Dharm bada ya Desh/धर्म बड़ा या देश ?

Dharm bada ya Desh/धर्म बड़ा या देश ?

Image Credit : Google

काश सभी में सबको एक इंसान दिखाई देता,
काश जन्मभूमि ये हिन्दुस्तान दिखाई देता,
फिर ना टुकड़ों में बँट पाता अपना आर्यावर्त,
दुनियाँ में परचम लहराता अपना आर्यावर्त,
अलग हिन्द से फिर ना ये गांधार दिखाई देता,
ना ही ये फारस और पाकिस्तान दिखाई देता।
मेरी है पहचान देश से,देश को बाँधे धर्म,
तब-तब हम बिखरे हैं जब-जब बिखरा अपना धर्म,
हम होते कश्मीर ना ये फिर,राग सुनाई देता,
वहाँ भी हर नेता को हिन्दुस्तान दिखाई देता।
वहाँ आज भी हैं कलाम,अशफाक मगर हैं चुप,
दहशत और अलगाववाद के आगे हैं मजबूर,
काश वहां बिस्मिल होते,अशफाक दिखाई देता,
दहशतगर्दों को फिर भारतगान सुनायी देता,
वहाँ भी हर नेता को हिन्दुस्तान दिखाई देता।

ये पंक्तियाँ श्रद्धा पांडेय जी का लेख पढ़कर मेरे विचार में आया और लिख दिया उनके द्वारा लिखी गयी बहुत ही खूबसूरत लेख जिसे मैं Re-blog कर रहा हूँ उनके साईट पर जाने के लिए यहाँ क्लीक करेंwp.me

हम सभी अक्सर इस असमंजस में रहते हैं कि

देश बड़ा होता है या धर्म। इसे समझने के लिए यह जानना आवश्यक है कि धर्म क्या है और राष्ट्र क्या है।

धर्म एक रहस्य है, संवेदना है, संवाद है और आत्मा की खोज है। धर्म जीवन जीने का तरीका है। धर्म स्वयं की खोज का नाम है। कोई शक्ति है या कोई रहस्य है। धर्म है अनंत और अज्ञात में छलांग लगाना। धर्म है जन्म, मृत्यु और जीवन को जानना।धर्म निराकार परम ब्रह्म की प्राप्ति का मार्ग है।

राष्ट्र/देश कहते हैं, एक जन समूह को, जिनकी एक पहचान होती है, जो कि उन्हें उस राष्ट्र से जोङती है। इस परिभाषा से तात्पर्य है कि वह जन समूह साधारणतः समान भाषा, धर्म, इतिहास, नैतिक आचार, या मूल उद्गम से होता है।

ईश्वर ने ब्रह्मांड रचना की,हमारी धरती की रचना की, जीवन दिया। ईश्वर को हम कई बार प्रकृति भी कह देते हैं। प्रकृति ही सारे कर्म करती है, जीव तो निमित्त मात्र है। इसीलिए श्री कृष्ण ने श्रीमदभगवद्गीता में अध्याय 3,श्लोक 27 में कहा है,

प्रकृतेक्रियमाणणी गुणे कर्माणि सर्वश: अहंकारे विमूढात्मा कर्ताहमिति मन्यते।।

तो क्या राष्ट्र का कोई महत्व नहीं?

धर्म का महत्वपूर्ण होना ही यह समझने के लिए पर्याप्त है राष्ट्र का महत्व मानव जीवन में कितना अधिक है। बिना धर्म के राष्ट्र की कल्पना नहीं की जा सकती। बिना धर्म के राष्ट्र का अस्तित्व नहीं। राष्ट्र बिना मनुष्य का अस्तित्व नहीं।

