Sainik Ki Lalkaar

Image Credit :Google
हे भारत माँ के राजतिलक,पालक खुद का अपमान ना कर,
अब छदम युद्ध की ज्वाला में हम सैनिक को कुर्बान ना कर।
हम भारत माँ के पुत्र हैं इसके,
शान में कुछ भी कर जायें,
हम भूल के अपनों के हर गम,
खुद को न्योछावर कर जायें,
आजाद,भगत हर एक सैनिक,
फौलाद जिगर हम रखते हैं,
दुश्मन को सबक सिखाने को,
हर वक़्त मौत से लड़ते रहते है,
हे जननायक,पालक मेरे तुम ऐसा कोई काम ना कर,
अब छदम युद्ध की ज्वाला में हम सैनिक को कुर्बान ना कर।
कोई माँ के आंखों का तारा,
पत्नी का कोई सहारा है,
कोई बहन की यादों में बसता,
कोई पुत्र छोड़ कर आया है,
है ख्वाब अलग,संसार अलग,
है भारत माँ का ज्वार अलग,
माँ ने बढ़ तिलक लगाया है,
पत्नी ने दीप दिखाया है,
अपनों का देखो जान हैं हम,
बसता तन में ओ प्राण हैं हम,
हम सब की याद दफ़न कर के,
खुद जान लुटाने आये हैं,
दुश्मन की जितनी साजिश है,
हम उसे मिटाने आये हैं,
गम बिना जंग मिट जाने का तुम ऐसा ब्रत और ध्यान ना कर,
अब छदम युद्ध की ज्वाला में हम सैनिक को कुर्बान ना कर।
हम प्रेम पुजारी हैं जग का,
नफरत का हम ना बात करे,
जो आँख दिखाए हमको तो,
हम उसको कैसे माफ़ करें,
हम में बल बनकर जो बैठा,
हनुमान उसे हम कहते हैं,
हैं राम हमारे तन मन में,
भगवान् जिसे हम कहते हैं,
हे नायक अब तुम राम बनो,
हम बन हनुमान दिखा देंगे,
दुश्मन की प्यारी नगरी को,
पल भर में राख बना देंगे,
अब मौन छोड़ ललकार मुझे,बस और सहन अपमान ना कर,
अब छदम युद्ध की ज्वाला में हम सैनिक को कुर्बान ना कर,
अब छदम युद्ध की ज्वाला में हम सैनिक को कुर्बान ना कर।
!!! मधुसूदन !!!

Hey bhaarat maan ke raajatilak,paalak khud ka apamaan na kar,
ab chhadam yuddh kee jvaala mein ham sainik ko kurbaan na kar.
ham bhaarat maan ke putr hain isake,
shaan mein kuchh bhee kar jaayen,
ham bhool ke apanon ke har gam,
khud ko nyochhaavar kar jaayen,
aajaad,bhagat har ek sainik,
phaulaad jigar ham rakhate hain,
dushman ko sabak sikhaane ko,
har vaqt maut se ladate rahate hai,
he bhaarat maan ke raajatilak,paalak khud ka apamaan na kar,
ab chhadam yuddh kee jvaala mein ham sainik ko kurbaan na kar.
ham bhaarat maan ke putr hain isake,
shaan mein kuchh bhee kar jaayen,
ham bhool ke apanon ke har gam,
khud ko nyochhaavar kar jaayen,
aajaad,bhagat har ek sainik,
phaulaad jigar ham rakhate hain,
dushman ko sabak sikhaane ko,
har vaqt maut se ladate rahate hai,
he jananaayak,paalak mere tum aisa koee kaam na kar,
ab chhadam yuddh kee jvaala mein ham sainik ko kurbaan na kar.
ham prem pujaaree hain jag ka,
napharat ka ham na baat kare,
jo aankh dikhae hamako to,
ham usako kaise maaf karen,
ham mein bal banakar jo baitha,
hanumaan use ham kahate hain,
hain raam hamaare tan man mein,
bhagavaan jise ham kahate hain,
he naayak ab tum raam bano,
ham ban hanumaan dikha denge,
dushman kee pyaaree nagaree ko,
pal bhar mein raakh bana denge,
ab maun chhod lalakaar mujhe,bas aur sahan apamaan na kar,
ab chhadam yuddh kee jvaala mein ham sainik ko kurbaan na kar,
ab chhadam yuddh kee jvaala mein ham sainik ko kurbaan na kar.
!!!Madhusudan!!!

Advertisements

27 thoughts on “Sainik Ki Lalkaar

  1. उत्कृष्ट रचना… सर जी
    आजाद,भगत हर एक सैनिक,
    फौलाद जिगर हम रखते हैं,
    दुश्मन को सबक सिखाने को,
    हर वक़्त मौत से लड़ते रहते है ।।

    Liked by 1 person

    1. What is the cost of a life seen by a soldier’s house? We all have the desire to become a soldier for the country but not at all in this way…..Thanks for your appreciations.

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s