दास्तान

दास्तान

एक सैनिक अपनी पत्नी एवं बूढ़े माँ-बाप का एक मात्र सहारा, देश की रक्षा करते हुए अपनी जान गवां देता है।घर पर आयी अचानक आफत के बावजूद तीनों सदस्य अपने-अपने फर्ज पर अडिग एवं एक दूसरे को खुश रखने में लगे हुए हैं। वैसे बूढ़े सास-ससुर को अपनी पुत्रवधु का दुःख सहा नहीं जाता परंतु कुछ कहने का वे हिम्मत भी नहीं जुटा पाते।अंत मे दिल पर पत्थर रख उसे समझा-बुझाकर दूसरी शादी करने हेतु पडोसी महिलाओं को माध्यम बनाते हैं जिसे सुन वह लड़की तड़पती हृदय से अपने पति की तस्वीर लिए कहती है———–

खो गया है सफर अब कहाँ चैन है,
दिल तड़पता है हम कितने बेचैन हैं,
इस बेचैनी में भी एक मजा है,
मेरी आँखों में तेरा नशा है।मेरी आँखों में तेरा नशा है।

लोग कहतें हैं तुम अब नहीं हो यहां,
कितना पागल है सचमुच में सारा जहां,
तुम कहाँ हो किसे हम बताएं,
अपनी धड़कन को कैसे दिखाएं,
मेरी साँसों में तुम,मेरी ख़्वाबों में तुम,
गांव की हर गली और राहों मे तुम,
खेत-खलिहान में,बाग़-बागवान में,
तुम बसे हो यहीं धुप और छावं में,
तूं ही कण कण में मेरे बसा है,
मेरी आँखों में तेरा नशा है।मेरी आँखों में तेरा नशा है।

बीती बातों को कहतें हैं तुम भूल जा,
लोग कहतें हैं दुनिया नयी तू बसा,
हम किस किस को क्या क्या बताएं,
माँ पिता को हम कैसे भुलाएं,
माँ की बातों में तुम उनकी आँखों तुम,
छू लिए गाल तो उनके हाथों में तुम,
शीश झुकते तो पापा के पांव में तुम,
शीश आँचल तले माँ के छांव में तुम,
इनके क़दमों में मेरा जहां है,
मेरी आँखों में तेरा नशा है |मेरी आँखों में तेरा नशा है।

बेवफा हम नहीं बेवफा तुम नहीं,
फिर जमाने को क्यों चैन आता नहीं,
अश्क आँखों में मेरी ना अब आएगी,
जीतेजी तेरी इज़्ज़त ना मिट पाएगी,
कितना प्यारा मगर अब ना बचपन रहा,
नाज करते थे अब ओ ना यौवन रहा,
इस जमाने का ये दास्ताँ है,
तू जहां मैं वहाँ,तू नहीं मैं कहाँ,
मेरे रग-रग में तू ही बसा है,
मेरी आँखों में तेरा नशा है|मेरी आँखों में तेरा नशा है।

!!! मधुसूदन !!!

Daastaan
Ek sainik jo apne patni evam budhe maa-baap ka ek matra sahaaraa,desh ki aan baan aur shaan ki raksha me apni jaan kurbaan kar deta hai.ghar par aayee aachaanak aafat ke waawzud sabhi apne apne kartabya par adig they.parantu budhe saas-sasur ko apne putrawadhu ka dukh sahaa nahi jaataa phir khud samjhaane men asmarth padosi mahilaaon ka sahaara leta hai jiske samjhaane par wah ladki rote huye apne pati ki tasweer se kahti hai……..