राष्ट्र बिना धर्म के जीवित नहीं रह सकता। राष्ट्र बनते बिगड़ते हैं पर राष्ट्रों का निर्माण धर्म ही करता है। राष्ट्र की आत्मा प्राण है। बिना धर्म के राष्ट्र मृत प्राय है। उदाहरण – भारत कभी ईरान तक था आर्यावर्त भी कभी विस्तृत भूभाग तक था ईरान से इंडोनेशिया और मॉरिशस से मास्को तक आर्यावर्त था पर धर्म सिकुड़ता गया राष्ट्र बंटता गया। जहाँ धर्म बचा रहा वो भाग आज भारत का भाग है। जहाँ धर्म लुप्त है, जैसे कश्मीर व पूर्वोत्तर भारत, उस भाग के भारत से अलग होने के षड्यंत्र चलते रहते है। अन्य उदाहरण – यहूदियो का राज्य था इजराइल जहाँ से उन्हें ईसाइयो ने मार कर भगा दिया। रोमनों ने भी उन पर अत्याचार किये। फिर मुसलमान आऐ और उन्होने भी यहूदियो पर अत्याचार किये पर यहूदियों ने प्राण दे कर भी धर्म बचाये रखा। यहूदियों ने धर्म की रक्षा करके स्वयं को बचाये रखा और इजराइल की पुनः स्थापना की। उनका धर्म न बचता तो राष्ट्र भी न बचता। इसलिए धर्म सर्वोपरी है।

अब आप सोच रहे होंगे कि हमने तो यही सीखा है कि धर्म अपनी जगह और देश अपनी जगह। यह सही भी है पर जब चुनाव करने की बारी आती है तब हम ‘धर्म संकट’ में आ जाते हैं।

असल में यह विवाद ही व्यर्थ है, क्या आप अपनी माता व पिता में किसी एक को चुन सकते हैं? नहीं न! कुछ ऐसी ही स्थिति धर्म और राष्ट्र के संदर्भ में भी है। हम अपने देश को मातृभूमि मानते हैं, प्रार्थना भी करते हैं,

नमस्ते सदा वत्सलमातृभूमे।

या

जननी जन्मभूमीश्च स्वर्गादपि गरीयसि।

या

भारत माता की जय !

राष्ट्र और धर्म एक दूसरे के पूरक हैं। राष्ट्र हमारे लिए माता के समान है जो भरण पोषण करती है, हमें उन्नति के मार्ग पर चलाती है। धर्म हमारे लिए पिता के समान है, जो हमें सुसंस्कृत, सभ्य, बुद्धिमान व शक्तिशाली बनाता है। हमें सही दिशा देता है। हमें अनुशासित करता है।

तो यह स्पष्ट है कि आप देश चुन के धर्म व धर्म चुन के देश के प्रति अपने दायित्व से भाग नहीं सकते।

एक वाक्य में कहूं तो धर्म बड़ा है, पर राष्ट्र प्रथम है। यूं तो चुनाव करने की स्थिति सामान्यतः आती ही नहीं पर अगर आए तो निश्चिंत हो कर राष्ट्र को चुन लीजिएगा। ऐसा करके आप अप्रत्यक्ष रूप से धर्म का ही चुनाव व पालन व रक्षा कर रहे होंगे क्योंकि धर्म ही राष्ट्र की रक्षा करना भी सिखाता है धर्म का एक अभिन्न अंग है राष्ट्रधर्म।

राष्ट्रधर्म का पालन करते हुए अनेक बाधाएँ आयेंगी हो सकता है आपको भी वीर चंदन गुप्ता की तरह प्राण देने पड़ें , पर पीछे न हटना।

लेख का अन्त इस श्लोक से—

चला लक्ष्मीश्च चला, चला जीवित मंदिरे

चला चले च संसारे, धर्म एको ही निश्चला।

“ये हिन्द सभी जाति और धर्मावलम्बियों का देश है और सभी इस देश की शान में मर मिटने को तैयार भी रहते हैं मगर सच्चाई ये भी है की जहाँ-जहाँ हिन्दू कमजोर हुए हैं वहां-वहां भारतीयता/देशभक्ति कमजोर होती रही है जिसके परिणामस्वरूप आज फारस,अफगानिस्तान और पाकिस्तान सरीखे अनगिनत देश इस देश को चीरकर अलग हो गए जिसे नाकारा नहीं जा सकता | आज कश्मीर भी उसी मुहाने पर आ खड़ा हुआ है| इस देश से अलग होकर कोई भी देश जन्नत नहीं पा लिया फिर ये अलगाववादी सोंच क्यों ? हमारा उनका दिल दुखाने का कत्तई मंशा नहीं जो इस देश के लिए मर मिटने को आमादा है|हम सभी जाति, धर्मावलम्बियों से प्रेम करनेवाले हैं और बदले में आशा करते हैं की वे सभी भी हमें और हमारे धर्म को प्रेम करें साथ ही देश को तोड़नेवालों के खिलाफ एक जुट हो उनका मुकाबला करें |”

“इतिहास कितना भी जला दिया जाय मगर मिटाया नहीं जा सकता मगर इतिहास के सहारे जिया भी नहीं जा सकता | आईये उन सभी अलगाववादी सोंच के खिलाफ लड़ाई में एक साथ खड़े हो हिंदुस्तान का परचम बुलंद किया जाए और पूर्व के उदाहरण को झुठलाया जाय|”

!!! मधुसूदन !!!

