JINDGI TUN KAUN MAIN KAUN HUN

Image Credit : Google
जिंदगी तूँ कौन है मैं कौन हूँ बतला मुझे,
है कहाँ मेरा ठिकाना ये जरा समझा मुझे।
जब से पाया पाँव मैं चलता रहा बढ़ता रहा,
विघ्न कितने रास्तों में आए मैं लड़ता रहा,
मिल गयी मंजिल मगर फिर क्यों उदासी साथ में,
जश्न छाया चंद पल फिर क्यों वीरानी पास में,
चल पड़ा फिर छोड़ मंजिल क्यों हमारी जिंदगी,
राह नित गढ़ता रहा क्यों बोल मेरी जिंदगी,
हैं कहाँ साहिल हमारा जिंदगी बतला मुझे,
है कहाँ मेरा ठिकाना ये जरा समझा मुझे।

old-man-stick_1385565i

अक्स देखा आईने में नित बदलते सामने,
जिंदगी यौवन को ढलते मैंने देखा सामने,
खो गए कितने हमारे जो जिगर और जान थे,
जो बचे है चंद पल के वे भी अब मेहमान हैं,
मिट गए वे हैं कहाँ क्या और भी एक है जहाँ,
इस जहाँ से उस जहाँ का बोल राहें है कहाँ,
है सफर कैसा बता अब ऐ हमारी जिंदगी,
कौन मंजिल है हमारी बोल मेरी जिंदगी,
थक गए हैं पाँव बस अब जिंदगी बतला मुझे,
है कहाँ मेरा ठिकाना ये जरा समझा मुझे,
है कहाँ मेरा ठिकाना ये जरा समझा मुझे।
!!!मधुसूदन!!!

jindagee toon kaun hai main kaun hoon batala mujhe,
hai kahaan mera thikaana ye jara samajha mujhe|
jab se paaya paanv main chalata raha badhata raha,
vighn kitane raaston mein aae main ladata raha,
mil gayee manjil magar phir kyon udaasee saath mein,
jashn chhaaya chand pal phir kyon veeraanee paas mein,
chal pade phir chhod manjil kyon hamaaree jindagee,
raah nit gadhate rahe kyon bol meree jindagee,
hain kahaan saahil hamaara jindagee batala mujhe,
hai kahaan mera thikaana ye jara samajha mujhe.
aks dekha aaeene mein nit badalate saamane,
jindagee yauvan ko dhalate mainne dekha saamane,
kho gae kitane hamaare jo jigar aur jaan the,
saath hain jo chand pal ke ve bhee ab mehamaan hain,
mit gae ve hain kahaan kya aur bhee ek hai jahaan,
is jahaan se us jahaan ka bol raahen hai kahaan,
hai saphar kaisa bata de ai hamaaree jindagee,
kaun hai manjil hamaara bol meree jindagee,
thak gae saahil hamaara jindagee batala mujhe,
hai kahaan mera thikaana ye jara samajha mujhe,
hai kahaan mera thikaana ye jara samajha mujhe.
!!!Madhusudan!!!

25 thoughts on “JINDGI TUN KAUN MAIN KAUN HUN

  1. खो गए कितने हमारे जो जिगर और जान थे,
    जो बचे है चंद पल के वे भी अब मेहमान हैं,
    Yehi baat ek khalipan ka ehsaas deti hai mujhe
    Ae Zindagi tu kyun tanha kar jaati hai mujhe

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s