Darpan/दर्पण

Images Credit :Googlr
जब हँसते हम तो देख हमें ये दर्पण भी मुश्काता है,
हम रोते गर तन्हाई में संग दर्पण नीर बहाता है,
हम रोते गर तन्हाई में संग दर्पण नीर बहाता है।
मातम हो दर्द,ख़ुशी या कोई भी उलझन का आलम हो,
जब जश्न में डूबे हो सारे और सुना दिल का आँगन हो,
तब देता दर्पण साथ हमें ना मुँह मोड़ कर जाता है,
हम रोते गर तन्हाई में संग दर्पण नीर बहाता है।1
कितना भी राज छुपाये हम हँस-हँसकर कोई काम करें,
बन ठनकर दर्द छुपाने का हम चाहे कुछ भी स्वांग करें,
हम दुनियाँ से बच जाएंगे,दर्पण तो सत्य दिखाता है,
हम रोते गर तन्हाई में संग दर्पण नीर बहाता है ।2

tragedie

एक चोट लगी और टूट गया जैसे दिल मेरा बिखरा है,
एक काँच का नाजुक टुकड़ा दूजा हाड़,मांस का पुतला है,
मैं बिखरा था वह टूट गया फिर भी वह अक्स दिखाता है,
हम रोते गर तन्हाई में संग दर्पण नीर बहाता है ।3
अब बिखरे दर्पण जोड़ रहे हैं हम पागल की भाँति,
अब हमको कौन सहेजे बिखरे कौन हमारा साथी,
आँखों में पल-पल जिनको देखूँ,उनका दर्पण मैं था,
चैन नहीं बिन देखे कल तक उनका धड़कन मैं था,
है प्रेम भरा दिल में कितना अब किसको मैं दिखलाऊँ,
है टूट गया अब साथी दर्पण कैसे नैन मिलाऊँ,
दर्पण तन्हाई का साथी मुस्काउँ तो मुस्काता है,
हम रोते गर तन्हाई में संग दर्पण नीर बहाता है ,
हम रोते गर तन्हाई में संग दर्पण नीर बहाता है ।4
!!! मधुसूदन !!!

2

hanste hain ham to dekh hamen ye darpan bhee mushkaata hai,
ham rote gar tanhaee mein sang darpan neer bahaata hai.
maatam ho dard,khushee ya koee bhee uljhan ka aalam ho,
jab jashn mein doobe ho saare aur suna dil ka aangan ho,
tab darpan deta saath hamen na munh mod kar jaata hai,
ham rote gar tanhaee mein sang darpan neer bahaata hai.1
kitana bhee raaj chhupaaye ham hans-hanskar koee kaam karen,
ban thankar dard chhupaane ka ham chaahe kuchh bhee svaang karen,
duniyaan se ham bach jaenge,darpan to satya dikhaata hai,
ham rote gar tanhaee mein sang darpan neer bahaata hai.2
ek chot lagee aur bikhar gaya jaise dil mera bikhara hai,
tha kaanch ka naajuk darpan dooja haad,maans ka putla hai,
main bikhra tha vah toot gaya phir bhee vah aksh dikhaata hai,
ham rote gar tanhaee mein sang darpan neer bahaata hai.3
ab darpan bikhare jod rahe hain ham paagal kee bhaanti,
ab hamako kaun saheje bikhare kaun hamaara saathee,
aankhon mein pal-pal jinko dekhoon,unka darpan main tha,
chain nahin bin dekhe kal tak unka dhadkan main tha,
hai prem bhara dil mein kitana kisko main dikhalaoon,
Hai toot gaya ab saathi darpan kaise nain milaoon,
tanhaee ka saathee darpan muskaaun to muskaataa hai,
ham rote gar tanhaee mein sang darpan neer bahaata hai ,
ham rote gar tanhaee mein sang darpan neer bahaata hai.4
!!! Madhusudan !!!

25 thoughts on “Darpan/दर्पण

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s