Haldighati ka Sangram (Part..6)

Click here to Read part..5

Image Credit : Google
पराधीन रहना ना जाना,
जीते जी वह हार ना माना,
त्याग सुख महलों की जिसने,खाई रोटी घास की,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|

दुश्मन बीच अकेला राणा को संकट में जानकर,
झालावाड़ के मन्ना जी संग आये सीना तानकर,
मुकुट बदल झट पहन लिया था, झालावाड़ के राजा ने,
मुगलों को दिग्भ्रमित किया था, झालावाड़ के मामा ने,
मन्नाजी संग वीर मेवाड़ी विविध भाँति समझाया था,
जंग अभी भी शेष वीर राणा को राह सुझाया था,
तुमसे ही मेवाड़ सुरक्षित राणा रण से जाओ तुम,
मातृभूमि की शपथ तुम्हे है अब ना देर लगाओ तुम,
बुद्धिमान चेतक उस पल को झट से ही पहचान गया,
संकट में है मातृभूमि और राणा को वह जान गया,
पवन वेग से दौड़ लगाया रण को पीछे छोड़ दिया,
झालावाड़ के मामा ने दुश्मन से लड़ दम तोड़ दिया,
रण में जबतक शोर मची,चेतक था रण से दूर गया,
शक्ति सिंह ने देख लिया था चेतक को उस ओर गया,
बीस फिट का नाला आगे पीछे दुश्मन जानकर,
कूद गया था चेतक नाला संकट को पहचानकर,
ठिठक गए मुगलों के घोड़े,ठिठके शक्ति के भी घोड़े,
किया सुरक्षित राणा चेतक परवाह की ना जान की,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|

maxresdefault

वीर मेवाड़ी लड़ते देखा रणभूमि में शक्ति ने,
राणा पर था कटते देखा वीर मेवाड़ी शक्ति ने,
बोध हुआ गद्दार देश का भारतवासी बोलेंगे,
भरा कलेजा भातृप्रेम से राणा साथ ना छोड़ेंगे,
रूप जंग की दूजी होती काश राह ना दिखलाता,
कब्र सुनिश्चित मुगलों की थी काश भेद ना बतलाता,
घोड़े को खाई से लेकर शक्ति सिंह उस पार गया,
मुग़ल सैन्य भी पीछे-पीछे शक्ति संग उस पार गया,
मगर तेग से अपने शक्ति मुगलों का संहार किया,
राणा के पैरों में गिरकर अपना भूल स्वीकार किया,
चेतक देख अचेत वहाँ पर शक्ति संग-संग रोया था,
गले मिले भ्राता दोनों चेतक ने धड़कन खोया था,
अपना घोडा सौंप दिया था,शक्ति रण में कैद हुआ था,
जंगल में भीलों ने रक्षा की राणा के प्राण की,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|
!!! मधुसूदन !!!

Cont part…7

paraadheen rahana na jaana,
jeete jee vah haar na maana,
tyaag sukh mahalon kee jisane,khaee rotee ghaas kee,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|

dushman beech akela raana ko sankat mein jaanakar,
jhaalaavaad ke manna jee sang aaye seena taanakar,
mukut badal jhat pahan liya tha,jhaalaavaad ke raaja ne,
mugalon ko digbhramit kiya tha, jhaalaavaad ke maama ne,
mannaajee sang veer mevaadee vividh bhaanti samajhaaya tha,
jang abhee bhee shesh veer raana ko raah sujhaaya tha,
tumase hee mevaad surakshit raana ran se jao tum,
maatrbhoomi kee shapath tumhe hai ab na der lagao tum,
buddhimaan chetak us pal ko jhat se hee pahachaan gaya,
sankat mein hai maatrbhoomi aur raana ko vah jaan gaya,
pavan veg se daud lagaaya ran ko peechhe chhod diya,
jhaalaavaad ke maama ne dushman se lad dam tod diya,
ran mein jabatak shor machee,chetak tha ran se door gaya,
shakti sinh ne dekh liya tha chetak ko us or gaya,
bees phit ka naala aage peechhe dushman jaanakar,
kood gaya tha chetak naala sankat ko pahachaanakar,
thithak gae mugalon ke ghode,thithake shakti ke bhee ghode,
kiya surakshit raana chetak paravaah kee na jaan kee,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|

veer mevaadee ladate dekha ranabhoomi mein shakti ne,
raana par tha katate dekha veer mevaadee shakti ne,
bodh hua gaddaar desh ka bhaaratavaasee bolenge,
bhara kaleja bhaatrprem se raana saath na chhodenge,
roop jang kee doojee hotee kaash raah na dikhalaata,
kabr sunishchit mugalon kee thee kaash bhed na batalaata,
ghode ko khaee se lekar shakti sinh us paar gaya,
mugal sainy bhee peechhe-peechhe shakti sang us paar gaya,
magar teg se apane shakti mugalon ka sanhaar kiya,
raana ke pairon mein girakar apana bhool sveekaar kiya,
chetak dekh achet vahaan par shakti sang-sang roya tha,
gale mile bhraata donon chetak ne dhadakan khoya tha,
apana ghoda saump diya tha,shakti ran mein kaid hua tha,
jangal mein bheelon ne raksha kee raana ke praan kee,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|
!!! madhusudan !!!

Cont part…7

Advertisements

18 thoughts on “Haldighati ka Sangram (Part..6)

  1. कोई शब्द ही नहीं है सर आपकी प्रशंसा में
    आपको इतिहास की बहुत अच्छी जानकरी हैं
    thanks for shayring this type of knowledgeable poetry.

    Liked by 1 person

      1. सर आप जितनी ना तो जानकरी है मुझे और ना ही इतनी अच्छी लेखिका हूँ कि आपकी कविताओं में कमी ख़ामी बता सकूँ
        अभी तो मैं सिर्फ सीख ही रही हु|

        Liked by 1 person

      2. बनानेवाले जितना भी अच्छा बनाएं खानेवाले ही कमी बताते है हम भी ऐसा ही आशा करते हैं ।सुक्रिया आपका।

        Liked by 1 person

  2. आज तो खुशी और जोश के साथ हमारा सीना दूगुना चोगुना होते जा रहा हैं
    ! सांची बात ह कलम री धार तलवार री धार सू भी तेज होव ह! अपका तय दिल से आभार व्यक्त!

    वो भारत! कि आन बान और शान का प्रतीक है स्वाभिमान तो उनमे कुट कुट कर भरा हुवा था! आज भी उनका नाम लेने से विरो कि बाहें फडकने लग जाती हैं
    नमन हैं उनकी विरता और साहस को

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s