Mrigtrishna/Pyaasi Jindagi

Mrigtrishna/Pyaasi Jindagi

जिनके घर कच्चे है महल को,दूर से देख तरसते हैं,
उनको क्या मालुम वहाँ पर,निसदिन आंसू बहते है।

देख लिया दौलत महलों का,मन की त्रिसना ना देखा,
हँसी,ठिठोली देखी उनकी,अंतर्द्वन्द नहीं देखा,
चोरी का डर वहां किसी को,इनकम टैक्स के छापे का,
भाई को भाई से डर है,छल से माल छुपाने का,
महल बड़ा पर चैन नहीं है,झोपड़वाले क्या जाने,
चकाचौंध की बिरह-ब्यथा,झूठी मुश्कान न पहचाने,
मखमल का बिस्तर भी उनको कांटो जैसे चुभते हैं,
उनको क्या मालुम वहाँ पर,निसदिन आंसू बहते है।

ढोल नगाड़े बजते निसदिन,जहाँ पर झोपड़पट्टी है,
पेट भले ही खाली हो पर,चैन की रात गुज़रती है,
अम्बर नीला छत है,पावन बिस्तर उनकी माटी है,
नींद मज़े की है आती,चाहे वह टूटी खाटी है,
दिन बिछड़ते इधर उधर,रोटी की आपा धापी में,
मधुर मिलन रातों में मिलजुल,खाते एक ही थाली में,
खुशियां है है प्यार मगर, महलों को देख तरसते हैं,
उनको क्या मालुम वहाँ पर,हर दिन आंसू बहते है।

चकाचौंध की दुनिया में,हैं साथ मगर सब तन्हां हैं,
प्रेम का दौलत साथ मगर,दौलत के आगे नन्हां हैं,
मृगत्रिश्ना सा हाल है सब,पानी में प्यासे रहते हैं,
उनको क्या मालुम वहाँ पर,निसदिन आंसू बहते है।
उनको क्या मालुम वहाँ पर,निसदिन आंसू बहते है।

!!! मधुसूदन !!!

Mrigtrishna/Pyaasi Jindagi

Jinke ghar kachche hain, mahal ko dur se dekh taraste hain,

Unkon kyaa malum wahaan par, har din aanshu bathe hain,

Unkon kyaa malum wahaan par, har din aanshu bathe hain,

Mahal badaa par chain nahin hai, jhopadwaale kyaa jaane,

Chakachaundh ki birah byathaa, jhuthi mushkaan naa pehchaaen,

Daulat dekhi usne par naa, man ki trishnaa dekh sakaa,

Saath men baithe gharwaale par saath nahin naa dekh sakaa,

Makhmal ka bistar bhi unkon kaanto jaise chubhte hain,

Unko kyaa maaloom wahaan par har din aanshu bahte hain,

Unko kyaa maaloom wahaan par har din aanshu bahte hain.

Dhol nagaade bajte nis-din, jahaan par jhopadpatti hai,

Pet bhale hi khaali ho par chain ki raat gujarti hai,

Din bichhadte edhar-udhar roti ki aapaa-dhaapi men,

Madhur Milan raaton men milzul,khaate ek hi thaali men,

Khushiyaan hai hai pyaar magar, mahlon ko dekh tarashte hain,

Unko kyaa maaloom wahaan par har din aanshu bahte hain,

Unko kyaa maaloom wahaan par har din aanshu bahte hain.

Chakachaundh ki duniyaan men ham, saath magar ham tanhaan hain

Prem kaa daulat saath magar, daulat ke aage nanhaa hain,

Mrigtrishnaa saa haal hai ham, paani men pyaase rahte hain,

Unko kyaa maaloom wahaan par har din aanshu bahte hain,

Unko kyaa maaloom wahaan par har din aanshu bahte hain.

!!! Madhusudan !!!

Advertisements

36 thoughts on “Mrigtrishna/Pyaasi Jindagi

  1. बहुत बढिया लिखा 👏👌👌है,,वो कहते है ना दूर के ढोल सुहावने लगते है वही बात है कि जब तक खुद पर नी बीते कोई नहीं समझता है ।

    Like

  2. “प्रेम के सागर में जो डूब के मरते है,

    मरणैपरांत भी उस सागर को वो कोसते है,

    तरसते है वो तपोवन मै रहने को,

    जहॉ निसदिन लोग ‘घृणा और स्वार्थ’ जैसे शेरखान का शिकार होते है I”…..
    बहुत खूब लिखा आपने..👏👏

    Like

    1. सुक्रिया आपका आपने पसंद किया और सराहा –वैसे आपने भी बहुत बढ़िया लिखा है।

      Like

  3. बहुत खूब। आपने कितनी खूबसूरती से अमीरी और गरीबी के अंतर को दर्शाया। सच हैं कि जो सुकून झोपड़ी में हैं वो महलो में कहा।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s