Arawali ka Sher ( Part..8)

Click here to Read part ..7

Image Credit : Google
पराधीन रहना ना जाना,
जीते जी वह हार ना माना,
त्याग सुख महलों की जिसने,खाई रोटी घास की,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|

झुक जाए वैसा शीश नहीं,जो काट सके शमशीर नहीं,
दुश्मन भी आज समझ बैठे,है राणा वैसा वीर नहीं,
थी जात-पात की बात कहाँ,हर दिल में राणा बसते थे,
ऐसे ही भील नहीं जंगल के अपना उन्हें समझते थे,
जन-जन के राणा प्यारे थे,सबकी आँखों के तारे थे,
अब आज उन्ही के जंगलवासी बन बैठे रखवाले थे,
पंद्रह सौ सरसठ की यादें,जौहर की पीड़ा कौंध गया,
याद आये जयमल और पत्ता,कैसे मुगलों ने रौंद गया,
जख्मों में खोया वीर बदन,धरती की चिंता रणधारी,
थे वीर शहीद हुए रण में,थी बिखर गई सेना सारी,
थे जख्म कई पर दर्द नहीं राणा के जैसा मर्द नहीं,
थी दर्द एक मिट जाए ना अपने भारत के शान की,
दोहराता हूँ कथा उसी महाराणा प्रताप की |२|

अकबर को भेजा मान खबर मेवाड़ फतह कर डाले,
देखा अकबर ने खौफ भरे सैनिक के चेहरे सारे,
अकबर को जीत में हार लगी,राणा रण हार के जीता,
विचलित अकबर दरबार खड़ा,मुगलों का सिर था नीचा,
सागर के जैसी फ़ौज भी राणा को ना कैद किया था,
कैसे मुट्ठीभर मेवाड़ी मुगलों को रौंद दिया था,
है कहाँ छुपा जा खोज उसे,कमतर एकबार ना बोल उसे,
जबतक जिंदा है राणा कैसे फतह हुयी मेवाड़ की,
दोहराता हूँ कथा उसी महाराणा प्रताप की|२|
दोहराता हूँ कथा उसी महाराणा प्रताप की|२|

!!! मधुसूदन !!!

Cont Part..9

12. Maharana Pratap

paraadheen rahana na jaana,
jeete jee vah haar na maana,
tyaag sukh mahalon kee jisane,khaee rotee ghaas kee,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|

jo jhuk jae vah sheesh nahin,jo kaat sake shamasheer nahin,
dushman bhee aaj samajh baithe,hai raana vaisa veer nahin,
thee jaat-paat kee baat kahaan,har dil mein raana basate the,
aise hee bheel nahin jangal ke apana unhen samajhate the,
jan-jan ke raana pyaare the,sabakee aankhon ke taare the,
ab aaj unhee ke jangalavaasee ban baithe rakhavaale the,
pandrah sau sarasath yaad aayee,jauhar kee peeda kaundh gaya,
yaad aaye jayamal aur patta,kaise mugalon ne raund gaya,
jakhmon mein khoya veer badan,dharti ki chinta ranadhaaree,
the veer shaheed hue ran mein,thee bikhar gaee sena saaree,
the jakhm kaee par dard nahin raana ke jaisa mard nahin,
thee dard ek mit jae na apane bhaarat ke shaan kee,
doharaata hoon katha usee mahaaraana prataap kee |2|

akabar ko bheja maan khabar mevaad phatah kar daale,
dekha akabar ne khauph bhare sainik ke chehare saare,
akabar ko jeet mein haar lagee,raana ran haar ke jeeta,
vichalit akabar darabaar khada,mugalon ka sir tha neecha,
saagar ke jaisee fauj bhee kyon usako na kaid kiya tha,
kaise muttheebhar sainik lekar raana jang kiya tha,
hai kahaan chhupa ja khoj use,kamatar ekabaar na bol use,
jabatak jinda hai raana kaise phatah huyee mevaad kee,
doharaata hoon katha usee mahaaraana prataap kee|2

!!! madhusudan !!!

Cont Part..9

Advertisements

29 thoughts on “Arawali ka Sher ( Part..8)

  1. कलम रुकेगी कहां
    इस वीर की गाथाओ से
    इतिहास स्तंभ है वो
    जीते है जो बाधाओ से
    लाजवाब कड़ी दर कड़ी
    आपने जो छवि बनाई है
    वो दर्ज होगा हर सुनहरे
    पन्नो मे
    जय महाराणा प्रताप जी की

    Liked by 1 person

  2. अतिसुन्दर !!!!!!!!!!!!

    जितना भी कहू कम होगा आप की इस रचना के बारे में “गागर में सागर ” भर दिया आप ने तो
    यूँ ही लिखते रहिये keep on

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s