Urmila Patra of Ramayna

Image Credit :Google
बैदेही की बहन उर्मिला,की मैं कथा सुनाऊँ कैसे,
चौदह वर्ष की बिरह,वेदना,त्याग,तपस्या गाउँ कैसे।
जिस गुलशन में अभी-अभी आया बसंत का मेला था,
फूल बनी ओ खिली ही थी की,बिरह ने डाला डेरा था,
प्रियतम ही यमराज बना,सन्देश सुनाने आया,
प्राणहीन काया कैसी ये,समझाने को आया,
सिया-राम संग वन जाने को मन में उसने ठानी,
चौदह वर्ष की बिरह सोच ब्याकुल थी उर्मिल रानी,
सन्नाटे की शोर से हारी,किंकर्तब्यविमूढ़ बेचारी,
साथ चलूंगी वन को मैं भी,प्राणप्रिय को कह कर हारी,
उस बिरहन के बहते आंसू,पीड़ा,दर्द दिखाऊँ कैसे,
चौदह वर्ष की बिरह,वेदना,त्याग,तपस्या गाउँ कैसे।1
चैन महल ना वन में सुख,बना बिधाता कैसा क्रूर,
दोनों एक दूजे के नूर, फर्ज निभाते और दस्तूर,
बोझ बने कपडे,आभूषण,मौन सदा रहता ब्याकुल मन,
बिस्तर प्राणप्रिय की माटी कुशा-बिछौना,सेज न भाति,
कंद-मूल जब पति ही खाते,अन्न कैसे फिर मुख में जाते,
लखन गृह जंगल था जैसे,उर्मि महल बनाया वैसे,
होते बिरहन के पल कैसे,सती हृदय पहचाने कैसे,
चौदह वर्ष की विरह वेदना को मूरख हम जाने कैसे,
एक-एक पल मुश्किल जीना,प्राण लखन का उर्मि सीना,
कैसे अश्रुहीन नयन क्या ह्रदय ज्वार दिखलाऊँ कैसे,
चौदह वर्ष की बिरह,वेदना,त्याग,तपस्या गाउँ कैसे।2
ख़ुशी मनाते नगर के सारे,बुढ्ढे,बच्चे,नर-नारी,
सीता-राम,लखन थे आये, झूम रहे थे नर-नारी,
चौदह वर्ष अमावस गुजरी,लौट के आयी खुशहाली,
उर्मि देख रही तन दर्पण,चौदह वर्ष की बदहाली,
रामायण ना कोई ऐसा बिरह नहीं उर्मि के जैसा,
शब्द नहीं ना ज्ञान की नजरें,तड़प को मैं दर्शाऊँ कैसे,
चौदह वर्ष की बिरह,वेदना,त्याग,तपस्या गाउँ कैसे।3
नारी का सम्मान जहां,ईश्वर का वहीँ बसेरा,
नारी का अपमान जहां होता है भुत का डेरा,
त्याग, प्रेम से भरी किताबें,सतयुग,द्वापर,त्रेता,
ईश्वर भी नतमस्तक उसका कोई लेख न लेखा,
मैं तो हूँ नादान अभी मैं,त्याग,प्रेम दिखलाऊँ कैसे,
चौदह वर्ष की बिरह,वेदना,त्याग,तपस्या गाउँ कैसे,
बैदेही की बहन उर्मिला,की मैं कथा सुनाऊँ कैसे।4
!!! मधुसूदन !!!<

Cont…..Part..2

baidehee kee bahan urmila,kee main katha sunaoon kaise,
chaudah varsh kee birah,vedana,tyaag,tapasya gaun kaise.
jis gulashan mein abhee-abhee aaya basant ka mela tha,
phool banee o khilee hee thee kee,birah ne daala dera tha,
priyatam hee yamaraaj bana,sandesh sunaane aaya,
praanaheen kaaya kaisee ye,samajhaane ko aaya,
siya-raam sang van jaane ko usane man mein thaanee,
chaudah varsh kee birah soch byaakul thee urmil raanee,
sannaate kee shor se haaree,kinkartabyavimoodh bechaaree,
saath chaloongee van ko main bhee,praanapriy vinatee kar haaree,
jharajhar bahate aansoo, peeda,dard ko main dikhalaoon kaise,
chaudah varsh kee birah,vedana,tyaag,tapasya gaun kaise.1
chain mahal na van mein sukh,bana bidhaata kaisa kroor,
donon ek dooje ke noor, pharj nibhaate aur dastoor,
bojh bane kapade,aabhooshan,maun sada rahata byaakul man,
praanapriye kee bistar maatee,kusha bichhauna sej na bhaati,
kand-mool jab pati hee khaate,ann kaise phir mukh mein jaate,
lakhan grh jangal tha jaise,urmi mahal banaaya vaise,
hoye kaise virahan ke pal,satee hrday kaise kya jaanen,
chaudah varsh kee virah vedana ko moorakh ham kya pahachaanen
ek-ek pal mushkil jeena,praan lakhan ka urmi seena,
kaise ashruheen nayan kya hraday jvaar dikhalaoon kaise,
chaudah varsh kee birah,vedana,tyaag,tapasya gaun kaise.2
khushee manaate nagar ke saare,budhdhe,bachche,nar-naaree,
seeta-raam,lakhan the aaye, jhoom rahe the nar-naaree,
chaudah varsh amaavas gujaree,laut ke aayee khushahaalee,
urmi dekh rahee tan darpan,chaudah varsh kee badahaalee,
raamaayan na koee aisa birah nahin urmi ke jaisa,
shabd nahin na gyaan kee najaren,tadap ko main darshaoon kaise,
chaudah varsh kee birah,vedana,tyaag,tapasya gaun kaise.3
naaree ka sammaan jahaan,eeshvar ka vaheen basera,
naaree ka apamaan jahaan hota hai bhut ka dera,
tyaag, prem se bharee kitaaben,satayug,dvaapar,treta,
eeshvar bhee natamastak usaka koee lekh na lekha,
main to hoon naadaan abhee main,tyaag,prem dikhalaoon kaise,
chaudah varsh kee birah,vedana,tyaag,tapasya gaun kaise,
baidehee kee bahan urmila,kee main katha sunaoon kaise.4
! madhusudan !!!

Cont…..Part..2

Advertisements

56 thoughts on “Urmila Patra of Ramayna

    1. उर्मिला सीता की बहन और राम के भाई लक्ष्मन की पत्नी थी जिसने चौदह वर्ष पति के वियोग में खुद को जंगल के निवासी की भाति महलों में रहना खाना आरम्भ करने के साथ साथ माताओं को सम्हालने में दिल में आपार दर्द होने के बावजूद आँखों में आंसू नहीं आने दी जिसकी तुलसीकृत रामायण में बहुत ही कम चित्रित किया गया है।

      Liked by 2 people

    1. तुलसी कृति रामायण में कम वर्णन है। लेकिन किसी ने रामायण में उर्मिला का कम वर्णन होने से आलोचना कर उर्मिला का ही वर्णन किया है। मुझे उस राइटर का नाम याद नहीं आ रहा है।

      Liked by 1 person

      1. मैथिलीशरण गुप्त जी की रचना, ‘साकेत’ में उर्मिला के जीवन तथा विरह का सुंदर वर्णन किया गया है।

        Liked by 2 people

Leave a Reply to arvindupadhyayk Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s