MAKAR-SAKRANTI/मकर सक्रांति

Image credit: Google
“माघे मासे महादेव: यो दास्यति घृतकम्बलम।
स भुक्त्वा सकलान भोगान अन्ते मोक्षं प्राप्यति”

मकर सक्रांति,सक्रांति हम लोग मनाते हैं,
जब दक्षिणायन से दिनकर उत्तरायण आते हैं,
जब दक्षिणायन से दिनकर उत्तरायण आते हैं।

मूर्तरूप एकमात्र धरा के दिनकर हैं भगवान्,
इनके बिन है जीवन कैसा कौन यहाँ अनजान,
पौष मास में शीतलहर से जीव सभी घबराते,
धनु राशि को छोड़ मकर राशि में दिनकर आते,
बड़ा दिन और धुप कड़ा मन को हरसाते हैं ,
जब दक्षिणायन से दिनकर उत्तरायण आते हैं।

भोगाली बिहू कहते हैं कहीं ताई पोंगल,माघी,
शिशु सेक्रांत कहीं कहते हैं खिचड़ी,पौष सक्रांति,
शुभ दिन की शुरुआत दही,तिल,खिचड़ी खाते हैं,
जब दक्षिणायन से दिनकर उत्तरायण आते हैं।

दक्षिणायन नकरात्मक,उत्तरायण सकारात्मक दिन,
दक्षिणायन है रात तो उत्तरायण देवों का दिन,
सगरपुत्र भगीरथ तप गंगा जी धरती पर आयी,
इसी दिन सागर में जाकर के जल गंग समाई,
भीष्मपितामह दक्षिणायन मृत्यु को रोक दिया था,
इसी दिन उत्तरायण में ही स्वर्ग प्रयाण किया,
शनिदेव से मिलने को दिनकर जी जाते हैं,
जब दक्षिणायन से दिनकर उत्तरायण आते हैं,
मकर सक्रांति,सक्रांति हम लोग मनाते हैं,
जब दक्षिणायन से दिनकर उत्तरायण आते हैं।

“चौदह,पन्द्रह जनवरी को सूर्यदेव का मकर राशि मे प्रवेश करने एवं बड़े दिन की खुशी में आप सभी को मकर सक्रांति की ढेर सारी शुभकामनाएँ”
!!!मधुसूदन!!!

makar sakraanti,sakraanti ham log manaate hain,

jab dakshinaayan se dinakar uttaraayan aate hain,

jab dakshinaayan se dinakar uttaraayan aate hain.

moortaroop ekamaatr dhara ke dinakar hain bhagavaan,

inake bin hai jeevan kaisa kaun yahaan anajaan,

paush maas mein sheetalahar se jeev sabhee ghabaraate,

dhanu raashi ko chhod makar raashi mein dinakar aate,

bada din aur dhup kada man ko harasaate hain ,

jab dakshinaayan se dinakar uttaraayan aate hain.

bhogalee bihoo kahate hain kaheen taee pongal,maaghee,

shishu sekraant kaheen kahate hain khichadee,paush sakraanti,

shubh din kee shuruaat dahee,til, khichadee khaate hain,

jab dakshinaayan se dinakar uttaraayan aate hain.

dakshinaayan nakaraatmak,uttaraayan sakaaraatmak din,

dakshinaayan hai raat to uttaraayan devon ka din,

sagaraputr bhageerath tap ganga jee dharatee par aayee,

isee din saagar mein jaakar ke jal gang samaee,

bheeshmapitaamah dakshinaayan mrtyu ko rok diya tha,

isee din uttaraayan mein hee svarg prayaan kiya,

shanidev se milane ko dinakar jee jaate hain,

jab dakshinaayan se dinakar uttaraayan aate hain,

jab dakshinaayan se dinakar uttaraayan aate hain.

“chaudah,pandrah janavaree ko sooryadev ka makar raashi me pravesh karane evan bade din kee khushee mein aap sabhee ko makar sakraanti kee dher saaree shubhakaamanaen”

!!!madhusudan!!!

Advertisements

17 thoughts on “MAKAR-SAKRANTI/मकर सक्रांति

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s