Prarthna

मेरा कोई ना सहारा भगवान्,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे,
बड़ा बिचलित हुआ है इंसान,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे।

तेरा ही रूप इंसान नहीं सोंचता,
जाति और धर्म में जहान को है तौलता,
मेघ,जल,सूर्य और जमीन,आसमान में,
पेड़,पहाड़,नदी तू ही है शशांक में,
प्रभु तू ही बसा है रेगिस्तान,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे,
बड़ा बिचलित हुआ है इंसान,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे।

images

शुक्ष्म हो जीव या विशाल कोई जीव हो,
तेरा ही है रूप सभी चाहे कोई जीव हो,
देख इंसान सभी जीव को मिटाते है,
ब्यर्थ का दोष एक दूजे पर लगाते हैं,
मिल धरती बनाते शमशान,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे,
बड़ा बिचलित हुआ है इंसान,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे।

जैसा है सोंच बना वैसा तेरा रूप है,
तेरे बगैर ना ही छांव ना ही धूप है,
कोई साकार,निराकार तुझे बोलता,
तेरा ही रूप कोई यहां वहाँ खोजता,
तू कहाँ नहीं है भगवान्,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे,
बड़ा बिचलित हुआ है इंसान,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे।

कहां हैं लोग जो कुरान को हैं जानते,
गीता की सोंच कहाँ सभी पहचानते,
पढा ना वेद जो ना पढा है कुरान को,
वही बताता आज ज्ञान इस जहान को,
देख खुद ही बना है भगवान,खड़ा हूँ उस जहान में तेरे,
बड़ा बिचलित हुआ है इंसान,खड़ा हूँ मैं जहान में तेरे।

!!! मधुसूदन!!!

25 thoughts on “Prarthna

  1. प्रार्थना में बड़ी शक्ति होती है. आपने आज बड़ा अच्छे विषय पर लिखा है . आज ही कहीँ निम्नलिखित पंक्तियाँ पढी है —-

    when you are physically ill you visit a doctor when you’re spiritually deficient you visit god. He’s open 24/7, 365. You don’t even need an appointment.

    Liked by 1 person

    1. Dhanyawaad apka apne pasand kiya aur sarahaa…waise aap wah sab kar sakte hain ….prayas jaari rakhiye….waise maine aisaa kuch to nahi likha….phir bhi aapko achchha lagaa..bahut bahut dhanyawaad apka.

      Like

  2. प्रार्थना का प्रारम्भ आरम्भ अन्त हर कोई समझ नहीं सकता ,ईश्वर बसतें हैं हम सबमें ईश्वरीय अंश का आभास हर कोई कर नहीं सकता।
    कितने तो बस व्यस्त हैं बस यहाँ जिन्दगी की उहापोह भौतिक सुख और संसाधनों की मारामारी में……..प्रार्थना का प्यारा सा स्वरूप है
    प्रेम है ,सौहार्द है , जीवनदाता को इस प्यारीे सी जिन्दगी के लिए बारम्बार प्रणाम है🙏🙏

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s