बचपन की यादें/Bachpan ki yaaden

बचपन की यादें/Bachpan ki yaaden

Image Credit: Google

नटखट थे पर अच्छे थे,
क्योंकि यारों हम बच्चे थे।
आ रूठ गए हम,मुझे मनाकर देखो ना,
दिल ब्याकुल है तुम गले लगाकर देखो ना,
हम भी लड़ते पर,पल में मिलजुल हँसते थे,
नफरत दिल में कल तक ऐसे ना रखते थे,
कल सीधे थे ,हम सच्चे थे,
क्योंकि यारों हम बच्चे थे।
मुठी में रहती थी अपनी वो जान,खिलौना मिटटी का,
जो टूट गई तो निकलेगी ये जान,खिलौना मिटटी का,
कल खेल खिलौने कच्चे,हम भी कच्चे थे,
पर प्रेम हमारे सच्चे थे,
क्योंकि यारों हम बच्चे थे।
क्या बदल गए हम,या संसार ही बदल गया,
क्यों प्रेम भरा जग कैसे प्रेम को तरस गया,
क्या हम बच्चे सचमुच में आगे निकल गए,
या सपने सब बचपन के सारे बदल गए,
अब प्रेम के बदले,हमसब नफरत करते हैं,
दिल की बातें भी हम दिमाग से करते हैं,
हाय कैसा बना जहान,जहाँ पर तड़प रहा इंसान,
मगर सब हँसते हैं,इससे अच्छे तो बच्चे थे,
हाँ हाँ यारों,
इससे अच्छे तो बच्चे ही हम अच्छे थे |
!!! मधुसूदन !!!

Bachpan   ki yaaden 

Natkhat they, par achchhe they, kyun ki yaaron ham bachche they.
Ham ruth gaye, tum mujhe manakar dekho na,
dil byakul hai, tum gale lagaakar dekho na,
Ham bhi ladte they, Miljul pal men hanste they,
Nafrat dil men,aise ham naa rakhte they,
Ham sidhey they, ham sachche they,
kyun ki yaaron ham bachche they, han han yaaron ham bachche they.

Muthi men hai teri meri jaan, khilauna mitti ka,
Toot gaya to niklegi ye jaa, kilauna mitti ka,
Kal kachche khel kilaune, ham bhi kachche they,
par prem hamare unse bilkul sachche they,
kyun ki yaaron ham bachche they, han han yaaron ham bachche they.

Kyaa badal gaye ham,ya sansaar hi badal gaya,
Ye Prem bhara jag, Kaise prem ko taras gaya,
Ham bachche dekho, Kitne aage nikal gaye,
Bachpan ke saare sapne, Bilkul badal gaye,
Ab Prem ke badle, Har pal nafrat rakhte hain,
Dil men ham sab ek ,aur dimaag ko rakhte hai,
Kaisa ye bana jahaan jahan par, Tadap raha insaan,
Magar sab hanste hai, Isse achchhe to bachche they
Han han yaaro, Isse achchhe to,
bachche hi ham achchhe they.

!! Madhusudan !!!

Advertisements

62 thoughts on “बचपन की यादें/Bachpan ki yaaden

  1. हाय कैसा बना जहान,जहाँ पर तड़प रहा इंसान,
    मगर सब हँसते हैं,इससे अच्छे तो बच्चे थे,
    हाँ हाँ यारों,
    इससे अच्छे तो बच्चे ही हम अच्छे थे ….बहुत खूब

    Liked by 3 people

  2. Bilkul sach batein likhi hai apne
    अब प्रेम के बदले,हमसब नफरत करते हैं,
    दिल की बातें भी हम दिमाग से करते हैं,
    Ye pankti bhut achhi lgi!

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद शुभांकर जी।वाकई हमारे पास अब दिल नही है।जब मा बाप छोड़ दे रहे है फिर इससे ज्यादा निर्दय इंसान क्या हो सकता है।

      Like

  3. बचपन के दिन अलग ही होते हैं…कभी कभी लगता है की वापिस से छोटे बन जायें…बहुत उमदा लिखा है
    मैंने अब हिंदी कवितों के लिए नया ब्लॉग खोला है. https://wp.me/p9kizn-5Kv अब सारी हिंदी कवितायेँ आपको वहीँ मिलेंगी
    https://atrangizindagieksafar.com पर अब सिर्फ english poems ही मिलेंगी.

    Liked by 1 person

  4. Sahi Hai, bachpan may hum sucche Hai, bina bair ke jeete hai.

    Chalo aaj hum uss nafrat ki hassi ko badal Kar punah prem ki hassi banaye..aaj hum mila haat ranjeesho ki bediyan today, aaj iss umra ki dere par hum khushiyon ki duniya banaye..

    Liked by 1 person

    1. waah behtarin panktiyaan likhi aapne…..
      ham to ladnaa jaante they,
      nafrat aaj sikh lee,
      ham to nischhal the,kuchh bhi bol dete they,
      chhupaanaa aaj sikh li..
      sukriyaa aapka pasand karne aur sarahne ke liye.

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s