DANVEER BHAMASHAH/दानवीर भामाशाह ( Part-9 Antim Bhag)

Click here to Read part..8

Image credit ; Google
पराधीन रहना ना जाना,
जीते जी वह हार ना माना,
त्याग सुख महलों की जिसने,खाई रोटी घास की,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|

मुगल पताके लहराये थे दुर्ग सहित मेवाड़ में,
राजपूत घुटनों के बल थे,अकबर के दरबार में,
मगर खौफ अकबर को जिंदा शेर अभी भी जंगल में,
जश्न जीत का मातम कर देने को तटपर जंगल में,
फ़ौज मुगलिया ख़ाक छानते,ढूँढ रहे थे राणा को,
धन्य भील जंगल के घेरे साथ खड़े थे राणा को,
राणा संग परिवार दुर्ग को छोड़ बसा था जंगल में,
कंद,मूल खा स्वाभिमान को ज़िंदा रखा जंगल में,
बेटे,पत्नी भूख से मरते,आँखों से अंगार बरसते,
दुसह दर्द सहता खाता जंगल में रोटी घास की,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|

बड़ी फौज मुगलों से मुश्किल,राणा का टकराना था,
शस्त्र कहाँ से लाते वन में मुश्किल मिलना खाना था,
मगर धन्य ये माटी जिसके शूरवीर कब डरते हैं,
धन्य धरा ये हिन्द जहां पर दानवीर भी पलते हैं,
मुगल फ़ौज के आगे जब नतमस्तक सब रजवाड़े थे,
तभी डूबते सूरज का एक जैनी बने सहारे थे,
राणा के थे सखा नाम था उनका भामाशाह,
सहयोगी,विश्वासपात्र,देते थे उचित सलाह,
धन्य धरा ये हिन्द जहाँ ये भामा लाल हुआ था,
धन्य कोख उस माँ का जिसने,ऐसा लाल जना था,
ऊँचे ओहदे का प्रलोभन अकबर का ठुकराया,
अपनी धन-सम्पदा शाह ने राणा पर बरसाया,
दस सहस्त्र फौजों को बारह वर्ष पाल सकता था,
इतना धन पूर्वज का हँस राणा को सौंप दिया था,
हुए भाव-विह्वल राणा,भामा को गले लगाए,
राजपूत,मेवाड़ी,भीलों का फिर फ़ौज बनाये,
चिंगारी फिर अंगार हुआ,जंगल में जय-जयकार हुआ,
थे दहशत में सब मुग़ल फ़ौज,जंगल में फैली आग सी,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|

1

गली गली में हिन्द के चर्चे होते उस गद्दार के,
क्रूर मुग़ल अकबर,चेतक,राणा संग भामाशाह के,
जुबाँ-जुबाँ पर राणा,चेतक के संग अकबर,मान,
दानवीर भामा के किस्से सबकी चढ़ी ज़ुबान,
मुग़ल कैद से तभी भाग शक्ति ने जान बचाई,
राणा के ही नाम पर उसने भी एक फ़ौज बनाई,
राणा और शक्ति ने मिल मुगलों पर वार किया था,
उदयपुर संग छतीस जगहों पर अधिकार किया था,
मुग़लमुक्त मेवाड़ हुआ था,स्वर्णयुग आभास हुआ था,
राणा ने फिर ध्वज लगा दी अपने हिन्दुस्तान की,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|

राणा को आराम कहाँ दुःख दिखता था प्रजा का,
सुख-सुविधा में जुट गए फिर से अपने वे प्रजा का,
मगर काल के आगे नतमस्तक है जीव,जहान,
गुजर गए राणा शोकाकुल रोया हिंदुस्तान,
कहता है इतिहास मुगल का ताज भी सुन रोया था,
राणा का जब वीर बदन चिरनिंद्रा में सोया था,
जिनका धन होता है यश संसार में पूजे जाते हैं,
धन-बल क्या दुश्मन भी अपना उनपर शीश झुकाते हैं,
बीत गयी सदियाँ फिर भी अकबर पर राणा भारी हैं,
सबके दिल में तुम राणा ,हमसब तेरे आभारी हैं,
अमर तुम्हारे साथी चेतक,भील,मेवाड़ी,भामाशाह,
डरता था अकबर भी सीधे जंग किया ना तेरे साथ,
बादशाह था हिन्द मुगलिया अकबर बना महान,
उसके असली रूप को राणा तूने की पहचान,
लड़ा एक था तोप लिए संग तेरे थे तलवार,
दुश्मन की औकात कहाँ गर ना होते गद्दार,
धन्य किया रे भारत भूमि,राम कृष्ण की पावन भूमि,
ख्याल रखा दिल में सदैव अपने पूर्वज के मान की,
दोहराता हूँ आज कथा मैं उसी वीर प्रताप की,
दोहराता हूँ कथा वीर उस महाराणा प्रताप की|२|
!!! मधुसूदन !!!

