Karm aur bhagya

एक लेकर आया जग में चम्मच सोने का,
दूजा टीन का,
एक बन बैठा था शहंशाह के जैसे जग में,
दूजा हीन सा।।
एक निसदिन इंच खिसकते,अहम में चूर थे,
दूजा कर्मपथ पर,हर पल ही मशगुल थे,
कर दी उसने सत्यानाश,उँच बड़ेरी खोखड़ बाँस,
मगर ज्ञान ना आई लग गई,पाँव में बेड़ी,गर्दन फाँस,
वे ज्ञान की कोई बात,नही थे मानते,
दौलत के मद में ,राह नहीं पहचानते,
खुद बन बैठे हैं इसी जगत में देखो कैसे,
अब हीन सा,
लेकर आये थे जग में चम्मच सोने का,
दूजा टीन का।।1

जैसा को तैसा मिल जाते जग में राजा को रानी,
मूरख को मूरख मिल जाते,मिलते ज्ञानी को ज्ञानी,
कल अज्ञानी थे वही,ज्ञान सिखलाते अब,
थे ज्ञानवान वे,साथ कहाँ रह पाते अब,
सच कहते पूत कपूत तो धन का संचय कैसा,
सब कहते पूत सपूत तो धन का संचय कैसा,
है कर्म बड़ा या भाग्य नहीं हम जानते,
अपनी कर्मों से ही सारे पहचानते,
अब मखमल सेज पर बिछ गई टाट,
तृण का,
लेकर आये थे जग में चम्मच सोने का,
दूजा टीन का।।
खुद बन बैठे हैं इसी जगत में देखो कैसे,
अब हीन सा।।2
!!!मधुसदन!!!

नोट: ये तस्वीर किसी पार्टी को बढ़ावा देने के लिए नहीं और ना ही किसी को नीचा दिखाने के लिए है बल्कि कोई भी इंसान शिखर को पा सकता है अपने मिहनत के बल पर ये दिखाने का एक प्रयास है |

ek lekar aaya jag mein chammach sone ka,
duja teen ka,
ek ban baithe the shahanshaah ke jaise jag mein,
duja heen sa..
ek nisadin inch khisakate,aham mein choor the,
dujaa karmpath par,har pal hi mashagul the,
kar dee usane satyaanaash,unch baderee khokhad baans,
magar gyaan na aaee lag gaee,paanv mein bedee,gardan phaans,
ve gyaan kee koee baat,nahee the maanate,
daulat ke mad mein ,raah nahin pahachaanate,
khud ban baithe hain isee jagat mein dekho kaise,
ab heen sa,
lekar aaye they jag mein chammach sone ka,
duja teen ka..1
jaisa ko taisa mil jaate jag mein raaja ko raanee,
moorakh ko moorakh mil jaate,milate gyaanee ko gyaanee,
kal agyaanee the vahee,gyaan sikhalaate ab,
the gyaanavaan ve,saath kahaan rah paate ab,
sach kahate poot kapoot to dhan ka sanchay kaisa,
sab kahate poot sapoot to dhan ka sanchay kaisa,
hai karm badaa yaa bhagya nahi ham jante,
apni karmon se hi saare pahchante,
ab makhamal sej par bichh gaee taat,
trn ka,
lekar aaye the jag mein chammach sone ka,
dujaa teen ka..
khud ban baithe hain isee jagat mein dekho kaise,
ab heen sa..2
!!!madhusudan!!!

Note: ye tasveer kisee paartee ko badhaava dene ke lie nahin aur na hee kisee ko neecha dikhaane ke lie hai balki koee bhee insaan shikhar ko pa sakata hai apane mihanat ke bal par ye dikhaane ka ek prayaas hai.

Advertisements

17 thoughts on “Karm aur bhagya

  1. पुरुषार्थ से प्रारब्ध को भी बदला जा सकता है,पश्चिम में लोग पुरषार्थ को श्रेष्ठ मानते हैं जिसका परिणाम एक सौंदर्य एवं स्वतंत्रता पूर्ण संस्कृति के रुप में देखने को हमें मिला है, बेहद प्रेरणा दायक कविता

    Liked by 2 people

  2. सुंदर… कटाक्ष ।
    पुनः आप ने एक श्रेष्ठ रचना किये और उसे हम सभी के साथ साझा करने के लिए धन्यवाद ।।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s