Beti Garib ki/बेटी गरीब की

Beti Garib ki/बेटी गरीब की

Image credit: Google
घर में दो वक़्त का है निवाला नहीं,
हाय बिटिया जवाँ हो रही है,
तन हैं चीथड़ों की शोभा बढ़ाते मगर,
कैसे विकसित जहाँ हो रही है |1

है वो मासूम बिलकुल जगत से अलग,
तन निखरते,उमर से है वो बेखबर,
झाकतें तन लिबासों में ना छुप रही,
टूटे सीसे में अपनी छबि देखती,
भूख से रूह ब्याकुल,कुपोषित,
उसपर यौवन की घात हो रही है,
तन हैं चीथड़ों की शोभा बढ़ाते मगर,
कैसे विकसित जहान हो रही है |2

Bundesarchiv_Bild_135-KB-13-098,_Tibetexpedition,_Mädchen_mit_Kleinkind.jpg

हाय रे ये गरीबी का कैसा कहर,
खिल रही भुखमरी में येे तिल-तिल कमल,
माँ-पिता की भी नजरे है झुकने लगी,
उनकी रातों की नींदे हैं उड़ने लगी,
कैसे आँगन में क्यों भुखमरी के,
प्रस्फुटित ज्वार हो रही है,
तन हैं चीथड़ों की शोभा बढ़ाते मगर,
कैसे विकसित जहान हो रही है |3

गौर से देख कैसी दशा मुल्क की,
भूखे नंगो की बढ़ती यहां फ़ौज सी,
है वो कुदरत कहाँ है कहाँ हुक्मराँ,
दर्द दिखता है किसको गरीब की,
भूखे हम कब बता रोटियाँ तूने दी,
ऐ खुदा क्यों यहाँ बेटियाँ भेज दी,
ऐ खुदा क्यों यहाँ बेटियाँ भेज दी,
भूख की ईद,होली मनाते हैं हम,
गम है बिटिया जवाँ हो रही है,
तन हैं चीथड़ों की शोभा बढ़ाते मगर,
कैसे विकसित जहान हो रही है,
तन हैं चीथड़ों की शोभा बढ़ाते मगर,
कैसे विकसित जहान हो रही है|4
!!! मधुसूदन !!!

ghar mein do vaqt ka hai nahin nikala nahin,
ek bitiya javaan ho raha hai,
tan ho cheethads kee shobha badhaate hue,
kaise vikasit ho raha hai.1

hai vo maasoom bilakul jagat se alag,
tan nikhaare, umar se hai vo bekhabar,
jhagade tan libaason mein chhipa raha tha,
toote seese mein apana chhbee dekhatee hai,
bhookh se rooh byaakul kuposhan kalee,
us par yauvan kee ghaat ho rahee hai,
tan ho cheethads kee shobha badhaate hue,
kaise vikasit ho raha hai.2

haay re ye gareebee kaisa kahar,
khil rahee bhukhamaree mein bhee kaise kamal,
maan-pita ka bhee najare tha jhukane lagee,
unake raaton ka ninde tha udane lage,
kaise aangan mein kyon bhookhamaree ka,
prasphotit jvaar ho raha hai,
tan ho cheethads kee shobha badhaate hue,
kaise vikasit ho raha hai.3

gaur se dekh kaisee dasha mulk kee,
bhookhe nango kee badhatee yahaan fauj see,
hai vo kudarat kahaan hai jahaan hukmaraan,
kaise deekhata nahin unako meree jagah,
bhookhe ham kab bata rotiyaan bheje,
ai bhagavaan, yahaan betiyon ko bheja,
e bhagavaan kahata betiyaan bheje,
bhookh kee eed, holee maanate the ham,
gam hai bitiya javaan ho raha hai,
tan ho cheethads kee shobha badhaate hue,
kaise vikasit ho raha hai,
tan ho cheethads kee shobha badhaate hue,
kaise vikasit ho raha hai.4
!!! madhusudan !!!

Advertisements

36 thoughts on “Beti Garib ki/बेटी गरीब की

  1. बिल्कुल ये सही है
    विकसित देश मे दर्द ये हट जाये गरीब की बेटियो की
    तकदीर संवर जायेगी
    अच्छी सोच से रचित रचना

    Liked by 2 people

  2. सही है गरीब की जवान बिटियॉ को तन ढकने को भी मुश्किल से नसीब होता … काश इसके बारे मे सभी मे जागरूकता आये तो ग़रीब की क़िस्मत सँवर जाये

    Liked by 2 people

  3. satya kaha or bilkul satik kaha aapne madhusudan ji duniya bhar me bhukhamari or garibi badh rahi hai jabki sari sansadhan ka 45% se jyada hissa inhi logo ke paas hai isme doshi sarkar or uski galat nitiya hai chahe wo kahi ki bhi sarkare kyo na ho

    Liked by 2 people

    1. Bilkul jinke ghar khaane ko nahi aur laadli sayani hoti hai….us vakt maa aur baap ko kal ki laadli kisi tufaan se kam nahi lagti hogi…..samaaj kaa dar,buri najro ka dar….aur garib hone ke vaavjud apni izzat aur bitiya ki umra aur gun ke anurup ek achchha jivan saati ki fikra…..sukriya apne pasand kiya aur saraaha.

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s