Chand

Image Credit :Google
मजहब है ना चाँद का कोई,
हम सब की मजहब में चाँद,
जिसकी जैसी आँखें वैसी,
आँखों में दिखता है चाँद।
कोई कहता चन्दा मामा,
कोई कहता दूज का चाँद,
करवाचौथ के व्रत को तोड़ा,
थाल में देखी जब वो चाँद,
राजा दक्ष के चाँद जमाई,
शीश शुशोभित शिव-शम्भू,
सारे जग को शीतल करता,
तू सारे जग के बंधू,
मगर हमारे मन-मस्तिष्क में,
तू है मामा मेरे चाँद,
जिसकी जैसी आँखें वैसी,
आँखों में दिखता तूँ चाँद।
एक माह रमजान का रोजा,
कठिन तपस्या व्रत भारी,
जब दिखता तूँ आसमान में,
घर-घर छाती खुशहाली,
सिर पर टोपी,वस्त्र नए,
हर घर में बनती है पकवान,
एक माह रमजान का रोजा,
देख तोड़ता ईद का चाँद,
तू मेरे धड़कन से बढ़कर,
बिन तेरे सब धूल समान,
जिसकी जैसी आँखें वैसी,
आँखों में दिखता तूँ चाँद।
सबका प्यारा चन्दा फिर भी,
धरती पर तुम मत आना,
तेरे टुकड़े कर देंगे हम,
मजहब के हम दीवाना,
फिर ना होगा चँदा मामा,
करवाचौथ नहीं होगा,
खुशियों का रमजान महीना,
ईद मुबारक ना होगा,
मजहब माना नहीं है तेरी,
मगर हमारी मजहब जान,
हमसब से तुम दूर ही रहना,
मेरे प्यारे मेरे चाँद,
जिसकी जैसी आँखें वैसी,
आँखों में दिखता तूँ चाँद
हमसब से तुम दूर ही रहना,
मेरे प्यारे मेरे चाँद,
!!!मधुसुदन !!!

Majahab hai na chaand ka koee,
ham sab kee majahab mein chaand,
jisakee jaisee aankhen vaisee,
aankhon mein dikhata hai chaand.
koee kahata chanda maama,
koee kahata dooj ka chaand,
karavaachauth ke vrat ko toda,
thaal mein dekhee jab vo chaand,
raaja daksh ke chaand jamaee,
sheesh shushobhit shiv-shambhoo,
saare jag ko sheetal karata,
too saare jag ke bandhoo,
magar hamaare man-mastishk mein,
too hai maama mere chaand,
jisakee jaisee aankhen vaisee,
ek maah ramajaan ka roja,
kathin tapasya vrat bhaaree,
jab dikhata toon aasamaan mein,
ghar-ghar chhaatee khushahaalee,
sir par topee,vastr nae,
har ghar mein banatee hai pakavaan,
ek maah ramajaan ka roja,
dekh todata eed ka chaand,
too mere dhadakan se badhakar,
bin tere sab dhool samaan,
jisakee jaisee aankhen vaisee,
aankhon mein dikhata toon chaand.
sabaka pyaara chanda phir bhee,
dharatee par tum mat aana,
tere tukade kar denge ham,
majahab ke ham deevaana,
phir na hoga chanda mama,
karavaachauth nahin hoga,
khushiyon ka ramajaan maheena,
eed mubaarak na hoga,
majahab maana nahin hai teree,
magar hamaaree majahab jaan,
hamasab se tum door hee rahana,
mere pyaare mere chaand,
jisakee jaisee aankhen vaisee,
aankhon mein dikhata toon chaand
hamasab se tum door hee rahana,
mere pyaare mere chaand,
!!!Madhusudan !!!

51 thoughts on “Chand

  1. फिर ना होगा मामा जैसा,
    करवाचौथ नहीं होगा,
    खुशियों का रमजान महीना,
    ईद मुबारक ना होगा,
    मजहब माना नहीं है तेरी,
    मगर हमारी मजहब जान,

    वाह चाँद के जरिये आपका मज़हबी तंज़ शानदार है।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s