Singhasan ke Matwale

Images credit : Google.
बसकर अब ना तोड़ हमें,ऐ सिंघासन के रखवाले,
नफरत अब ना घोल हमें ऐ सिंघासन के मतवाले|1
नफरत देखो बाँट रही है,
मिलजुल सब सरकार,
देख धरा को चाट रही है,
अब तो जनता जाग,
फैल गई है हममे तुममे,
इसकी मायाजाल,
देख सको तो देखो कैसी,
मतवाले की चाल,
अंदर,बाहर मैंने देखा,सिंघासन के मतवाले,
संसद की गलियों में देखा,सिंघासन के मतवाले,
यहां सभी इंसां में देखा,सिंघासन के मतवाले
खुद के अंदर झाँककर देखा,सिंघासन के मतवाले,
बसकर अब ना तोड़ हमें,ऐ सिंघासन के रखवाले,
नफरत अब ना घोल हमें ऐ सिंघासन के मतवाले|1

AzUQmLzCQAEAb-a

पीकर पानी भूख मिटाते,
जाग बिताते सारी रात,
दो वक्त रोटी को हमसब,
एक कर जाते दिन और रात,
नहीं जले हैं चूल्हे घर में,
चार दिनों से भूखे,
हाय ग़रीबी कैसी बेबस,
भूखे बैठे चूहे,
पेट,पीठ सट एक हुआ ऐ,सिंघासन के मतवाले,
दिखता दर्द गरीबों का ना,सिंघासन के मतवाले,
मक्खन मिश्री कौन चबाता,सिंघासन के मतवाले,
दूध,मलाई कौन है खाता,सिंघासन के मतवाले,
बसकर अब ना तोड़ हमें,ऐ सिंघासन के रखवाले,
नफरत अब ना घोल हमें ऐ सिंघासन के मतवाले|2

bundelkhand

कितने हैं इस देश में जिनके,
सिर पर छत की आस,
नींद बहुत है आँखों में पर,
किस्मत में फुटपाथ,
बच्चे तरसे खेल,खिलौने,
साईकल को हम तरसे,
बाबूजी की फटी एड़ियाँ,
एक चप्पल को तरसे,
फुटपाथ पर देख सका ना,सिंघासन के मतवाले,
रोते बच्चे देख सका ना,सिंघासन के मतवाले,
महल में सोता चैन से बोलो,सिंघासन के मतवाले,
एसी कार पर चलते देखा,सिंघासन के मतवाले,
बसकर अब ना तोड़ हमें,ऐ सिंघासन के रखवाले,
नफरत अब ना घोल हमें ऐ,सिंघासन के मतवाले|3
गीता और कुरआन लड़ाकर,
खुद विमान उड़ाते,
पांच साल तक केवल अपना,
अंगूठा दिखलाते,
हमको बना दिया कंगाल,
खुद बन बैठे मालामाल,
कैसे देखो पाँच साल पर,
आ बैठे हैं नटवरलाल,
गीता और कुरआन ना जाना,सिंघासन के मतवाले,
इंसां को इंसां ना जाना,सिंघासन के मतवाले,
गाल गुलाबी किसका देखा,सिंघासन के मतवाले,
मस्जिद,मंदिर किसको देखा,सिंघासन के मतवाले,
बसकर अब ना तोड़ हमें,ऐ सिंघासन के रखवाले,
नफरत अब ना घोल हमें ऐ सिंघासन के मतवाले|4

job-25-1464147373-22-1495457362

भुला बचपन किया पढ़ाई,
खेल कूद सब खाक,
अथक परिश्रम मैंने की फिर,
डिग्री आयी हाथ,
शहर,शहर अब दौड़ रहे हैं,
स्वप्न हजारों तौल,
आँखों के बहते आँसूं में,
डिग्री दूँ क्या घोल,
बचपन मेरा लौटा दो ऐ,सिंघासन के मतवाले,
डिग्री वापस ले लो मेरा,सिंघासन के मतवाले,
दौड़,दौड़ कर हार गया मैं,सिंघासन के मतवाले,
चाल तुम्हारी जान गया मैं,सिंघासन के मतवाले,
बच्चे किसके खुशी मनाते,सिंघासन के मतवाले,
कुर्सी पर बच्चे हैं किसके,सिंघासन के मतवाले,
बसकर अब ना तोड़ हमें,ऐ सिंघासन के रखवाले,
नफरत अब ना घोल हमें ऐ सिंघासन के मतवाले|5
जाति,धर्म में बंटे हुए हैं,
लेकर उनके झंडे,
नाच रहे उनके उंगली पर,
हमसब पागल बन्दे,
प्यादे हम,घोड़े की चाल,
चलते हैं सब नौकरशाह,
हाथी जैसे नेता सारे,
रौंद रहे मेरा घर,बार,
जाति,धर्म में बाँट रहे हैं,सिंघासन के मतवाले,
राम,कृष्ण को बाँट रहे हैं,सिंघासन के मतवाले,
हमको बहलाते,फुसलाते,सिंघासन के मतवाले,
स्वप्नबाग़ क्या खूब दिखाते,सिंघासन के मतवाले,
बसकर अब ना तोड़ हमें,ऐ सिंघासन के रखवाले,
नफरत अब ना घोल हमें ऐ सिंघासन के मतवाले|6
!!! मधुसूदन !!!

