Bharat Gatha (Part.2)

Click here to read part..1

Images credit: Google.
आर्य-द्रविड़ की धरती भारत,
सोने की चिड़ियाँ थी भारत,
पड़ी विश्व की नजर कथा उस जम्बूद्वीप की गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ|२

एक ने नारी हरण किया,
दूजे ने नँगा नाच किया,
तीजे ने अपनी बहना को,

कारागृह में डाल दिया,
रावण,दुर्योधन और कंस,
सत्ता सुख में तीनों अंध,
राम,कृष्ण दोनों ने मिलकर,
कर दी इन तीनो का अंत,
लंका विजय किया रघुवर ने,
संग सीता प्रस्थान किया,
रावण की सुन्दर नगरी,
उसके भ्राता को दान दिया,
जंग हुआ था प्रलयंकारी,
मगर प्रजा थी सबको प्यारी,
लंका त्याग अवध थे आये,
आर्यावर्त का नाम बढाए,
ऐसे त्यागी लोग जहां,उस देश की गाथा गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ|२

सत्ता का संघर्ष कई,
सदियों से चलते आई है,
गद्दी होती जिसकी जनता
उसका ही गुण गाई है,
निरंकुश होता राजा तब,
कर लगाता भारी,
अगर दयालु होता राजा,
निर्धन खुशी मनाती,
बैर नहीं सैनिक,जन,नारी,
खंजर सिंघासन को प्यारी,
युद्ध की होती नियम जहाँ,उस देश की महिमा गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी,भारत की हाल सुनाता हूँ|२

ज्ञान की जननी भारतभूमि,
धरा सती,ऋषियों की,
वैभव देख दूर दुनियाँ से,
आये कई विदेशी,
यवन,शक,कुषाण,हूण,
पश्चिम सीमा पर छाए,
भारत के छोटे भूभाग पर,
ये अधिकार जमाये,
कल का जम्बूद्वीप बँटा था,
जनपद में ये हिन्द बँटा था,
मगर जान से प्यारी सबको मातृभूमि बतलाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ|२

Cont Part……3

!!! मधुसदन !!!

ये देश हमसभी जाति,धर्मावलंबियों का है,किसी एक की भी उपेक्षा कर इस देश की कल्पना नहीं की जा सकती और उपेक्षा कोई करे भी क्यों, पूर्व में हमसभी तो आर्य-द्रविड़ ही थे।ये भी देखने में नाम दो है परंतु दोनों एक ही हैं,बस उत्तर में रहनेवाले आर्य और दक्षिणवाले को कालान्तर में द्रविड़ कहा जाने लगा,ततपश्चात हम कई धर्म एवं जातियों में विभक्त हो गए। मेरे तरफ से वहीं से एक कविता लिखने का एक छोटा प्रयास,शायद आप सब को पसंद आये।”

Aary-dravid kee dharatee bhaarat,
sone kee chidiyaan thee bhaarat,
padee vishv kee najar katha us jamboodveep kee gaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon|2

satta ka sangharsh kaee,
sadiyon se chalate aaya hai,
gaddee hotee jisakee janata
usaka hee gun gaaya hai,
nirankush hota raaja tab,
bhaaree lagaan lagaata,
agar dayaalu hota raaja,
nirdhan khushee manaata,
bair nahin sainik,jan,naaree,
khanjar singhaasan ko pyaaree,
yuddh kee hotee niyam jahaan,us desh kee mahima gaata hoon,
raund diya sabhyata usee,bhaarat kee haal sunaata hoon|2

Raavan,duryodhan aur kans,
satta sukh mein teenon andh,
raam,krshn-arjun ne milakar,
kar dee in teeno ka ant,
lanka vijay kiya raghuvar ne,
seeta apane saath liya,
raavan kee sundar nagaree,
usake bhraata ko daan diya,
jang hua tha pralayankaaree,
magar praja thee sabako pyaaree,
lanka tyaag avadh the aaye,
aaryaavart ka naam badhae,
aise tyaagee log jahaan us desh kee gaatha gaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon|2

Gyaan kee jananee bhaaratabhoomi,
dhara satee,rshiyon kee,
vaibhav dekh door duniyaan se,
aaye kaee videshee,
yavan,shak,kushaan,hoon,
pashchim seema par chhae,
bhaarat ke chhote bhoobhaag par,
ye adhikaar jamaaye,
kal ka jamboodveep banta tha,
janapad mein ye hind banta tha,
magar jaan se pyaaree sabako maatrbhoomi batalaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon|2

Cont Part …..3

!!! Madhusudan !!!

“ye desh hamasabhee jaati,dharmaavalambiyon ka hai,kisee ek kee bhee upeksha kar is desh kee kalpana nahin kee ja sakatee aur upeksha koee kare bhee kyon, poorv mein hamasabhee to aary-dravid hee the.ye bhee dekhane mein naam do hai parantu donon ek hee hain,bas uttar mein rahanevaale aary aur dakshinavaale ko kaalaantar mein dravid kaha jaane laga,tatapashchaat ham kaee dharm evan jaatiyon mein vibhakt ho gae. mere taraph se vaheen se ek kavita likhane ka ek chhota prayaas,shaayad aap sab ko pasand aaye.”

Advertisements

30 thoughts on “Bharat Gatha (Part.2)

  1. यह दिलों का बंटवारा भूतकाल में राजा महाराजाओं ने अपने अहं के वशीभूत होकर किया। पड़ोसी राज्य हथियाने हेतु बाहर के मुल्कों के शासकों को न्योता देकर आक्रमण करवाया। बाद में अंग्रेजों ने लड़ाओ व राज करो की नीति अपनाकर दिलों के बंटवारे के ताबूत में आखिरी कील ठोक दी। स्वतन्त्रता प्राप्ति बाद के शासक उस कील को और मजबूत कर रहे हैं।

    Liked by 4 people

    1. kal jo aaye aur kar ke chale gaye……we to kuchh bhi nahi kiye jo aaj ke shasak kar rahe hain….bilkul sahi kaha apne……..main to sirf ghatit ghatnawon ko apne shabdon men sahejne ka prayas kar raha hun saath hi aaj se uska tulna karne ka prayas ……sukriya apne apne bahumulya vichar diye …..dhanyawad sir.

      Like

  2. बिलकुल ठीक कहा सर …ये भारत हम सभी का है और यहाँ किसी की भी उपेक्षा नही की जा सकती …बहुत अच्छा लिखा है आपने

    Liked by 3 people

  3. Aapke shudh Hindi mei kavithaayein likhnaa bahot hi lajawab hei Madhusudan ji, Na jaane hum kab yu Likhpaayenge…aap Kithab kyu nhi publish karte? Bahot log aapke kavithaon Ko pasand karenge…

    Liked by 4 people

    1. abhi bhi hamaare hindi me bahut kamiyan hai……..abhi bahut kam kavitaayen hain agar samay aayaa aur Ishwar ne chaha to kitaab jarur chhapegi .Sukriya Amogh ji aapko hamari kavitaayen achchhi lagti hai…saath hi apne hausla badhaayaa.

      Liked by 2 people

  4. अति सुंदर…
    धरा हिन्द का इतिहास और उसका दर्द का सुंदर चित्रण किया है आपने अपने शब्दों से ।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s