BIKHRAAV/बिखराव

बना हिन्दू का कोई मुसलमान का,
कोई जाति का नेता बना है,
हाय कैसी ये किश्मत वतन की मेरे,
हिन्द टुकड़ों में फिर से बंटा है।।1

कल थे राजा बंटे,
सब अहम् में अड़े,
एक मरता तो दूजा,
जश्न कर रहे,
कल बंटा था रियासत वह कुछ भी नहीं,
जाति,धर्मों में घर अब बंटा है,
हाय कैसी ये किश्मत वतन की मेरे,
हिन्द टुकड़ों में फिर से बंटा है।।2

जिसको देखो वही,
आज उलझा हुआ,
धर्म,जाति की संख्या में,
दुबला हुआ,
अश्क गिरते गरीबों का दिखता नहीं,
कैसे मतलब में संसद पड़ा है,
हाय कैसी ये किश्मत वतन की मेरे,
हिन्द टुकड़ों में फिर से बंटा है।।3

कितना नफरत भरा,
हमसभी में यहाँ,
स्वार्थ की वेदी पर,
चढ़ गया गुलिश्तां,
कल जो नफरत था हममें वह कुछ भी नहीं,
इतना नफरत सभी में भरा है,
हाय कैसी ये किश्मत वतन की मेरे,
हिन्द टुकड़ों में फिर से बंटा है।।4

अब सम्हल जा वतन ये,
हमें कह रही,
देख औरों की नजरे
हमी पर गड़ी,
स्वार्थ अब छोड़ वरना
बिखर जाओगे,
अपनी धरती दुबारा,
ना तुम पाओगे,
याद रखना आजादी को भूलना नहीं,
कितने बलिदान देकर मिला है,
हाय कैसी ये किश्मत वतन की मेरे,
हिन्द टुकड़ों में फिर से बंटा है।।
हाय कैसी ये किश्मत वतन की मेरे,
हिन्द टुकड़ों में फिर से बंटा है।।5

!!! मधुसूदन !!!

bana hindoo ka koee musalamaan ka,
koee jaati ka neta bana hai,
haay kaisee ye kismat vatan kee mere,
aaj tukadon mein phir se banta hai ||1
kal the raaja bante,
sab aham mein ade,
ek marata to dooja,
jashn kar rahe,
kal riyaasat banta tha vah kuchh bhee nahin,
jaati,dharmon mein ghar,ghar banta hai,
haay kaisee ye kismat vatan kee mere,
aaj tukadon mein phir se banta hai ||2
jisako dekho vahee,
aaj ulajha hua,
dharm,jaati kee sankhya mein,
dubala hua,
ashk girate gareebon ka dikhata nahin,
kaise matalab mein sansad pada hai,
haay kaisee ye kismat vatan kee mere,
aaj tukadon mein phir se banta hai ||3

kitana napharat bhara,
hamasabhee mein yahaan,
svaarth kee vedee par,
chadh gaya gulishtaan,
kal jo napharat tha hamamen vah kuchh bhee nahin,
itana napharat sabhee mein bhara hai,
haay kaisee ye kismat vatan kee mere,
aaj tukadon mein phir se banta hai ||4
ab samhal ja vatan ye,
hamen kah rahee,
dekh auron kee najare
hamee par gadee,
svaarth ab chhod varana
bikhar jaoge,
apanee dharatee dubaara,
na tum paoge,
yaad rakhana aajaadee ko bhoolana nahin,
kitane balidaan dekar mila hai,
haay kaisee ye kismat vatan kee mere,
aaj tukadon mein phir se banta hai ||
haay kaisee ye kismat vatan kee mere,
aaj tukadon mein phir se banta hai ||5
!!! madhusudan !!!

29 thoughts on “BIKHRAAV/बिखराव

  1. हाय कैसी ये किश्मत मेरे वतन की
    हिन्द टुकड़ों में फिर से बंटा है।।1

    वाह बहुत खूब लिखा है सर
    वाकई हमारा देश हर कदम पर बिखरा हुआ है ,और यह केवल हमारी सामाजिक सोच के कारण है। जिसमे बदलाव की बहुत आवश्यकता है।

    Liked by 1 person

    1. बिल्कुल।अगर जम नही सुधरे तो फिर किसी आजादी?सुक्रिया आपने पसंद किया और सराहा।।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s