Tadapta Insan/तड़पता इंसान

Tadapta Insan/तड़पता इंसान

Images Credit : Google
कलेजा फट रहा माँ का कहीं मासूम रोता है,
ये कैसा धर्म धरती का जहाँ भगवान सोता है।
कहीं पर जात के झगडे,
कहीं हम धर्म में उलझे,
हुए बेसक बहुत विकसित,
मगर दुविधा कहाँ सुलझे,
उलझते नित गए नित अब यहाँ इंसान रोता है,
ये कैसा धर्म धरती का कहाँ अल्लाह सोता है|1
अगर रब है तो क्या लड़ना,
अगर रब है तो क्या डरना,
अगर रब के सभी बन्दे तो फिर,
कोहराम क्या करना,

खडग चलती थी कल तोपों से अब गोला बरसता है,
ये कैसा धर्म धरती का जहाँ इंसान रोता है|2|
फ़िकर धर्मों का सबको है,
सियासत की फिकर सबको,
तड़पते भूख से इंसां मगर,
परवाह है किसको,
मिटा उम्मीद दुनियाँ से,यहाँ शैतान सोता है,
ये कैसा धर्म धरती का जहाँ इंसान रोता है|3
सियासत हँस रहा संग,
हँस रहे हैं धर्म के रक्षक,
भरोसा हम किये जिनपर,
वही बन बैठे हैं भक्षक,
धरा पर खेल ताकत का तड़प इंसान रोता है,
ये कैसा धर्म धरती का जहाँ भगवान सोता है,
बता क्या धर्म धरती का कहाँ अल्लाह सोता है|4
!!! मधुसूदन !!!

काश
अल्लाह ना होते,भगवान् ना होते,
तो शायद
धरती पर इतने फसाद ना होते,
मुश्किल में इंसां के जान ना होते।

N9903144

kaleja phat raha maan ka kaheen maasoom rota hai,
ye kaisa dharm dharatee ka jahaan bhagavaan sota hai,
kaheen par jaat ke jhagade,
kaheen ham dharm mein ulajhe,
hue besak bahut vikasit,
magar duvidha kahaan sulajhe,
ulajhate nit gae nit ab yahaan insaan rota hai,
ye kaisa dharm dharatee ka kahaan allaah sota hai|1
agar rab hai to kya ladana,
agar rab hai to kya darana,
agar rab ke sab bande to phir,
koharaam kya karana,
khadag chalatee thee kal topon se ab gola barasata hai,
ye kaisa dharm dharatee ka jahaan insaan rota hai|2|
fikar dharmon ka sabako hai,
siyaasat kee phikar sabako,
tadapate bhookh se insaan magar,
paravaah hai kisako,
mita ummeed duniyaan se,yahaan shaitaan sota hai,
ye kaisa dharm dharatee ka jahaan insaan rota hai|3

siyaasat hans raha sang,
hans rahe hain dharm ke rakshak,
bharosa ham kiye jinapar,
vahee ban baithe hain bhakshak,
dhara par khel taakat ka tadap insaan rota hai,
ye kaisa dharm dharatee ka jahaan bhagavaan sota hai,
bata kya dharm dharatee ka kahaan allaah sota hai|4
!!! madhusudan !!!

kaash
allaah na hote,bhagavaan na hote,
to shayad
dharatee par itane phasaad na hote,
mushkil men insaan ke jaan naa hote.

Advertisements

29 thoughts on “Tadapta Insan/तड़पता इंसान

    1. बहुत ही ख़ूबसूरतिसे आपने कविता की ब्याख्या कर दी। सही कहा आपने जहाँ इंसान की कीमत नही साथ ही जहां इंसानो में भेदभाव की जाती हो वहां भगवान,अल्लाह नही रह सकते।उस ऊपरवाले के नजर में कौई श्रेष्ठ नही।सभी समान हैं।सुक्रिया आपका।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s