Man praying on the summit of a mountain at sun set with the moon in the sky.

kaash sabhee mein sabako ek insaan dikhaee deta,
kaash janmabhoomi ye hindustaan dikhaee deta,
phir na tukadon mein bant paata apana aaryaavart,
duniyaan mein paracham laharaata apana aaryaavart,
alag hind se phir na ye gaandhaar dikhaee deta,
na hee phir phaaras aur paakistaan dikhaee deta.
meree hai pahachaan desh se,desh ko baandhe dharm,
tab-tab ham bikhare hain jab-jab bikhara apana dharm,
ham hote kashmeer na ye phir,raag dikhaee deta,
vahaan bhee har neta ko hindustaan dikhaee deta.
vahaan aaj bhee hain kalaam,ashaphaak magar hain chup,
dahashat aur alagaavavaad ke aage hain majaboor,
kaash vahaan bismil hote,ashaphaak dikhaee deta,
dahashatagardon ko phir bhaaratagaan sunaayee deta,
vahaan bhee har neta ko hindustaan dikhaee deta.

ye panktiyaan shraddha paandey ka lekh padhakar mere vichaar mein aaya aur likh diya unake dvaara likhee gayee bahut hee khoobasoorat lekh jise main rai-blog kar raha hoon unake saeet par jaane ke lie yahaan kleek karenwp.mai

ham sabhee aksar is asamanjas mein rahate hain ki desh bada hota hai ya dharm. ise samajhane ke lie yah jaanana aavashyak hai ki dharm kya hai aur raashtr kya hai.

dharm ek rahasy hai, sanvedana hai, sanvaad hai aur aatma kee khoj hai. dharm jeevan jeene ka tareeka hai. dharm svayan kee khoj ka naam hai. koee shakti hai ya koee rahasy hai. dharm hai anant aur agyaat mein chhalaang lagaana. dharm hai janm, mrtyu aur jeevan ko jaanana.dharm niraakaar param brahm kee praapti ka maarg hai.

raashtr/desh kahate hain, ek jan samooh ko, jinakee ek pahachaan hotee hai, jo ki unhen us raashtr se jonatee hai. is paribhaasha se taatpary hai ki vah jan samooh saadhaaranatah samaan bhaasha, dharm, itihaas, naitik aachaar, ya mool udgam se hota hai.

eeshvar ne brahmaand rachana kee,hamaaree dharatee kee rachana kee, jeevan diya. eeshvar ko ham kaee baar prakrti bhee kah dete hain. prakrti hee saare karm karatee hai, jeev to nimitt maatr hai. iseelie shree krshn ne shreemadabhagavadgeeta mein adhyaay 3,shlok 27 mein kaha hai,

prakrtekriyamaananee gune karmaani sarvash: ahankaare vimoodhaatma kartaahamiti manyate..

to kya raashtr ka koee mahatv nahin?

dharm ka mahatvapoorn hona hee yah samajhane ke lie paryaapt hai raashtr ka mahatv maanav jeevan mein kitana adhik hai. bina dharm ke raashtr kee kalpana nahin kee ja sakatee. bina dharm ke raashtr ka astitv nahin. raashtr bina manushy ka astitv nahin.

