Main Kaun Hun?

Image Credit : Google

है कौन बसा मेरे अंदर मैं कौन हूँ,
हर बार यही एक प्रश्न मगर मैं मौन हूँ|२
हम नर्क भुगत नौ मास,
इतना सुन्दर काया पाते,
अपने इस सुन्दर तन पर हम,
जीवन भर इतराते,
बचपन,यौवन कब छोड़ा कब,
पास बुढ़ापा आयी,
है कौन यहाँ अपना साथी,
किसको हम कहें पराई,
विषयों में उलझा समझ सका ना कौन हूँ,
हर बार यही एक प्रश्न मगर मैं मौन हूँ|२

हम आये यहाँ अकेला,
अपने बन बैठे,
रिश्तों की डोरी में हम,
यहाँ उलझ बैठे,
हैं मात-पिता,भ्राता,बहना,
हैं रिश्ते कई हमारे,
जीवनसाथी के नयन भरे,
कहते ना छीन सहारे,
मर-मर जिस तन का ख्याल किया,
एक चोट में कल तक आह किया,
हैं अंत समय सब मौन खड़े,
कहते ‘डिजिटल’ अब नहीं रहे,
है तन मेरा या मैं तन का मैं कौन हूँ,
हर बार यही एक प्रश्न मगर मैं मौन हूँ|२

1

सब चीख रहे काया लेकर,
मैं कहाँ गया,
मैं कौन कहाँ का वासी,
तन से क्या पाया,
सब कहते जग ठगनी,
झूठी ये माया है,
पर कौन यहाँ इंसान,
समझ ये पाया है,
है जीवन अबूझ पहेली,
हँस ले मनवाँ प्रेम सहेली,
हलचल फिर भी तन में कौन बसा मैं कौन हूँ,
हर बार यही एक प्रश्न मगर मैं मौन हूँ,
हर बार यही एक प्रश्न मगर मैं मौन हूँ|
!!! मधुसूदन !!!

hai kaun basa mere andar main kaun hoon,
har baar yahee ek prashn magar main maun hoon|2
ham nark bhugat nau maas ka
itana sundar kaaya paate,
phir apane is sundar tan par ham,
jeevan bhar itaraate,
bachapan,yauvan kab chhod gaya kab,
paas budhaapa aayee,
hai kaun yahaan apana saathee,
kisako ham kahen paraee,
vishayon mein ulajha samajh saka na kaun hoon,
har baar yahee ek prashn magar main maun hoon|2

ham aaye yahaan akela,
apane ban baithe,
rishton kee doree mein ham,
yahaan ulajh baithe,
hain maat-pita,bhraata,bahana,
hain rishte kaee hamaare,
jeevanasaathee ke nayan bhare,
kahate na chheen sahaare,
mar-mar jis tan ka khyaal kiya,
ek chot mein kal tak aah kiya,
hain ant samay sab maun khade,
kahate dijital ab nahin rahe,
hai tan mera ya main tan ka main kaun hoon,
har baar yahee ek prashn magar main maun hoon|2

sab cheekh rahe kaaya lekar,
main kahaan gaya,
main kaun kahaan ka vaasee,
tan se kya paaya,
sab kahate jag thaganee,
jhoothee ye maaya hai,
par kaun yahaan insaan,
samajh ye paaya hai,
hai jeevan aboojh pahelee,
hans le manavaan prem sahelee,
halachal phir bhee tan mein kaun basa main kaun hoon,
har baar yahee ek prashn magar main maun hoon,
har baar yahee ek prashn magar main maun hoon|
!!! madhusudan !!!

Advertisements

10 thoughts on “Main Kaun Hun?

  1. मै कौन हूँ , यही समझ आने की जरूरत है , समझ आने पर दुख का अनुभव ही नही होगा , आनंद ही आनंद रहेगा …..बहुत अच्छा

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s