basakar ab na tod hamen,ai singhaasan ke rakhavaale,
napharat ab na ghol hamen ai singhaasan ke matavaale|1
napharat dekho baant rahee hai,
milajul sab sarakaar,
dekh dhara ko chaat rahee hai,
ab to janata jaag,
phail gaee hai hamame tumame,
isakee maayaajaal,
dekh sako to dekho kaisee,
matavaale kee chaal,
andar,baahar mainne dekha,singhaasan ke matavaale,
sansad kee galiyon mein dekha,singhaasan ke matavaale,
yahaan sabhee insaan mein dekha,singhaasan ke matavaale
khud ke andar jhaankakar dekha,singhaasan ke matavaale,
basakar ab na tod hamen,ai singhaasan ke rakhavaale,
napharat ab na ghol hamen ai singhaasan ke matavaale|1
peekar paanee bhookh mitaate,
jaag bitaate saaree raat,
do vakt rotee ko hamasab,
ek kar jaate din aur raat,
nahin jale hain choolhe ghar mein,
chaar dinon se bhookhe,
haay gareebee kaisee bebas,
bhookhe baithe choohe,
pet,peeth sat ek hua ai,singhaasan ke matavaale,
dikhata dard gareebon ka na,singhaasan ke matavaale,
makkhan mishree kaun chabaata,singhaasan ke matavaale,
doodh,malaee kaun hai khaata,singhaasan ke matavaale,
basakar ab na tod hamen,ai singhaasan ke rakhavaale,
napharat ab na ghol hamen ai singhaasan ke matavaale|2
seer par chhat kee aas,
neend bahut hai aankhon mein par,
kismat mein phutapaath,
bachche tarase khel,khilaune,
saeekal ko ham tarase,
baaboojee kee phatee ediyaan,
ek chappal ko tarase,
phutapaath par dekh saka na,singhaasan ke matavaale,
rote bachche dekh saka na,singhaasan ke matavaale,
mahal mein sota chain se bolo,singhaasan ke matavaale,
esee kaar par chalate dekha,singhaasan ke matavaale,
basakar ab na tod hamen,ai singhaasan ke rakhavaale,
napharat ab na ghol hamen ai,singhaasan ke matavaale|3
geeta aur kuraan ladaakar,
khud vimaan udaate,
paanch saal tak keval apana,
angootha dikhalaate,
hamako bana diya kangaal,
khud ban baithe maalaamaal,
kaise dekho paanch saal par,
aa baithe hain natavaralaal,
geeta aur kuraan na jaana,singhaasan ke matavaale,
insaan ko insaan na jaana,singhaasan ke matavaale,
gaal gulaabee kisaka dekha,singhaasan ke matavaale,
masjid,mandir kisako dekha,singhaasan ke matavaale,
basakar ab na tod hamen,ai singhaasan ke rakhavaale,
napharat ab na ghol hamen ai singhaasan ke matavaale|4
bhula bachapan kiya padhaee,
khel kood sab khaak,
athak parishram mainne kee phir,
digree aayee haath,
shahar,shahar ab daud rahe hain,
svapn hajaaron taul,
aankhon ke bahate aansoon mein,
digree doon kya ghol,
bachapan mera lauta do ai,singhaasan ke matavaale,
digree vaapas le lo mera,singhaasan ke matavaale,
daud,daud kar haar gaya main,singhaasan ke matavaale,
chaal tumhaaree jaan gaya main,singhaasan ke matavaale,
bachche kisake khushee manaate,singhaasan ke matavaale,
kursee par bachche hain kisake,singhaasan ke matavaale,
basakar ab na tod hamen,ai singhaasan ke rakhavaale,
napharat ab na ghol hamen ai singhaasan ke matavaale|5
jaati,dharm mein bante hue hain,
lekar unake jhande,
naach rahe unake ungalee par,
hamasab paagal bande,
pyaade ham,ghode kee chaal,
chalate hain sab naukarashaah,
haathee jaise neta saare,
raund rahe mera ghar,baar,
jaati,dharm mein baant rahe hain,singhaasan ke matavaale,
raam,krshn ko baant rahe hain,singhaasan ke matavaale,
hamako bahalaate,phusalaate,singhaasan ke matavaale,
svapnabaag kya khoob dikhaate,singhaasan ke matavaale,
basakar ab na tod hamen,ai singhaasan ke rakhavaale,
napharat ab na ghol hamen ai singhaasan ke matavaale|6..
!!! madhusudan !!!

31 thoughts on “Singhasan ke Matwale

  1. बहुत ही खूबी से आपने सीधी सच्ची बात कह दी है। काश, इस सच्चाई को हर नागरिक समझे और हमें बांटने की चाल को हम मिलकर खारिज़ कर दें।

    Liked by 2 people

    1. बिबसता है स्वार्थ का जो राजनीतिक लोग थमा रखे हैं कोई छोड़ना नही चाहता।सुक्रिया आपका।

      Liked by 1 person

    1. लोकतंत्र जैसा कोई शासनतंत्र नही मगर हमारे देश के परिपेक्ष्य में सही और सत्यवादी दल खोजना तो मुश्किल है।हाँ झूठे और गलत दल से एक कम गलत को चुनना है और वही करते आये हैं।सभी जाति,धर्म को तोड़ अपनी सियासत खेल रहे हैं कोई मरे किसी को परवाहे नही।दुख तो होगा।बिल्कुल हम भी इस देश की राजनीति से खफा हैं।जिसे देखो धर्म और जाति का राग अलापता है और संबिधान मूक बना अपनी नीतियों को परिवर्तित होते देख रहा है।

      Liked by 1 person

      1. बस दिन गिनना है।खाई दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रही है।सुक्रिया आपका अपनी विचार अभिब्यक्त करने के लिए।।

        Liked by 1 person

  2. Gandi rajneeti ki sari pol ek kavita mei kholkr rAKH DI AUR KAVITA ka title baba Nagarjun ki kavita Singhasan khali kro ke ab janta ati hai , mahan kavi aur mere prerna srot Ramdhari Singh Dinkr ji ki kavita ki yaad dilati hai. Bhut hi achhe

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s