Kaisi Nafrat/कैसी नफरत

 

Image Credit : Google
जीवन में जिसने ना देखा दर्द कभी इंसान का,
कहाँ हुआ कब दर्शन उसको अल्लाह या भगवान् का,
कहाँ हुआ कब दर्शन उसको अल्लाह या भगवान् का|

कोई मधुर अजान सुनाता,कोई घंट बजाता,
कोई नफरत की बातें ही जन-जन में फैलाता,
मतलब समझ सका ना जिसने गीता और कुरआन का,
कहाँ हुआ कब दर्शन उसको अल्लाह या भगवान् का|1

मंदिर,मस्जिद,चर्च और गुरूद्वारे रब मिल जाएंगे,
प्रेम अगर दिल में तो,हर जीवों में रब दिख जाएंगे,
कौन श्रेष्ठ है दिखलाने में उलझा जो नादान सा,
कहाँ हुआ कब दर्शन उसको अल्लाह या भगवान् का|2

निराकार हैं परमब्रम्ह,पूजन पद्धति पर मत जाना,
औरों को आडंबर कह उनके दिल को मत तड़पाना,
ऊँच-नीच और धर्म से अंतर करता जो इंसान का,
कहाँ हुआ कब दर्शन उसको अल्लाह या भगवान् का|3

डैडी,पापा,और पिता,बाबूजी कोई कहता है,
जैसा जिसका ढंग सभी माँ-बाप का पूजन करता है,
लॉकेट में फोटो कोई मूरत घर में बनवाता है,
कई अभागों के अखियन में ही सूरत रह जाता है,
जैसी जिसकी सोंच छबि मन अपने सभी बसाएं हैं,
रूप कई उस निराकार का हमने ही बनवाएं हैं,
बोल बता क्या है आडंबर,सत्य से जो अनजान सा,
कहाँ हुआ कब दर्शन उसको अल्लाह या भगवान् का|4

एक रंग दुनियाँ करने का और जहर अब मत घोलो,
हर जीवों पर दया सभी इंसानों को अपना बोलो,
अलग-अलग रंगों से अंतर देखे जो भगवान् का,
कहाँ हुआ कब दर्शन उसको अल्लाह या भगवान् का,
कहाँ हुआ कब दर्शन उसको अल्लाह या भगवान् का|5
!!! मधुसूदन !!!

jeevan mein jisane na dekha dard kabhee insaan ka,
kahaan hua kab darshan usako allaah ya bhagavaan ka,
kahaan hua kab darshan usako allaah ya bhagavaan ka|

koee madhur ajaan sunaata,koee ghant bajaata,
koee napharat kee baaten hee jan-jan mein phailaata,
samajh saka na matalab jisane geeta aur kuraan ka,
kahaan hua kab darshan usako allaah ya bhagavaan ka|1

mandir,masjid,charch aur guroodvaare mein rab dikh jaenge,
prem agar dil mein hai,har jeevon mein rab dikh jaenge,
kaun shreshth hai dikhalaane mein ulajh gaya naadaan sa,
kahaan hua kab darshan usako allaah ya bhagavaan ka|2

niraakaar hain paramabramh,poojan paddhati par mat jao,
auron ko aadambar kah unake dil ko mat tadapao,
Unch-neech aur dharm se antar karata jo insaan ka,
kahaan hua kab darshan usako allaah ya bhagavaan ka|3

daidee,paapa,aur pita,baaboojee koee kahata hai,
jaisa jisaka dhang sabhee maan-baap ka poojan karata hai,
louket mein photo koee moorat ghar mein banavaata hai,
kaee abhaage ke akhiyan mein hi soorat rah jaata hai,
jisakee jaisee sonch chhabi man apane sabhee basaen hain,
roop kaee us niraakaar ka hamne hee banavaen hain,
bol bata kya aadambar hai saty se kyon anajaan sa,
kahaan hua kab darshan usako allaah ya bhagavaan ka|4

ek rang duniyaan karane ka aur jahar ab mat gholo,
har jeevon par daya sabhee insaanon ko apana bolo,
alag-alag rangon mein antar na karna bhagavaan ka,
kahaan hua kab darshan usako allaah ya bhagavaan ka,
kahaan hua kab darshan usako allaah ya bhagavaan ka|5
!!! madhusudan !!!

Advertisements

57 thoughts on “Kaisi Nafrat/कैसी नफरत

  1. सही लिखा , धर्म से ज्यादा प्रेम जरूरी है , अगर वह है तो कोई भी धर्म हो सब मे रब दिखता है ….बहुत सुंदर रचना

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s