paraadheen rahana na jaana,
jeete jee vah haar na maana,
tyaag sukh mahalon kee jisane,khaee rotee ghaas kee,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|

mugal pataake laharaate ab durg sahit mevaad mein,
raajapoot ghutanon ke bal the,akabar ke darabaar mein,
magar khauph akabar ko jinda sher abhee ek jangal mein,
jashn jeet ka maatam kar dene ko tatapar jangal mein,
mugal fauj the khaak chhaanate,dhoondh rahe the raana ko,
dhany bheel jangal ke ghere saath khade the raana ko,
raana sang parivaar durg ko chhod basa tha jangal mein,
kand,mool kha svaabhimaan ko zinda rakha jangal mein,
bete,patnee bhookh se marate,aankhon se angaar barasate,
dusah dard sahata jangal mein khaata rotee ghaas kee,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|

badee phauj mugalon se mushkil,raana ka takaraana tha,
shastr kahaan se laate van mein mushkil milana khaana tha,
magar dhany ye maatee jisake shooraveer kab darate hain,
dhany dhara ye hind jahaan par daanaveer bhee palate hain,
mugal fauj ke aage jab natamastak sab rajavaade the,
tabhee doobate sooraj ka ek jainee bane sahaare the,
raana ke the sakha naam tha unaka bhaamaashaah,
sahayogee,vishvaasapaatr,dete the uchit salaah,
dhany dhara ye hind jahaan ye bhaama laal hua tha,
dhany kokh us maan ka jisane,aisa laal jana tha,
oonche ohade ka pralobhan akabar ka thukaraaya tha,
apanee dhan-sampada shaah ne raana par barasaaya tha,
das sahastr phaujon ko baarah varsh paal sakata tha,
itana dhan poorvaj ka hans raana ko saump diya tha,
hue bhaav-vihval raana,bhaama ko gale lagae the,
raajapoot,mevaadee,bheelon ka phir fauj banaaye the,
chingaaree phir angaar hua,jangal mein jay-jayakaar hua,
the dahashat mein sab mugal fauj,jangal mein phailee aag see,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|

galee galee mein hind ke charche hote us gaddaar ke,
kroor mugal akabar,chetak,raana sang bhaamaashaah ke,
jubaan-jubaan par raana,chetak ke sang akabar,maan,
daanaveer bhaama ke kisse sabakee chadhee zubaan,
mugal kaid se tabhee bhaag shakti ne jaan bachaee,
raana ke hee naam par usane bhee ek fauj banaee,
raana aur shakti ne mil mugalon par vaar kiya tha,
udayapur sang chhatees jagahon par adhikaar kiya tha,
mugalamukt mevaad hua tha,svarnayug aabhaas hua tha,
raana ne phir dhvaj laga dee apane hindustaan kee,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|

raana ko aaraam kahaan duhkh dikh raha praja ka,
sukh suvidha mein jut gaya tha apane vah praja ka,
magar kaal ke aage natamastak hai jeev,jahaan,
gujar gae raana shokaakul roya hindustaan,
kahata hai itihaas mugal ka taaj bhee sun roya tha,
raana ka jab veer badan chiranindra mein soya tha,
jinaka dhan hota hai yash sansaar mein pooje jaate hain,
dhan-bal kya dushman bhee unapar sheesh jhukaate hain,
beet gayee sadiyaan phir bhee akabar par raana bhaaree hain,
sabake dil mein tum raana ,hamasab tere aabhaaree hain,
amar tumhaare saathee chetak,bheel,mevaadee,bhaamaashaah,
darata tha akabar bhee seedhe jang kiya na tere saath,
baadashaah tha hind mugaliya akabar bana mahaan,
usake asalee roop ko raana toone kee pahachaan,
lada ek tha top lie sang tere the talavaar,
dushman kee aukaat kahaan gar hote na gaddaar,
dushman kee aukaat kahaan sang hote na gaddaar,
dhany kiya re bhaarat bhoomi,raam krshn kee paavan bhoomi,
khyal rakha dil men sadaiv apne purvaj ke maan ki,
doharaata hoon aaj katha main usee veer prataap kee,
doharaata hoon katha veer us mahaaraana prataap kee|2|
!!! Madhusudan !!!

Advertisements

27 thoughts on “DANVEER BHAMASHAH/दानवीर भामाशाह ( Part-9 Antim Bhag)

  1. अभिनंदन मदुसुदन जी,
    बहुत अच्छा लिखा है
    आपने एक वीर को उचित स्थान प्रदान किया।
    समय निकाल अगले भाग पढ़ने का भी प्रयास करूंगा।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s