raashtr bina dharm ke jeevit nahin rah sakata. raashtr banate bigadate hain par raashtron ka nirmaan dharm hee karata hai. raashtr kee aatma praan hai. bina dharm ke raashtr mrt praay hai. udaaharan – bhaarat kabhee eeraan tak tha aaryaavart bhee kabhee vistrt bhoobhaag tak tha eeraan se indoneshiya aur morishas se maasko tak aaryaavart tha par dharm sikudata gaya raashtr bantata gaya. jahaan dharm bacha raha vo bhaag aaj bhaarat ka bhaag hai. jahaan dharm lupt hai, jaise kashmeer va poorvottar bhaarat, us bhaag ke bhaarat se alag hone ke shadyantr chalate rahate hai.any udaaharan – yahoodiyo ka raajy tha ijarail jahaan se unhen eesaiyo ne maar kar bhaga diya. romanon ne bhee un par atyaachaar kiye. phir musalamaan aaai aur unhone bhee yahoodiyo par atyaachaar kiye par yahoodiyon ne praan de kar bhee dharm bachaaye rakha. yahoodiyon ne dharm kee raksha karake svayan ko bachaaye rakha aur ijarail kee punah sthaapana kee. unaka dharm na bachata to raashtr bhee na bachata. isalie dharm sarvoparee hai.

ab aap soch rahe honge ki hamane to yahee seekha hai ki dharm apanee jagah aur desh apanee jagah. yah sahee bhee hai par jab chunaav karane kee baaree aatee hai tab ham ‘dharm sankat’ mein aa jaate hain.

asal mein yah vivaad hee vyarth hai, kya aap apanee maata va pita mein kisee ek ko chun sakate hain? nahin na! kuchh aisee hee sthiti dharm aur raashtr ke sandarbh mein bhee hai. ham apane desh ko maatrbhoomi maanate hain, praarthana bhee karate hain,

namaste sada vatsalamaatrbhoome.

ya

jananee janmabhoomeeshch svargaadapi gareeyasi.

ya

bhaarat maata kee jay !

raashtr aur dharm ek doosare ke poorak hain. raashtr hamaare lie maata ke samaan hai jo bharan poshan karatee hai, hamen unnati ke maarg par chalaatee hai. dharm hamaare lie pita ke samaan hai, jo hamen susanskrt, sabhy, buddhimaan va shaktishaalee banaata hai. hamen sahee disha deta hai. hamen anushaasit karata hai.

to yah spasht hai ki aap desh chun ke dharm va dharm chun ke desh ke prati apane daayitv se bhaag nahin sakate.

ek vaaky mein kahoon to dharm bada hai, par raashtr pratham hai. yoon to chunaav karane kee sthiti saamaanyatah aatee hee nahin par agar aae to nishchint ho kar raashtr ko chun leejiega. aisa karake aap apratyaksh roop se dharm ka hee chunaav va paalan va raksha kar rahe honge kyonki dharm hee raashtr kee raksha karana bhee sikhaata hai dharm ka ek abhinn ang hai raashtradharm.

raashtradharm ka paalan karate hue anek baadhaen aayengee ho sakata hai aapako bhee veer chandan gupta kee tarah praan dene paden , par peechhe na hatana.

lekh ka ant is shlok se—

chala lakshmeeshch chala, chala jeevit mandire

chala chale ch sansaare, dharm eko hee nishchala.

“ye hind sabhee jaati aur dharmaavalambiyon ka desh hai aur sabhee is desh kee shaan mein mar mitane ko taiyaar bhee rahate hain magar sachchaee ye bhee hai kee jahaan-jahaan hindoo kamajor hue hain vahaan-vahaan bhaarateeyata/deshabhakti kamajor hotee rahee hai jisake parinaamasvaroop aaj phaaras,aphagaanistaan aur paakistaan sareekhe anaginat desh is desh ko cheerakar alag ho gae jise naakaara nahin ja sakata | aaj kashmeer bhee usee muhaane par aa khada hua hai| is desh se alag hokar koee bhee desh jannat nahin pa liya phir ye alagaavavaadee sonch kyon ? hamaara unaka dil dukhaane ka kattee mansha nahin jo is desh ke lie mar mitane ko aamaada hai|ham sabhee jaati, dharmaavalambiyon se prem karanevaale hain aur badale mein aasha karate hain kee ve sabhee bhee hamen aur hamaare dharm ko prem karen saath hee desh ko todanevaalon ke khilaaph ek jut ho unaka mukaabala karen |”

itihaas kitana bhee jala diya jaay magar mitaaya nahin ja sakata magar itihaas ke sahaare jiya bhee nahin ja sakata | aaeeye un sabhee alagaavavaadee sonch ke khilaaph ladaee mein ek saath khade ho hindustaan ka paracham buland kiya jae aur poorv ke udaaharan ko jhuthalaaya jaay.

