RAJIYA SULTAN/रजिया सुल्तान

Image Credit :Google
बारहवीं सदी जब नारियों पर पर्दा हावी थी,
औरतों की दुनियाँ महलों की चहारदीवारी थी,
तब एक स्त्री दिल्ली की सल्तनत पाई थी,
अपनी सूझबूझ से दिल्ली की शान बढ़ाई थी,
नाम था रजिया विरांगना एक नारी थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी।
उतार फेंका बुर्के,औरतों के लिबास को,
तोड़ दी झूठे रस्मों-रिवाज को,
वेश में पुरुषों की दरबार लगाती थी,
चूड़ी के बदले खनक तेग की दिखाती थी,
सुल्ताना के बदले सुल्तान कही जाती थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी।
ऐबक का दास इल्तुतमिश की संतान,
अपने भाई,बहनों में श्रेष्ठ और गुणवान,
बचपन से तेग,तलवार ही खिलौना था,
घोड़े की पीठ पर उसका बिछौना था,
पिता को भी अपने बेटी पर नाज था,
सल्तनत उसे सौंप दूँ उसका ये ख्वाब था,
ख्वाब को हकीकत करने की ठानी थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी।

A-pictoral-representation-of-Sultan-Raziya

वीर थी रजिया फिर भी एक नारी थी,
पुरुष मानसिकता से जंग उसका जारी थी,
नारी के समक्ष झुकना तुर्कों को मंजूर नही,
रजिया बने शासक तुर्कों को कबूल नही,
मौत हुआ इल्तुतमिश का पुत्र योग्यताहीन था,
मगर तुर्क सरदारों के मर्जी से सत्तासीन था,
डूब गया ऐयासी में वह अराजकता छाने लगी,
तुर्क सरदारों को तब अयोग्यता नजर आने लगी,
भाई को हटा गद्दी पाई रजिया नारी थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी।
एक चूक खेल खतम,नियम है जंग की,
मारो या मिट जाओ,नियम है जंग की,
सिंघासन पर बैठना आसान नहीं है,
ये पद कोई श्रृंगार का सामान नहीं है,
जिगरा हो शेर का बाजुओं में दम,
सिंघासन के ऊपर वही रखता कदम,
सल्तनत को रजिया अपना नाम दे दिया,
दुनियाँ में नारी का पहचान दे दिया,
सुकृत्य से वह अपने जन-जन की प्यारी थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी।

Razia-Sultan-

दिल्ली सल्तनत फिर रंग में आने लगी,
हिम्मत और सूझबूझ रंगत दिखाने लगी,
फिर भी दंड चुकाना पड़ा उसे नारी होने का,
प्रेम,सिंघासन संग जान तक गँवाना पड़ा,
याकूब एक हब्शी रजिया का सेवादार था,
तुर्की सरदारों को उसकी निकटता से ऐतराज था,
रजिया इन बातों से बेखौफ रहा करती थी,
हरपल याकुब को वह साथ रखा करती थी,
याकूब कभी तुर्कों को स्वीकार नहीं था,
नारी को शायद प्रेम का अधिकार नहीं था,
चलता रहा षड़यंत्र महल में तुर्क सरदारों का,
मष्तिष्क पर छाया रहा याकूब उन गद्दारों का,
इधर बेखबर रजिया इतिहास रचती रही,
अपने दुश्मनों से जंग फतह करती रही,
बावजूद सरदारों का रोष अभी जारी थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी।

