Tarayeen ka Sangram

 

Click here to Read part 2

Image credit: Google
हिन्द का अंतिम हिन्दू शासक वीर,धीर,बलवान,
नाम से वाकिफ दुनियाँ सारी है भारत का शान,
कहता राय पिथौरा कोई,कोई पृथ्वीराज चौहान,
वीरों में है वीर महान,गाउँ मैं उसका गुणगान।

                                                        

वीरों से थी भरी धरा,था अद्भुत अपना हिन्द,
मगर एक ना हो पाये हम,रोता अपना हिन्द,
आपस का था अहम हमारा,जनपद बिखर गया था,
बाहर मुल्क के क्रूर,लुटेरों का फिर डगर बना था,
जंग अहम का एक ओर,टुकड़ों में हिंदुस्तान,
क्रूर लुटेरे छोर दूसरे छल बल संग धर्मांध,
सोने की चिड़ियाँ पर नरभक्षी करते मनमानी,
मानवता का ह्रास किया था,तुर्क,अरब,अफगानी,
गोरी था अफगानी जिसने संदेशा भिजवाया,
धर्म बदल इस्लाम भजो वरना है शामत आया,
पृथ्वीराज चौहान ने उसकी एक नहीं मानी थी,
चन्द्रहास की प्यास बुझाने की मन मे ठानी थी,
जंग हुआ था पृथ्वी से गोरी का अट्टरह बार,
जान की भिक्षा उसे मिली पृथ्वी से सत्रह बार,
दयाशील भारत का राजा,क्षमाशीलता शान,
मातृभूमि की आन बचाने को ततपर चौहान,
वीरों में था वीर महान गाउँ मैं उसका गुणगान,
कहता राय पिथौरा कोई,कोई पृथ्वीराज चौहान।१०

images (1)

प्रथम युद्ध मे तराईन से गोरी भाग गया था,
सह पाया एक वर्ष बाद फिर से वापस आया था,
पृथ्वी के गद्दार बने कुछ अपने ही घरवाले,
भारत माँ की नाक कटा दी उसके ही रखवाले,
तराईन का जंग द्वितीय थी वह काली रात,
छल से हमला कर बैठा गोरी ने आधी रात,
आगे से गोरी के सैनिक,पीछे से गद्दार,
लड़ते,लड़ते हार गए आखिर में पृथ्वीराज,
सत्रह बार की क्षमाशीलता,ने ये जंग दिखाई,
भरतपुत्र की दया,प्रेम,करुणा ने हार चखाई,
भारतवर्ष के दस्यु दिल में भी है प्रेम की धारा,
तुर्क,अरब,अफगानी ने कब कहाँ प्रेम दिखलाया,
हार गया पृथ्वी,गोरी से,फिर भी सीना तान,
भीख में जीवनदान मांगना ना सीखा चौहान,
वीरों में था वीर महान गाउँ मैं उसका गुणगान,
कहता राय पिथौरा कोई,कोई पृथ्वीराज चौहान।११
!!! मधुसूदन !!!

Cont Part….4

veeron se thee bharee dhara,tha adbhut apana hind,
magar ek na ham ho paaye rota apana hind,
jang aham ka ek or,tukadon mein hindustaan,
kroor lutere dooje chhor par chhal bal sang dharmaandh,
goree tha aphagaanee usane sandesha bhijavaaya,
dharm badal islaam bhajo varana hai shaamat aaya,
prthveeraaj chauhaan ne usakee ek nahin maanee thee,
chandrahaas kee pyaas bujhaane kee man me thaanee thee,
jang hua tha goree se kul usaka atthrah baar,
jaan kee bhiksha use milee prthvee se satrah baar,
Dayashil bharat ka raja,s kshamashilta shaan,
Bharat maa ki shaan bachane ko tatpar chouhan,
veeron mein tha veer mahaan gaun main usaka gunagaan,
kahata raay pithaura koee kahata prthiveeraaj chauhaan|10
prthvee ka gaddaar bane kuchh apane hee gharavaale,
bhaarat maan kee naak kata dee usake hee rakhavaale,
pratham yuddh me taraeen se bhaag bachaee jaan,
sah paaya ek varsh baad vaapas aaya shaitaan,
taraeen ka jang dviteey thee vah kaalee raat,
chhal se hamala kar baitha goree ne aadhee raat,
aage se goree ke sainik,peechhe se gaddaar,
ladate,ladate haar gaya aakhir bhaarat ka laal,
solah baar kee kshamaasheelata,ne ye jang dikhaee,
bharataputr kee daya,prem,karuna ne haar chakhaee,
bhaaratavarsh ke dasyu dil me bhee hai prem kee dhaara,
turk,eeraanee,aphagaanee kab,kahaan prem dikhalaaya,
Haar gaya Prithvi, Gori se phir bhi sina taan,
Bhikh me jivandan mangnaa naa sikha chouhan,
veeron mein tha veer mahaan gaun main usaka gunagaan,
kahata raay pithaura koee kahata prthiveeraaj chauhaan|11
!!! madhusudan !!!

Cont Part….4

Advertisements

19 thoughts on “Tarayeen ka Sangram

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s