Bharat Gatha (Part.5)

Click here to Read Part..4
Image credit: Google.
आर्य-द्रविड़ की धरती भारत,
सोने की चिड़ियाँ थी भारत,
पड़ी विश्व की नजर कथा उस जम्बूद्वीप की गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ|२
बाहर देश से जो भी आया,
अपनी संस्कृति संग-संग लाया,
बड़े क्रूर और कुटिल लुटेरे,
लेखनी अपनी साथ में लाया,
रौंद रहे थे सभ्य सभ्यता,
बर्बर सभी कबीले थे,
मिटा हमारी इतिहासों को,
अपनी ख्याति रचते थे,
गुप्तवंश का पतन हुआ फिर,
घोर अंधेरा छायी,
बुद्ध और महावीर की भूमि पर,
अराजकता छायी,
तुर्क,अरब,ईरान की आँधी,
के संग-संग धर्मांध चला,
बिन कासिम पहला आक्रांता जिससे
दामन में था दाग लगा,
निर्दयता उसकी मैं जितना
गाऊँ वह कम होगा,
उस जालिम के लिए शब्द को,
कागज भी कम होगा,
वहशीपन उसका क्या गाउँ,
कैसे सिंध की कथा सुनाऊँ,
बिखरे हम लड़ आपस में,उस काल की गाथा गाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ।।

main-qimg-564aa84ea3b562c403b73106d77daad8-c

विश्व को जो परिवार समझता,
हर धर्मों से प्रेम जो करता,
नारी की सम्मान की खातिर,
त्रिभुवन विजयी से जा लड़ता,
उस धरती की सदी सातवीं
से दुर्दशा सुनाऊँ कैसे,
देवी थी जिस धरा पर नारी,
उसका जौहर गाउँ कैसे,
सत्ता का संग्राम हुआ था,
नारी का अपमान हुआ था,
पहले भी थे जंग हुए पर,
ऐसा पहली बार हुआ था,
रौंद रहे थे धरती संग नारी का दर्द सुनाता हूँ,
रौंद दिया सभ्यता उसी भारत की हाल सुनाता हूँ।।

cont………part 6
!!! मधुसूदन !!!

“ये देश हमसभी जाति,धर्मावलंबियों का है,किसी एक की भी उपेक्षा कर इस देश की कल्पना नहीं की जा सकती और उपेक्षा कोई करे भी क्यों, पूर्व में हमसभी तो आर्य-द्रविड़ ही थे।ये भी देखने में नाम दो है परंतु दोनों एक ही हैं,बस उत्तर में रहनेवाले आर्य और दक्षिणवाले को कालान्तर में द्रविड़ कहा जाने लगा,ततपश्चात हम कई धर्म एवं जातियों में विभक्त हो गए। मेरे तरफ से वहीं से एक कविता लिखने का एक छोटा प्रयास,शायद आप सब को पसंद आये।”

aary-dravid kee dharatee bhaarat,
sone kee chidiyaan hain bhaarat,
padee vishv kee najar katha us jambuddp kee gaata hoon,
raunda dee sabhyata usee bhaarat ka haal sunaata hoon 2
baahar desh se jo bhee aaya,
apanee sanskrti sang-sang laaya,
bade kroor aur kutil lutere,
lekhanee apanee saath mein laaya,
raund rahe the sabhy sabhyata,
barbar sabhee kabeele the,
mita hamaaree itihaason ko,
apanee khyaati rachate the,
guptavansh ka patan hua phir,
ghor andhera chhaayee,
saty,ahinsa kee bhoomi par,
araajakata thee chhaayee,
turk,arab,eeraan kee aandhee,
ke sang-sang dharmaandh chala,
bin kaasim aakraanta pahala,
jisase daaman mein daag laga,
nirdayata usakee main jitana
gaoon vah kam hoga,
us jaalim ke lie shabd ko,
kaagaj bhee kam hoga,
vahasheepan usaka kya gaun,
kaise sindh kee katha sunaoon,
bikhare ham lad aapas mein,us kaal kee gaatha gaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon.
vishv ko jo parivaar samajhata,
har dharmon se prem jo karata,
naaree kee sammaan kee khaatir,
tribhuvan vijayee se ja ladata,
us dharatee kee sadee saataveen
se durdasha sunaoon kaise,
devee thee jis dhara par naaree,
usaka jauhar gaun kaise,
satta ka sangraam hua tha,
naaree ka apamaan hua tha,
pahale bhee the jang hue par,
aisa pahalee baar hua tha,
raund rahe the dharatee sang naaree ka dard sunaata hoon,
raund diya sabhyata usee bhaarat kee haal sunaata hoon.
!!! Madhusudan !!!

cont………part 6

“ye desh hamasabhee jaati,dharmaavalambiyon ka hai,kisee ek kee bhee upeksha kar is desh kee kalpana nahin kee ja sakatee aur upeksha koee kare bhee kyon, poorv mein hamasabhee to aary-dravid hee the.ye bhee dekhane mein naam do hai parantu donon ek hee hain,bas uttar mein rahanevaale aary aur dakshinavaale ko kaalaantar mein dravid kaha jaane laga,tatapashchaat ham kaee dharm evan jaatiyon mein vibhakt ho gae. mere taraph se vaheen se ek kavita likhane ka ek chhota prayaas,shaayad aap sab ko pasand aaye.”

Advertisements

32 thoughts on “Bharat Gatha (Part.5)

    1. बहुत अच्छा लगा आपने दस्तक दिया और वर्डप्रेस पर अनगिनत कविताओं के बीच मेरी कविता को पढ़ चार चांद लगाया।

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s