550d174995f533647a402ef047b699aa--india-art-traditional-paintings

हिन्द की प्यारी थी अपनो की बनी शूल,
याकूब की करीबी बनी उसकी बड़ी भूल,
जीवन है धूप कभी छाँव का बसेरा,
दुश्मन नहीं भीतरघात उसे घेरा,
अल्तुनिया भटिंडा का बचपन का साथी,
एकतरफा प्रेम में बन बैठा था घाती,
दुश्मन थे आगे साथ में भी दुश्मन,
अपनों का उसपर आघात हो गया,
दुश्मन की हिम्मत कहाँ थी कभी,
अपनों का ही भीतरघात हो गया,
मिट गया याकूब कैद हुई रजिया,
सिंघासन पर भाई का अधिकार हो गया,
रजिया का सुना संसार हो गया,
फिर भी धैर्यवान नार हार नही मानी थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी।
पिता का ख्याल और सल्तनत का सोंचकर,
अपनी भावनाओं के आँसू को रोककर,
अल्तुनिया से उसने निकाह कर लिया,
दिल्ली की ओर प्रस्थान कर दिया,
मगर ये तरकीब उसे काम नही आई,
टूट चुकी थी खुद को सम्हाल नहीं पाई,
हार गई अपने भाई बेहराम से,
हार गई पुरुषों के सोंच और ख्याल से,
कैथल में जीवन का शाम हो गया,
रजिया का अंतिम विश्राम हो गया,
दफन हुई नार जीते जी ना हारी थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी,
मल्लिकाए-हिन्द पुरुषों पर भारी थी।
!!!मधुसूदन!!!
Baarahaveen sadee jab naariyon par parda haavee thee,
auraton kee duniyaan mahalon kee chahaaradeevaaree thee,
tab ek stree dillee kee saltanat paee thee,
apanee soojhaboojh se dillee kee shaan badhaee thee,
naam tha rajiya viraangana ek naaree thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee.
utaar phenka burke,auraton ke libaas ko,
tod dee jhoothe rasmon-rivaaj ko,
vesh mein purushon kee darabaar lagaatee thee,
choodee ke badale khanak teg kee dikhaatee thee,
sultaana ke badale sultaan kahee jaatee thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee.
aibak ka daas iltutamish kee santaan,
apane bhaee,bahanon mein shreshth aur gunavaan,
bachapan se teg,talavaar hee khilauna tha,
ghode kee peeth par usaka bichhauna tha,
pita ko bhee apane betee par naaj tha,
saltanat use saump doon usaka ye khvaab tha,
khvaab ko hakeekat karane kee thaanee thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee.
veer thee rajiya phir bhee ek naaree thee,
purush maanasikata se jang usaka jaaree thee,
naaree ke samaksh jhukana turkon ko manjoor nahee,
rajiya bane shaasak turkon ko kabool nahee,
maut hua iltutamish ka putr yogyataaheen tha,
magar turk saradaaron ke marjee se sattaaseen tha,
doob gaya aiyaasee mein vah araajakata chhaane lagee,
turk saradaaron ko tab ayogyata najar aane lagee,
bhaee ko hata gaddee paee rajiya naaree thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee.
ek chook khel khatam,niyam hai jang kee,
maaro ya mit jao,niyam hai jang kee,
singhaasan par baithana aasaan nahin hai,
ye pad koee shrrngaar ka saamaan nahin hai,
jigara ho sher ka baajuon mein dam,
singhaasan ke oopar vahee rakhata kadam,
saltanat ko rajiya apana naam de diya,
duniyaan mein naaree ka pahachaan de diya,
sukrty se vah apane jan-jan kee pyaaree thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee.
dillee saltanat phir rang mein aane lagee,
himmat aur soojhaboojh rangat dikhaane lagee,
phir bhee dand chukaana pada use naaree hone ka,
prem,singhaasan sang jaan tak ganvaana pada,
yaakoob ek habshee rajiya ka sevaadaar tha,
turkee saradaaron ko usakee nikatata se aitaraaj tha,
rajiya in baaton se bekhauph raha karatee thee,
harapal yaakub ko vah saath rakha karatee thee,
yaakoob kabhee turkon ko sveekaar nahin tha,
naaree ko shaayad prem ka adhikaar nahin tha,
chalata raha shadayantr mahal mein turk saradaaron ka,
mashtishk par chhaaya raha yaakoob un gaddaaron ka,
idhar bekhabar rajiya itihaas rachatee rahee,
apane dushmanon se jang phatah karatee rahee,
baavajood saradaaron ka rosh abhee jaaree thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee.
hind kee pyaaree thee apano kee banee shool,
yaakoob kee kareebee banee usakee badee bhool,
jeevan hai dhoop kabhee chhaanv ka basera,
dushman nahin bheetaraghaat use ghera,
altuniya bhatinda ka bachapan ka saathee,
ekatarapha prem mein ban baitha tha ghaatee,
dushman the aage saath mein bhee dushman,
apanon ka usapar aaghaat ho gaya,
dushman kee himmat kahaan thee kabhee,
apanon ka hee bheetaraghaat ho gaya,
mit gaya yaakoob kaid huee rajiya,
singhaasan par bhaee ka adhikaar ho gaya,
rajiya ka suna sansaar ho gaya,
phir bhee dhairyavaan naar haar nahee maanee thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee.
pita ka khyaal aur saltanat ka sonchakar,
apanee bhaavanaon ke aansoo ko rokakar,
altuniya se usane nikaah kar liya,
dillee kee or prasthaan kar diya,
magar ye tarakeeb use kaam nahee aaee,
toot chukee thee khud ko samhaal nahin paee,
haar gaee apane bhaee beharaam se,
haar gaee purushon ke sonch aur khyaal se,
kaithal mein jeevan ka shaam ho gaya,
rajiya ka antim vishraam ho gaya,
daphan huee naar jeete jee na haaree thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee,
mallikae-hind purushon par bhaaree thee.
!!!Madhusudan!!!

45 thoughts on “RAJIYA SULTAN/रजिया सुल्तान

  1. लक्ष्मी बाई हो या रजिया सुल्तान,
    थीं ये नारी शक्ति की पहचान।
    नारी तो रह सकती है सदा सब पर भारी,
    कभी माँ, बहन, तो कभी बनकर प्राणप्यारी।
    नारी शक्ति को पुरुषों ने ना पहचाना,
    कभी उसको अपने ऊपर नहीं माना।
    बस यही विडम्बना रही इस नारी की,
    होती स्वर्ग ये धरती, यदि होती पूजा नारी की।

    Liked by 4 people

    1. वाह।।वाह।।बहुत ही बेहतरीन पंक्तियाँ।धन्यवाद आपका पसंद करने और सराहने के लिए।

      Liked by 1 person

  2. जिगरा हो शेर का बाजुओं में दम,
    सिंघासन के ऊपर वही रखता कदम ।।
    सूंदर रचना सर जी … नारी शक्ति को बड़े ही सुंदर और विस्तृत चित्रण ।।

    Liked by 3 people

  3. भई वाह वाह! ऐतिहासिक व्यक्तिव्य का वर्णन करने में आपकी दक्षता सराहनीय है..हम तो लिखने के लिए लिखते हैं , आपके लेखनी से आपके इतिहास की पकड़ जग जाहिर होती है..उम्दा है ये वाला भी!

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s