Katha Bhakt Prahlad ki

Image Credit : Google.

है राह कठिन पर सत्य प्रबल,पर्वत भी शीश झुकाता है,
इंसान चला गर सत्य के पथ,रब बेबस चलकर आता है।
ब्रम्हा से वर को प्राप्त किया,
एक राजा नाम हिरणकश्यपु
जनता के बीच उद्घोष किया,
खुद को ही मान लिया स्वयंभू,
जन-जन उसको भगवान कहे,
आह्लादित वह शैतान हुआ,
था झूठ की दुनियाँ में अंधा,
वह सत्य से फिर अनजान हुआ,
प्रहलाद हुआ उसका बेटा,
कुम्हार यहां अचरज देखा,
जलती भट्टी से बिल्ली के,
जिंदा वापस बच्चे देखा,
श्रीहरि का देखा नाम प्रबल,विष्णु का रटन लगाता है,
इंसान चला गर सत्य के पथ,रब बेबस चलकर आता है।

मुख विष्णु धुन प्रहलाद से सुन,
वह पुत्र को समझाकर हारा
फिर दंड दिया कितने कठोर,
हर बार उसे वह हत्यारा,
अस्तबल में बांधा घोड़े संग,
हाथी के संग भी बंधवाया,
पर्वत से फेका पुत्र मगर,
वापस जिंदा उसको पाया,
ना उसे डुबाया सागर ने,
ना विषधर से ही मात हुई,
फिर आग में चला जलाने को,
होलिका ही जलकर राख हुई,
उस दुष्ट की बहन जली तब से,होली इंसान मनाता है,
इंसान चला गर सत्य के पथ,रब बेबस चलकर आता है।
श्रीहरि सुना फिर कानो से,
गुस्से में पीला,लाल हुआ,
प्रह्लाद को देखा जब सम्मुख,
वह दुष्ट बहुत बिकराल हुआ,
श्रीहरि सुना फिर बोल उठा,
रे दुष्ट तुम्हारा काल यहाँ,
अब बोलो कौन बचाएगा,
रे दुष्ट बता भगवान कहाँ,
प्रह्लाद कहा वह कहाँ नही,
कण-कण में है मेरा स्वामी,
नभ में,जल में,हममे,तुममे,
है खड्ग,खम्भ अन्तर्यामी,
वह मूर्ख गरजता फिर हंसता,खुद काल को पास बुलाता है,
इंसान चला गर सत्य के पथ,रब बेबस चलकर आता है।

गुस्से में खम्भ से बांध दिया,
तलवार गले पर तान दिया,
बोला भगवान बुलाओ तुम,
श्रीहरि का रटन लगाओ तुम,
खंभे को फाड़कर प्रकट हुए,
नरसिंह रूप भगवान वहां,
बालक प्रह्लाद की भक्ति ने,
दिखलाया सत्य का ज्ञान वहां,
फिर अंत किया हिरणकश्यप,
नरसिंह रूप श्रीहरि मिले,
प्रहलाद भक्त के अथक प्रेम में,
विह्वल आकर हरि मिले,
कोई ना मार सका उसको,जो रब का रटन लगाता है,
इंसान चला गर सत्य के पथ,रब बेबस चलकर आता है।

जब जब मानव ने हद तोड़ा,
खुद को भगवान बनाया है,
इंसान की दुनियाँ में खुद को,
इंसान से ऊपर पाया है,
फिर सत्ता,धन,बल,अहंकार,
धरती से पाप मिटाने को,
तब तब श्रीहरि अवतार लिए,
उस दुष्ट को सबक सिखाने को,
है सत्य जहाँ भगवान वहां,रब रूप बदलकर आता है,
इंसान चला गर सत्य के पथ,रब बेबस चलकर आता है।

!!! मधुसूदन !!!

 hai raah kathin par saty prabal,parvat bhee sheesh jhukaata hai,
insaan chala gar saty ke path,rab bebas chalakar aata hai.
bramha se var ko praapt kiya,
ek raaja naam hiranakashyapu
janata ke beech udghosh kiya,
khud ko hee maan liya svayambhoo,
jan-jan usako bhagavaan kahe,
aahlaadit vah shaitaan hua,
tha jhooth kee duniyaan mein andha,
vah saty se phir anajaan hua,
prahalaad hua usaka beta,
kumhaar yahaan acharaj dekha,
jalatee bhattee se billee ke,
jinda vaapas bachche dekha,
shreehari ka dekha naam prabal,vishnu ka ratan lagaata hai,
insaan chala gar saty ke path,rab bebas chalakar aata hai.

mukh vishnu dhun prahalaad se sun,
vah putr ko samajhaakar haara
phir dand diya kitane kathor,
har baar use vah hatyaara,
astabal mein baandha ghode sang,
haathee ke sang bhee bandhavaaya,
parvat se pheka putr magar,
vaapas jinda usako paaya,
na use dubaaya saagar ne,
na vishadhar se hee maat huee,
phir aag mein chala jalaane ko,
holika hee jalakar raakh huee,
us dusht kee bahan jalee tab se,holee insaan manaata hai,
insaan chala gar saty ke path,rab bebas chalakar aata hai.

shreehari suna phir kaano se,
gusse mein peela,laal hua,
prahlaad ko dekha jab sammukh,
vah dusht bahut bikaraal hua,
shreehari suna phir bol utha,
re dusht tumhaara kaal yahaan,
ab bolo kaun bachaega,
re dusht bata bhagavaan kahaan,
prahlaad kaha vah kahaan nahee,
kan-kan mein hai mera svaamee,
nabh mein,jal mein,hamame,tumame,
hai khadg,khambh antaryaamee,
vah moorkh garajata phir hansata,khud kaal ko paas bulaata hai,
insaan chala gar saty ke path,rab bebas chalakar aata hai.

gusse mein khambh se baandh diya,
talavaar gale par taan diya,
bola bhagavaan bulao tum,
shreehari ka ratan lagao tum,
khambhe ko phaadakar prakat hue,
narasinh roop bhagavaan vahaan,
baalak prahlaad kee bhakti ne,
dikhalaaya saty ka gyaan vahaan,
phir ant kiya hiranakashyap,
narasinh roop shreehari mile,
prahalaad bhakt ke athak prem mein,
vihval aakar hari mile,
koee na maar saka usako,jo rab ka ratan lagaata hai,
insaan chala gar saty ke path,rab bebas chalakar aata hai.

jab jab maanav ne had toda,
khud ko bhagavaan banaaya hai,
insaan kee duniyaan mein khud ko,
insaan se oopar paaya hai,
phir satta,dhan,bal,ahankaar,
dharatee se paap mitaane ko,
tab tab shreehari avataar lie,
us dusht ko sabak sikhaane ko,
hai saty jahaan bhagavaan vahaan,rab roop badalakar aata hai,
insaan chala gar saty ke path,rab bebas chalakar aata hai.

!!! Madhusudan !!!

Advertisements

31 thoughts on “Katha Bhakt Prahlad ki

  1. वाह वाह क्या बात है। मधुसूदन जी बहुत खूब। कहानियों में सुना और ग्रन्थों में पढा था लेकिन कविता रुप में पढकर बहुत ही अच्छा लगा।
    👌👏💐

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s