Nasha vikas ka

Images credit.Google

छोटे घर में चैन सुकूँ,सच दम बिल्डिंग में घुटता है,
आसमान में रहता एक दिन धरती पर ही गिरता है|
एक समय घर अपना छोटा,
माँ धरती के आँचल में,
आज हुए हम विकसित छूते,
आसमान के बादल में,
कल तक सूरज,चाँद दिखाई,
देता घर के आँगन से,
शुद्ध हवा के झोके छूकर,
जाते घर के आँगन से,
आज तरसते बड़े घरों में,
चन्दा, सूरज दूर हुए,
शुद्ध हवा बिन दम घुटता है,
विकसित मद में चूर हुए,
आसमान को छूती बिल्डिंग,
आस-पास में जगह नहीं,
बृक्ष का दुश्मन हम बन बैठे,
हरियाली को जगह नहीं,
मद में हैं सब चूर नशा,एक दिन मिटटी में मिलता है,
आसमान में रहता एक दिन धरती पर ही गिरता है|

कहां गया वह घर अपना,
जिसके आंगन में जन्नत थी,
कहाँ गए वह बाग बगीचे,
जिसमे यादें बचपन की,
खिड़की खोलूं तो मुश्काती,
पिछवाड़े एक बगिया थी,
द्वार पर खुशबू लिए हुए,
उड़हुल फूलों की डलियां थी,
आज नही वह बाग बगीचे,
ना उड़हुल की डाली है,
छत के ऊपर छत है,
विकसित हो गई दुनियाँ सारी है,
मुफ्त हवा,पानी और धुप,
हमको रास नहीं आती,
विकसित हम इंसान बने,
धरती अब रास नहीं आती,
वापस एक दिन आना होगा,ऐ विकसित दम घुटता है,
छोटे घर में चैन सुकूँ,सच दम बिल्डिंग में घुटता है,
आसमान में रहता एक दिन धरती पर ही गिरता है|

!!! मधुसूदन !!!

25 thoughts on “Nasha vikas ka

  1. Waah!man tript ho gya hai,
    Aapki kavita bahut acchi hai.
    Meri bhi iss topics pe kavita likhne ki tamnna hai,
    Shaayad nikat future main ek kavita kuchh alag binduo ko lekar likhoongaaa!!

    Liked by 1 person

  2. Waah!
    मुफ्त हवा,पानी और धुप,
    हमको रास नहीं आती,
    विकसित हम इंसान बने,
    धरती अब रास नहीं आती…… Khoob kahi

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s