Durg men Sanyogita

Click here to Read part ..3

Image credit: Google
आर्य-द्रविड़ की धरती भारत,
सोने की चिड़ियाँ थी भारत,
पड़ी विश्व की नजर कथा उस जम्बूद्वीप की गाता हूँ,
क्रूर मुहम्मद गोरी और चौहान का शौर्य सुनाता हूँ||

कौन धर्म कहता है दूसरे धर्मों का अपमान करो,
नारी और उनके बच्चों संग दानव सा व्यवहार करो,
अल्लाह,ईश्वर,गौड़,गुरु को हिन्द एक है बोल रहा,
मगर धर्म के अंधे सब उपरवाले को तौल रहा,
जैमिनी और गौतम की भूमि,मनु,कपिल,कणाद की,
सत्य,अहिंसा और सहिष्णुता भाषा हिन्दुस्तान की,
एक समान हैं मानव सारे जहाँ वेद है बोल गया,
उसी धरा पर असहिष्णु ने खून की होली खेल गया,
मिटा गया पदचिन्ह मगर अवशेष बचे दुहराता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ ||

PCTV-1000110399-hsm

हिन्द के योद्धा जब-जब हारे,तुर्क,अरब,अफगान से,
तब-तब धरती चीख उठी थी नारी की बलिदान से,
खबर मिली संयुक्ता को कुछ अपने हैं गद्दार बने,
भागा सत्रह बार हार,उससे हैं पृथ्वी हार गए,
समझ गयी थी ये मलेक्ष अब दुर्ग पर धावा बोलेंगे,
नारी जो भी दुर्ग में हैं उनके अस्मत से खेलेंगे,
जौहर करने को संयुक्ता ने सब को था बोल दिया,
उधर दास गोरी का ऐबक दुर्ग पर धावा बोल दिया,
जौहर कोई खेल नहीं उसको मलेक्ष क्या जानेंगे,
नारी की इज्जत,महिमा धर्मांध नहीं पहचानेंगे,
कैदी रण चौहान खड़ा था,दुर्ग में जौहरगान बजा था,
चीख रही थी मातृभूमि,भींगा आंचल दिखलाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ ||
!!! मधुसूदन !!!

Cont to read part..5

“ये देश हमसभी जाति,धर्मावलंबियों का है,किसी एक की भी उपेक्षा कर इस देश की कल्पना नहीं की जा सकती और उपेक्षा कोई करे भी क्यों, पूर्व में हमसभी तो आर्य-द्रविड़ ही थे।ये भी देखने में नाम दो है परंतु दोनों एक ही हैं,बस उत्तर में रहनेवाले आर्य और दक्षिणवाले को कालान्तर में द्रविड़ कहा जाने लगा,ततपश्चात हम कई धर्म एवं जातियों में विभक्त हो गए। मेरे तरफ से वहीं से एक कविता लिखने का एक छोटा प्रयास,शायद आप सब को पसंद आये।”

Arya-dravid kee dharatee bhaarat,
sone kee chidiyaan thee bhaarat,
padee vishv kee najar katha us jamboodveep kee gaata hoon,
kroor muhammad goree aur chauhaan ka shaury sunaata hoon.
kaun dharm kahata hai doosare dharmon ka apamaan karo,
usake naaree,bachchon ke sang daanav sa vyavahaar karo,
allaah,eeshvar,gaud,guru ko hind ek hai bol raha,
magar dharm ke andhe sab uparavaale ko taul raha,
jaiminee aur gautam kee bhoomi,manu,kapil,kanaad kee,
saty,ahinsa aur sahishnuta bhaasha hindustaan kee,
ek saamaan hain maanav saare jahaan ved hai bol gaya,
usee dhara par asahishnu ne khoon kee holee khel gaya,
mita gaya padachinh magar avashesh bache duharaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon.
hind ke yoddha jab-jab haare,turk,arab,aphagaan se,
tab-tab dharatee cheekh uthee thee naaree ke balidaan se,
khabar milee sanyukta ko jab prthvee ran mein haar gaya,
desh ke apane gaddaaron ke kaaran ashru dhaar baha,,
tatkshan samajh gayee maleksh ab durg par dhaava bolenge,
naaree jo bhee durg mein hain unake asmat se khelenge,
jhat jauhar karane ko sanyukta ne sab ko bol diya,
udhar daas goree ka aibak durg par dhaava bol diya,
jauhar koee khel nahin usako maleksh kya jaanenge,
naaree kee ijjat,mahima dharmaandh nahin pahachaanenge,
kaidee ran chauhaan khada tha,durg mein jauharagaan baja tha,
cheekh rahee thee maatrbhoomi,bheenga aanchal dikhalaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon.
!!! madhusudan !!!

Cont to read part..5

Advertisements

22 thoughts on “Durg men Sanyogita

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s