Kho gayaa hai safar ab kahaan chain hai,
Dil tadpta hai ham kitne bechain hain,
Es bechaini men bhi ek mazaa hai,
meri aankhon men teraa nashaa hai.meri…

Log kahte hain tum ab nahi ho yahaan,
Kitna paagal hai sachmuch men saara jahaan,
tum kahaan ho kise ham bataayen,
Apni dhadkan ko kaise dikhaayen,
Meri saason men tum, meri kwaabon men tum,
gaawn ki har gali aur raahon men tum,
khet khalihaan men, baag bagwaan men,
Tum hi ho dhup men,tum hi ho chhaawn men,
mere kan kan men tu hi basaa hai,
meri aankhon men tera nashaa hai.
Biti baaton ko kahte hain tum bhul jaa,
log kahte hain duniyaan nayee tu basaa,
ham kis kis ko kyaa kyaa bataayen,
maa-pita ko ham kaise bhulaayen,
maa ki baaton men tum unki aankhon men tum,
chhu liye gaal to unke haathon men tum,
shish jhukte to papa ke pawn men tum,
shish aanchal taley maa ke chhawn men tum,
enke kadmon me mera jahaan hai,
meri aankhon me tera nashaa hai.
Bewfa tum nahi bewfa ham nahi,
es jamaane ko kyun chain aataa nahi,
meri aankhon men aasun naa ab aayegaa,
jiteji teri ezzat naa mit paayegaa,
dekh pyaaraa magar chhod bachpan gayaa,
naaz thaa jispar ab o naa yauwan rahaa,
es jamaane kaa ye daastaan hai, meri aankhon men teraa nashaa hai. Meri aankhon men teraa nashaa hai.

Madhusudan

Advertisements

58 thoughts on “दास्तान

    1. सुक्रिया—-जब भी कुछ लिखते हैं खुद को वहीँ पाते हैं—-फिर आंसू छलक जाते हैं ये सोच कर क़ि कैसा होगा उनका जिंदगी,कितनी त्याग सोचने की सीमा से परे।धन्यवाद

      Like

  1. माँ की बातों में तुम उनकी आँखों तुम,
    छू लिए गाल तो उनके हाथों में तुम,
    शीश झुकते तो पापा के पांव में तुम,
    शीश आँचल तले माँ के छांव में तुम,…….. अति सुन्दर… कविता के एक एक शब्द पर मन को उस व्यथा की अनुभूति हुई…..अत्यंत ही जिवंत रचना👌👌👌

    Like

  2. बहुत खुब सर आपकी कविताएँ दिल को छू जाती है।

    Like

    1. सच मे ऐसी औरते चौराहे पर खड़ी होती है जिसकी बिबसता शब्दों में बयान करना नामुमकिन है फिर भी एक छोटा सा प्रयास ।सुक्रिया आपने पसंद किया।

      Like

  3. क्या खूबसूरत रचना लिखी है आपने। स्त्री मन का इतना मार्मिक चित्रण आज तक कंही नही पढ़ा।बहुत खूब अति सुन्दर

    Like

    1. हम सिर्फ कल्पना कर सकते हैं—-जिसका अपना खोता है उसके मन की पीड़ा और सोंच को समझना बहुत ही कठिन। फिर भी एक प्रयास जिसे आपने सराहा बहुत बहुत धन्यवाद।

      Liked by 1 person

      1. O……Main to sirf kalpana kar saktaa hun…Parantu bakhubi dard mahsus kar sakta hun….Goliyon ke bauchhar ke beech koyee apnaa ho fir ghar me koyee kaise so saktaa hai….Samajh sakte hain ham…

        Liked by 1 person

      2. Koi b sainik border p Hai to vo Kisi ek ka apna nahi Hai vo sbka Hai kuki vo sbki safety k liye vha Hai !
        Ap jaise log hi unki hausalafjai k liye kafi Hai vrna log to ajkal apne bachhon ko army join krne bhool SE BHI Salah nahi dete 😀

        Like

      3. Sach kahaa sainik hAmAre bhayee hain….Isme koyee do rai nahi….Ham salut karte hain unhe aur unko bhi jo apne bete ko sharad par bhejaa.saubhagya mila to ham bhi apne bete ko sharhad jarur bhejenge….Jai hind …Jai sainik…

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s