmaani,
Aurat Teri yahi Kahani.

Tum bin ye sansaar na hota, hothon par mushkaan naa hota,
Paurush dikhlaanewaalon ko, tum bin jag ka gyaan na hota,
Swaabhimaan ka paath padha tu, galat-sahi ka bhed bataaya,
Kaun pita hai ham kya jaane, mudh ko eskaa gyaan karaaya,
Gyaan ki Devi tumko jag, kyun bana diya agyaani,
Aurat teri yahi kahaani.

Mamta,Karuna,Tyaag ki devi, nis din jalti rahti hai,
Bahu roop men Qaid kahin, Beti ban kahin sisakti hai,
Pita,Putra aur Pati roop men paurush tandav karta hai,
Jahaan bhi dekho har ghar men ek Rawan shasan karta hai,
Srijan ki devi sisak-sisak ab deti hai kurbaani,
Aurat teri yahi kahaani.

Tyaag ka koyee mol nahin, Ishwar natmastak hai tumpar,
Shakti swarupa sadiyon se, Ablaa ban baithogi kab tak,
Koyee prem se tumse baat kare, tum prem lutaanewali ho,
Koyee chhal,bal tere saath kare,Pal men ban jaati kaali ho,
Kar atyaachaar ka ant, band kar do dena kurbaani,
Aurat teri yahi kahaani.

Pram ka saagar dil phir bhi, aankhon men dard ka paani,
Aurat teri yahi kahaani. Aurat teri yahi kahaani.

!!! Madhusudan !!!

 

Advertisements

65 thoughts on “औरत /Women

  1. प्रेम का सागर दिल है,आँखों में है दर्द का पानी,
    औरत तेरी यही कहानी |औरत तेरी यही कहानी ||

    bahut hi behtarin kavita likha dala apne aurto ke naam bahut behtarin madhusudan ji

    Like

      1. आप राहुल ही बोलिए अच्छा लगेगा। सर शोभा नही देता।

        Liked by 1 person

  2. पुरूष होकर एक औरत की वास्ताविक स्थिति को काफी अच्छे से समझा है मधुसूदन भाई।बहुत अच्छी रचना है

    Like

    1. औरत तो बचपन से साथ है कैसे ना समझेंगे।नादान हैं वे जो नही समझते।सुक्रिया आपने हमे और हमारी कविता को समझा।

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s