!!! Madhusudan !!!

Advertisements

11 thoughts on “Dharm bada ya Desh/धर्म बड़ा या देश ?

  1. मेरे विचार में धर्म सर्वोच्च है, राष्ट्रों का तो अस्तित्व ही वर्साय की संधि के बाद प्रारम्भ हुआ,उसे पहले केवल राज्यों का अस्तित्व था जो कि राजवंश की संपत्ति होते थे,परन्तु धर्म और उससे सृजित संस्कृति पुरातन और सनातन है,यहां स्पष्ट कर दूं कि धर्म से मेरा अभिप्राय हिंदू मुस्लिम इत्यादि से नहीं है,यदि ऐसा होता तो सारा यूरोप और अरब एक देश होता, धर्म का अभिप्राय चिर पुरातन सदा सनातन जीवन मूल्यों से है

    Liked by 2 people

    1. बिल्कुल सही कहा।धर्म जड़ है और जबतक हम जड़ पकड़कर खड़े रहेंगे देश अडिग रहेगा साथ ही कोई चक्रवात हमें डिगा नही सकेगा साथ ही अगर देश का समर्थन करते हैं तो कही न कही धर्म का भी समर्थन करते हैं।सुक्रिया आपने अपना विचार ब्यक्त किया।

      Liked by 1 person

  2. पहले देश का सोचेंगे तो धर्म की बात ही नही आयेगी । देश के लिये सोचना सबसे बड़ा धर्म है …. बहुत अच्छा लेखन

    Liked by 2 people

    1. सुक्रिया आपने पसंद किया और सराहा।सही कहा आपने मगर हमारे समझ से धर्म सर्वोपरि है जिसका हिन्दू मुस्लिम सरीखे किसी धर्म से अभिप्राय नही।अर्जुन का देश हस्तिनापुर था मगर हक के लिए उनको अपने देश से लड़ना पड़ा जिसे धर्मयुद्ध भी कहा गया।मेरे समझ से धर्म जड़ है ।धर्म जब जब कमजोर हुआ देश की सीमाएँ बदली है।

      Like

  3. Beautiful poem sir !! A vast topic and thought on both aspects but for me nation is above religion. As beautifully defined our nation is mother!! A place where we breath and get an opportunity to bury or burn after death which few don’t get. Nation teaches us unity and should go parallel with religion as the purpose of religion is to unit and not creat disparities.. lovely creation sir

    Liked by 1 person

  4. मानती हूँ धर्म हमे संस्कार देता है जो हमारे आस्त्वि का सतम्भ होते है और वही संस्कार हमें हमारी संसकृती से मिलते है जो हमारा देश भारत ही दें सकता है जो कई सूत्र से मिलकर बनता है अहिंसा भाईचारा,संवेदना, एक दूसरे की मदद करना etc….
    सभी धर्म यहीं सूत्र बताते है चाहे वो हिन्दू मुस्लिम सिक्‍ख हो या इसाई या जैन.
    जब यह सब हमारे देश मे ही समाया है तब देश ही सबसे बड़ा हुआ |
    हमारी पहचान भरतीय ही कहलाएगी ना की हिन्दू या मुस्लिम.

    Liked by 1 person

    1. हम जिस देश के वासी हैं उसे हिन्द कहा गया और उस देश में रहनेवाले लोगों को हिन्दू और भाषा हिंदी कहा गया। हिन्दू कोई धर्म नही है हमारा धर्म तो सनातन है जो हमारी सभ्यता और संस्कृति से जुड़ी हुई है जो देश को एकजुट करके रखती है।जहां जहां हमारी सभ्यताएँ मिटी है वहां आज हिन्द नही है।जहाँ हमारी सभ्यताएँ है आज वही भारत है।आज भी जंग सभ्यता से ही है।आप भारतीय बोल उस सभ्यता का ही समर्थन कर रहे हैं जो अच्छी बात हैं वरना इस देश में रहनेवाले कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें ना ये सभ्यता भाती है और ना ही ये देश।इसीलिए ऐसे लोग एक क्षेत्र विशेष को भारत से खंडित करने का षड्यंत्र करते रहते हैं।

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s