Month: January 2018

Safar Jindagi ka

Safar Jindagi ka

Image credit: Google मुशाफिर मैं समंदर का,समंदर मेरी जान है, लहरों से टकराकर ही बनी,मेरी ये पहचान है, लड़ना ही है जन्दगी,नहीं डरता मिट जाने से, पर बिबस,ठिठकता हूँ बीच समंदर जाने से। वो दूर चिढ़ाता है तूफान,तट पर मैं मौन खड़ा हूँ, अपनी मजबूरी की चादर में खुद ही सिमट रहा हूँ, क्या कहें … Continue reading Safar Jindagi ka

Advertisements
DAGABAAJ YARA (Antim bhag)

DAGABAAJ YARA (Antim bhag)

Click here to read part..1 Image credit: Google हमने जिनसे इश्क किया वो दगाबाज निकला, उनके दिल में भी एक,छोटा सा दिमाग निकला। पहले जी भर के हम रोये, बिखरे लाखों ख्वाब संजोए, जन्नत समझा था मरघट को, कैसी डाल के नीचे सोये, हमदम मेरे पास खड़ी थी, हंसकर प्रेम बिखेर रही थी, बातों से … Continue reading DAGABAAJ YARA (Antim bhag)

DAGABAAJ YARA

DAGABAAJ YARA

Image credit: Google हमने जिनसे इश्क किया वो दगाबाज निकला, उनके दिल में भी एक छोटा सा दिमाग निकला, हमने जिनसे इश्क किया वो दगाबाज निकला। था मैं एक मुशाफिर, एक दिन थककर चूर हो गया, राहें रेत भरी थी, सिर पर सीधा धुप हो गया, दिख गयी दूर पेड़ की डाली, थोड़ी आस जिगर … Continue reading DAGABAAJ YARA

Tiranga/राष्ट्रध्वज

Tiranga/राष्ट्रध्वज

Image credit: Google हम भारतवासी की धड़कन जान तिरंगा है, वीरों की धरती भारत की शान तिरंगा है।। अलग-अलग मोती सी भाषा, जाति,मजहब,पंथ, कोख से भारत माँ के जन्मे, पीर,वीर और संत, प्रेमचंद,दिनकर,भूषण की मान तिरंगा है, वीरों की धरती भारत की शान तिरंगा है।। राम,कृष्ण,महावीर,बुद्ध, गुरुनानक का ये हिन्द, छत्रपति,चौहान,वीर महाराणा का ये हिन्द, … Continue reading Tiranga/राष्ट्रध्वज

Maa Bharti Pukarti

Maa Bharti Pukarti

Image credit: Google जब-जब हम बिखरे हैं संकट, आर्यावर्त पर छाया, मगर स्वार्थ में उलझ गए हम, अबतक होश ना आया,बेबस माँ भारती, अपनी स्वार्थ की बलि चढ़ा दो,बलिदान मांगती। यहाँ बंटे कल राजा केवल, कितना हाल बुरा था, जिसकी मर्जी रौंद रहा था, नफरत यहां भरा था, मगर मिटा ना स्वार्थ हमारा, हम कल … Continue reading Maa Bharti Pukarti

Chaturayee Chandvardayi ki/चतुराई चंदवरदाई की

Chaturayee Chandvardayi ki/चतुराई चंदवरदाई की

Click here to Read part 5 Image credit: Google हिन्द का अंतिम हिन्दू शासक वीर,धीर,बलवान, नाम से वाकिफ दुनियाँ सारी है भारत का शान, कहता राय पिथौरा कोई,कोई पृथ्वीराज चौहान, वीरों में है वीर महान,गाउँ मैं उसका गुणगान। सखा धर्म के नाते चंदवरदाई साथ खड़ा था, कवि हृदय था मित्र प्रेम में,कारागार पड़ा था, भारत … Continue reading Chaturayee Chandvardayi ki/चतुराई चंदवरदाई की

Garh Pithora/गढ़ पिथौरा

Garh Pithora/गढ़ पिथौरा

Click here to Read part.. 4 Image credit: Google आर्य-द्रविड़ की धरती भारत, सोने की चिड़ियाँ थी भारत, पड़ी विश्व की नजर कथा उस जम्बूद्वीप की गाता हूँ, क्रूर मुहम्मद गोरी और चौहान का शौर्य सुनाता हूँ|| कैद हुए जब पृथ्वीराज तब रण में मातम छाया, काल के जैसे सैनिक का भी सुनकर दिल घबराया, … Continue reading Garh Pithora/गढ़ पिथौरा