DAGABAAJ YARA

DAGABAAJ YARA

हमने जिनसे इश्क किया वो दगाबाज निकला,
उनके दिल में भी एक छोटा सा दिमाग निकला,
हमने जिनसे इश्क किया वो दगाबाज निकला।

मैं था राही एक दिन,
राह में थककर चूर हो गया,
रास्ता रेत भरा था,
सिर पर सीधा धुप हो गया,
दिख गयी दूर पेड़ की डाली,
थोड़ी आशा मन में जागी,
दौड़ा पेड़ के नीचे आया,
थोड़ी राहत मैंने पाया,
आँख खुली तो शाम ढली थी,
बिस्मित देख के आँख हुयी थी,
सोया था जिस पेड़ के नीचे,वह शमशान निकला,
हमने जिनसे इश्क किया वो दगाबाज निकला।२

10725179_635290889921544_2051552350_n

उनकी झील सी गहरी आँखें,
हर पल मेरी ओर ही ताके,
फूल सी होठों पर मुश्कान,
करती थी वो हँसकर बातें,
मैंने समझा जन्नत पाया,
जुल्फों की खुशबू था भाया,
क्या मैं खुशियां दे दूँ उनको,
उनका दर्द हमें सब भाया,
वो भी मेरे साथ खड़ी थी,
एक दिन आंखें अश्क भरी थी,
कैसी थी उनकी मजबूरी,
सोंच में मेरी जान पड़ी थी,
जिसने धड़कन हमको माना,
फिर भी हमको ना पहचाना,
समझ गया मैं सब बेचैनी,
चाहत क्या उनकी मैं जाना,
दिल  की  गहराई  में  देखा दूजा  यार  निकला,
हमने जिनसे इश्क किया वो,दगाबाज निकला।२
                   Cont here to read part .2

!!! मधुसूदन !!!

 

Advertisements

10 thoughts on “DAGABAAJ YARA

  1. बहुत ही अच्छा लिखा है मधुसूदन जी। पहले की लिखी कविता है या इस समय की। इस भाव की कविता उम्र के – – – – – – – – – – – – – ।वैसे लिखने और सीखने की उम्र नहीं होती है। मैं थोड़ा खिंचाई कर रही थी बस। बहुत खूब बहुत ही अच्छा लिखा है आपने। मानना पड़ेगा हर क्षेत्र में उस्ताद हो आप कविता लिखने में।

    Liked by 1 person

    1. सुक्रिया आपका—-आपने पसंद किया और सराहा।मैने इसी फरवरी से लिखना शुरू किया है।ये कविता आज की ही है।वैसे हम सब ऐसे लोग है जो दूसरे के दर्द अपनी लेखनी से उकेर देने का प्रयास करते हैं।

      Like

  2. हमने जिनसे इश्क किया वो दगाबाज निकला,
    उनके दिल में भी एक छोटा सा दिमाग निकला,

    ye line mujhe sabse jyada chhu gaya bahut khub Madhusudan ji

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s